दवा के सेवन से भी ब्लड शुगर कंट्रोल नहीं हो रही तो इन 4 चीज़ों का करें सेवन

 


लाइफस्टाइल डेस्क। शुगर खराब लाइफस्टाइल और खान-पान से पनपने वाली ऐसी बीमारी है जिनके मरीज़ों की तादाद दिनो-दिन बढ़ती जा रही है। भारत में डायबिटीज़ के मरीजों की संख्या बहुत तेजी से बढ़ी है। इंटरनेशनल डायबिटीज़ फेडरेशन के मुताबिक भारत में 2019 तक डायबिटीज के मरीजों की संख्या 7.7 करोड़ थी, जो लगातार बढ़ती जा रही है। शुगर एक ऐसी बीमारी है जिसे समय रहते कंट्रोल करना बेहद जरूरी है, वरना यह बॉडी को कई तरह की बीमारियों की गिरफ्त में धकेल देती है। शुगर को कंट्रोल करने के लिए बैलेंस डाइट और खान-पान में परहेज़ करना बेहद जरूरी है। कुछ लोगों की शुगर इतनी ज्यादा हाई रहती हैं कि दवाईयों का सेवन करने के बावजूद भी कम नहीं होती। दवाई का सेवन करने के बाद भी अगर आपकी शुगर हाई रहती है तो हम आपको बताते हैं कि कैसे फूड्स से शुगर को कंट्रोल करें।

मेथी दाना को करें डाइट में शामिल:

अगर शुगर कम नहीं होती तो आप अपने खाने में मेथी को शामिल करें, मेथी के दाने हाई ब्लड प्रेशर को कम करते हैं। इसमें मौजूद फ़ाइबर और सैपोनिन कार्बोहाइड्रेट को पचाने में मदद करता है। आप खाने से पहले 5 ग्राम मेथी दाने का सेवन आपके शुगर लेवल को कंट्रोल कर सकता है।

शुगर को कंट्रोल करती है जामुन:

डायबिटीज के मरीजों के लिए जामुन बेहद फायदेमंद होती है। जामुन के बीज अग्न्याशय से इंसुलिन को निकालने में मदद करते हैं। शुगर कंट्रोल करने के लिए जामुन बेहद उपयोगी है। आप चाहे तो जामुन के बीजों का पाउडर बनाकर भी रख सकते हैं। रोज 10 ग्राम जामुन के बीज आपकी डायबिटीज कंट्रोल करने में मदद करते हैं।

दालचीनी से करें शुगर कंट्रोल:

दालचीनी एक ऐसा मसाला है जो सेहत के लिए बेहद उपयोगी है। दालचीनी का सेवन डायबिटीज को कंट्रोल करने में बेहद मददगार है। दालचीनी से कोशिकाएं ग्लूकोज़ को जल्दी अवशोषित करती हैं और शुगर कंट्रोल करने में भी मदद मिलती है।

करेला करता है शुगर कंट्रोल:

करेला ऐसी कड़वी सब्जी है जो शुगर को कंट्रोल करने में बेहद असरदार है। करेला डायबिटीज से लड़ने में मदद करता है। नाश्ते के बाद करेले का जूस पीते हैं तो इससे ब्लड शुगर लेवल में कमी आती है। करेले में इंसुलिन जैसे पदार्थ होते हैं जिससे भूख भी कम लगती है। 

डिस्क्लेमर: स्टोरी के टिप्स और सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन्हें किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर नहीं लें। बीमारी या संक्रमण के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

Popular posts from this blog

भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव : भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 22 और निर्दलीय ने जीती 17 सीटें, बोर्ड के लिए जोड़ तोड़

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक