दुनिया की सबसे ताक़तवर सब्ज़ी है कंटोला, जिसे खाने से होते हैं ये फायदे

 

कोरोना के इस दौर में डाइट बेहद अहम हो गई है। आप जो भी खाते हैं उसका फायदा या नुकसान आपके शरीर को ही झेलना होता है। इसलिए जंक, प्रोसेस्ड या डिब्बा बंद खाने का सेवन कम से कम ही करें। अपनी डाइट में ज़्यादा से ज़्यादा पोषण लें, जैसे मौसमी सब्ज़ी और फल ज़रूर खाएं। जिससे आपकी सेहत और इम्यूनिटी को मज़बूती मिलेगी।

ऐसी ही एक सब्ज़ी है कंटोला। इसे दुनिया की सबसे ताकतवर सब्ज़ी माना गया है। आयुर्वेद में इसे औषधि के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है। यह सब्ज़ी स्वादिष्ट होने के साथ ही पोषण से भरपूर भी होती है। इसमें इतनी ताक़त होती है कि महज कुछ दिन के सेवन से ही आपका शरीर तंदुरुस्त बन सकता है। कंटोला को ककोड़े और मीठा करेला नाम से भी जाना जाता है। इस सब्ज़ी से जुड़े फायदे जानेंगे तो हैरान रह जाएंगे।

कंटोला आमतौर पर मॉनसून के महीने में आता है। इसके कई स्वास्थ्य लाभों को देखते हुए कई खेती दुनियाभर में शुरू हो गई है। मुख्य रूप से भारत के पर्वतीय क्षेत्रों में ही इसकी खेती की जाती है।

1. यह फाइटोन्यूट्रिएंट्स का एक बड़ा स्रोत है, जो कुछ ही पौधों में पाया जाता है। यह पदार्थ मानव स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद माना जाता है और कई तरह की बीमारियों को रोकने में मदद करता है।

2. वजन घटाने में सक्षम: कंटोला में प्रोटीन और आयरन भरपूर होता है, जबकि कैलोरी की मात्रा कम होती है। अगर 100 ग्राम कंटोला का सेवन करते हैं, तो 17 कैलोरी मिलती है। अगर आप भी वज़न घटाना चाह रहे हैं, तो कंटोरा को डाइट में ज़रूर शामिल करें।

3. कैंसर से बचाए: कंटोला में ल्युटेन जैसे केरोटोनोइडस मौजूद होते हैं, जो कई तरह के नेत्र रोग, हृदय रोग और यहां तक कि कैंसर की रोकथाम में मददगार साबित हो सकते हैं।

4. पाचन होगा दुरुस्त: यह पाचन क्रिया को दुरुस्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। कंटोला की ख़ास बात है कि सब्ज़ी के अलावा इसका अचार भी बन सकता है। अगर आप इसकी सब्ज़ी नहीं खाना चाहते हैं, तो अचार बनाकर भी खाया जा सकता है। आयुर्वेद में कंटोला को औषधि माना गया है, जिसका उपयोग कई रोगों के इलाज के लिए किया जाता है।

5. एंटी एलर्जिक : यह सब्ज़ी आमतौर पर मॉनसून के दौरान ही आती है, यह अपने एंटी-एलर्जेन और एनाल्जेसिक गुणों के कारण मौसमी खांसी, सर्दी और अन्य एलर्जी को दूर रखने में सहायक साबित होती है।

6. डायबिटीज़ में सहायक: यह मधुमेह के रोगियों में रक्त शर्करा के स्तर को भी कम करता है क्योंकि यह प्लांट इंसुलिन से भरपूर होता है।

7. यह त्वचा को स्वस्थ रखने में मदद करती है, क्योंकि इसमें बीटा कैरोटीन, ल्यूटिन और ज़ेक्सैन्थिन जैसे विभिन्न फ्लेवोनोइड होते हैं, जो त्वचा के लिए सुरक्षात्मक कवच की तरह काम करते हैं।

Disclaimer: लेख में उल्लिखित सलाह और सुझाव सिर्फ सामान्य सूचना के उद्देश्य के लिए हैं और इन्हें पेशेवर चिकित्सा सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए। कोई भी सवाल या परेशानी हो तो हमेशा अपने डॉक्टर से सलाह लें।

Popular posts from this blog

भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव : भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 22 और निर्दलीय ने जीती 17 सीटें, बोर्ड के लिए जोड़ तोड़

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक