नाबालिग के अपहरण और दुष्कर्म के आरोपित ने जेल के बाथरूम में फांसी लगाकर दी जान

 


दौसा जिला जेल में बुधवार को एक बंदी ने बाथरूम में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। वह कुछ दिन पहले ही नाबालिग से दुष्कर्म और उसकी हत्या के आरोप में गिरफ्तार हुआ था। बंदी को फांसी से लटका देखकर पुलिस उसे तुरंत अस्पताल लेकर पहुंची। जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। शव को पोस्टमार्टम के लिए मोर्चरी में रखवाया गया है।

पुलिस ने बताया कि बंदी मदनलाल पुत्र किशनलाल सुबह नहाने के लिए जेल के बाथरूम में घुसा था। उसने रोशनदान से फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। जब वह काफी देर तक बाहर नहीं निकला तो साथी कैदी ने अंदर झांककर देखा। वहां मदनलाल फंदे पर लटका हुआ था। कैदियों ने तुरंत घटना की सूचना जेल प्रशासन को दी। इसके बाद कैदियों की मदद से बाथरूम को खोल कर मदनलाल का शव बाहर निकाला गया। एएसपी अनिल सिंह चौहान, एडीएम लोकेश मीणा सहित पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे।

 शक में कर दी थी हत्या
मदनलाल नाबालिग से दुष्कर्म और उसकी हत्या के मामले में जेल में बंद था। मामला सिकंदरा थाना क्षेत्र का था। पुलिस ने बताया था कि मदनलाल ने  नाबालिग को 2 साल से फंसा रखा था। नाबालिग आरोपी से प्रेम नहीं करती थी। किसी दूसरे लड़के से अफेयर होने के शक में आरोपी ने 23 जनवरी को शाम 7 बजे नाबालिग से ज्यादती कर उसकी हत्या कर दी थी।

 
पूरे मामले में पुलिस ने 22 घंटे में खुलासा करते हुए मदनलाल को 24 जनवरी को गिरफ्तार कर लिया था। उसे 3 दिन की पुलिस कस्टडी के बाद 27 जनवरी को ज्यूडिशियल कस्टडी में भेज दिया गया था। इसके बाद से आरोपी दौसा जेल में बंद था।

Popular posts from this blog

भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव : भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 22 और निर्दलीय ने जीती 17 सीटें, बोर्ड के लिए जोड़ तोड़

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक