स्वच्छता को आदत न बना पाने की कीमत, बुखार और डेंगू की चपेट में शहर के हजारों लोग

 


भीलवाड़ा (हलचल)। भीलवाड़ा नगर परिषद द्वारा साफ सफाई की अनदेखी का ही नतीजा है कि शहर में तेजी से बीमारियां फैल रही है और थमने का नाम नहीं ले रही है। डेंगू और बुखार के कारण लोगों का बुरा हाल है। अस्पतालों में डेंगू और बुखार के मरीज भरे पड़े है। इसके पीछे नियमित रूप से साफ सफाई नहीं होना, खाली भूखण्डों में पानी भरा होना और लोगों की स्वच्छता की आदत नहीं बन पाना मुख्य कारण है। 
भीलवाड़ा में बारिश के साथ ही डेंगू और वायरल तेजी से फैल रहा है। सरकारी हो या निजी अस्पताल डेंगू के मरीज लगातार बढ़ रहे है और वायरल के चलते बड़े, बुजुर्ग और बच्चे सभी पीडि़त है और इन्हीं के चलते अस्पतालों के वार्डों में पैर रखने की जगह नहीं है।
बृजेश बांगड़ चिकित्सालय के फिजिशियन डॉ. नरेश खण्डेलवाल का कहना है कि डेंगू के मरीज बढ़ रहे है। कार्ड से हो रही जांच में तो इनकी संख्या काफी अधिक है लेकिन सरकारी तौर पर होने वाली जांच में यह कम ही आ रहे है। उन्होंने कहा कि वायरल के मरीजों की संख्या भी लगतार बढ़ रही है। डॉ. खण्डेलवाल का कहना है कि तीन चार दिन तक लगातार बुखार आने या तेज बॉडी पेन या उल्टी से पीडि़त लोगों को तत्काल चिकित्सकीय सहायता लेनी चाहिए। उनका कहना था कि ऐसे मरीजों की तीन चार दिन बाद स्थिति फ्लटरेट गिर जाती है। उन्होंने कहा कि शहर में सफाई के पुख्ता इंतजाम नहीं है। नाले और नालियों की लगातार सफाई होनी चाहिए और घरों में नियमित सफाई की जानी चाहिए जिससे मच्छर पैदा न हो।
सिद्धी विनायक हॉस्पीटल के डायरेक्टर डॉ.दुष्यंत शर्मा का कहना है कि डेंगू वायरल के साथ ही स्क्रप टाइपस के मरीज भी आ रहे है। इन बीमारियों के चलते वार्ड भरे हुए है। उन्होंने कहा कि लोगों को साफ सफाई का ध्यान रखना चाहिए। इसमें संस्थागत के भरोसे भी नहीं रहना चाहिए। 
डेंगू और वायरल के मरीजों की बढ़ती संख्या को देख महात्मा गांधी अस्पताल में 40 बेड का अलग से वार्ड तैयार किया गया है। जिसमें कल 28 मरीज भर्ती थे। 
खाली भूखण्डों में भरा है पानी :
शहर की कई कॉलोनियों में खाली भूखण्ड पड़े है और उनमें पानी भरा है, कीचड़ फैल रहा है। द्वारिका कॉलोनी के रहने वाले मुबारिक खां और गोपाल टेलर ने कहा कि खाली प्लाटों में तो पानी भरा ही है जिससे मच्छर फैल रहे है लेकिन नगर परिषद भी स्वच्छता की धज्जियां उड़ाते हुए कॉलोनी की एक सड़क को पूरा कचरा घर बना दिया है। बरसात के समय कचरा कीचड़ में बदल गया और तेज दुर्गंध उठ रही है जिससे लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। ऐसी ही स्थिति ज्योति नगर की भी है। पटेल नगर में मयूर स्कूल के निकट मुख्य सड़क के पास ही खाली भूखण्डों में पानी भरा है और वहां रहने वाले लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। लेकिन नगर परिषद ध्यान नहीं दे रही है। इसके पीछे नाली और नाले नहीं बनाया जाना मुख्य कारण बताया जा रहा है।

Popular posts from this blog

भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव : भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 22 और निर्दलीय ने जीती 17 सीटें, बोर्ड के लिए जोड़ तोड़

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक