केमीकल के अभाव में 2 साल से एमजीएच में बायो केमीस्ट्री मषीन फॉक रही है धुल

 



भीलवाडा हलचल महात्मा गांधी अस्पताल में 53 लाख की जॉच मशीन पिछले 2 साल से धुल फॉक रही है। जिससे एक साथ कई लोगो की जॉच नही हो कर अलग-अलग मनो से करनी पड रही है जिससे समय भी बर्बाद हो रहा है। इसके पिछे मशीन का लिक्विड रिजेन्ट नही मिलना बताया जा रहा है। जानकारी के अनुसार महात्मा गांधी अस्पताल की लेबोरेट्री में बायो केमिस्ट्री मशीन सरकार ने 2 साल पहले 53 लाख में खरीदी थी और उससे बायो केमीस्ट्री की जॉच होनी थी इस मशीन से एक साथ काफी संख्या में जॉचे हो सकती है। लेकीन मशीन के आने के बाद कुछ दिन ही यह मशीन चल पाई बाद में रिजेन्ट नही मील पाया और 2 साल से लेबोरेट्री में नकारा पडी हुई है। लेबोरेट्री की और से कई बार मांग पत्र भेजा गया लेकिन रिजेन्ट उपलब्ध नही हो पाया। इस सम्बन्ध में हलचल ने अस्पताल के पी.एम’.ओ डाक्टर अरून गौड से जानकारी चाही तो उन्होने बताया की कम्पनी को रिजेन्ट भेजने के लिए लिख दिया गया है और वह जल्दी उपलब्ध हो जायेगा। उन्होने यह भी कहा की अन्य मशीन से जॉच हो रही है जो सस्ती पड रही है। इसका रिजेन्ट काफी महंगा है। उल्लेखनीय है कि राज्य सरकार खराब पडी मशीनोे को सात दिन में ठिक करने के लिए प्रति वर्ष 20 करोड रूपये खर्च कर रही है लेकीन प्रदेश के साथ भीलवाडा में भी कई मशीनेे और उपकरण खराब पडे है और समय पर नही सुधर पातें है।

Popular posts from this blog

भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव : भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 22 और निर्दलीय ने जीती 17 सीटें, बोर्ड के लिए जोड़ तोड़

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक