Saturday, January 23, 2021

बेटी से करवाना चाहते थे जबरन मजदूरी, समझाइश के लिए यूपी से आये पिता की ली जान, दोनों पक्षों के 5 घायल

 


 भीलवाड़ा विजय गढ़वाल। बेटी से झगड़े की सूचना पर उत्तरप्रदेश से आये पिता, बड़ी बेटी सहित तीन जनों पर दामाद व उसके पिता के बीच कहासुनी के बाद खूनी जंग छिडऩे से दोनों पक्षों के पांच लोग घायल हो गये। इनमें से घायल ससुर ने उदयपुर में उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया। 
कोटड़ी थाने के सहायक उप निरीक्षक नरेंद्रकुमार ने हलचल को बताया कि जिला अलीगढ़, उत्तरप्रदेश निवासी सुरेश सिंह पुत्र किरोड़ी सिंह अहीरिया राजपूत (45) की बेटी पिंकी, अभी पति विक्रम सिंह के साथ कोटड़ी थाने के गाडरीखेड़ा स्थित गारनेट प्लांट पर झोंपड़ी में रह रही थी। यहां विक्रम का पिता राजू सिंह, मां मीरां व अन्य परिजन भी रह रहे थे। 
ये लोग सुरेश सिंह की बेटी पिंकी से जबरन मजदूरी करवाना चाहते थे। पिंकी मजदूरी नहीं करना चाहती थी। इसी को लेकर पिंकी का पति व ससुराल पक्ष के लोगों से झगड़ा हो गया। पिंकी ने इसकी जानकारी फोन से अपने पिता सुरेश सिंह को दी। इसके चलते सुरेश सिंह, बड़ी बेटी राजकुमारी व काका के बेटे किशन के साथ कार लेकर उत्तरप्रदेश से गाडरीखेड़ा दो दिन पहले आया था। 
शुक्रवार को पिंकी से झगड़े का उलाहना देने पर सुरेश सिंह से उसके ब्याई राजू सिंह व दामाद विक्रम से झगड़ा हो गया। इसके बाद दोनों पक्ष आमने-सामने हो गये और लाठियों से एक-दूसरे पर हमला कर दिया। 
इस झगड़े में सुरेश सिंह, इसकी बेटी राजकुमार, काका का बेटा किशन सिंह, जबकि दूसरे पक्ष े राजू सिंह, उसकी पत्नी मीरां घायल हो गये थे। झगड़े की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और घायलों को कोटड़ी अस्पताल पहुंचाया, जहां से तीन घायलों को भीलवाड़ा रैफर कर दिया, जबकि दो को कोटड़ी में प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई। उधर, हालत गंभीर होने से सुरेश सिंह को भीलवाड़ा से उदयपुर रैफर कर दिया गया। जहां उपचार के दौरान सुरेश सिंह ने दम तोड़ दिया। सूचना पर पुलिस उदयपुर गई, जहां पोस्टमार्टम कराने के बाद शव परिजनों को सौंप दिया। पुलिस मामले की जांच कर रही है। 

अलीगढ़ में दर्ज करवाया था दहेज प्रताडऩा का मामला
सुरेश सिंह की बेटी पिंकी का ससुराल वालों से विवाद चल रहा था। इसे लेकर पिंकी ने कुछ समय पहले अलीगढ़ जिले में ही दहेज प्रताडऩा का केस दर्ज करवाया था। इसे लेकर दोनों पक्षों के बीच बातचीत होकर विवाद का निबटारा चार जनवरी को कर लिया था। इसके बाद पिंकी को लेकर उसका पति व ससुराल पक्ष के लोग गाडरीखेड़ा आ गये थे। यहां भी ये लोग पिंकी को जबरदस्ती मजदूरी करवाना चाहते थे और इसी को लेकर यह विवाद खूनीसंघर्ष के रूप में तब्दील हो गया, जिसमें पिंकी के पिता की मौत हो गई।  

भीलवाड़ा में कोरोना का महाब्लास्ट, 407 नये पॉजिटिव, मांडल, बापूनगर, मांडलगढ़ बने हॉट स्पॉट

   भीलवाड़ा हलचल। भीलवाड़ा में कोरोना का शनिवार को महाब्लास्ट हुआ है। कोरोना ने पुराने सभी रेकार्ड तोडते हुये अपना रौद्र रुप दिखाया है। शनिव...