सरकारी और प्राइवेट कॉलेजों में अगले 7 दिनों में शुरू हो जाएगी एडमिशन की प्रक्रिया

 


राजस्थान के सरकारी और प्राइवेट कॉलेजों में अगले 7 दिनों में एडमिशन की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। शिक्षा विभाग द्वारा नई एडमिशन पॉलिसी जारी करने के साथ ही कॉलेजों में एडमिशन की तैयारियां तेज कर दिया गया है। ऐसे में प्रदेश के 450 से ज्यादा सरकारी और दो हजार से ज्यादा प्राइवेट कॉलेज में एक बार फिर परसेंटेज के आधार पर स्टूडेंट्स को एडमिशन दिया जाएगा।

रिजल्ट नहीं आने पर CBSE स्टूडेंट्स को मिलेगी एक्स्ट्रा टाइम

उच्च शिक्षा मंत्री राजेंद्र यादव ने बताया कि कॉलेज में एडमिशन के लिए अगले 7 दिनों में आवेदन की प्रक्रिया को शुरू कर दिया जाएगा। जिसके तहत प्रदेश के सरकारी और प्राइवेट दोनों कॉलेजों में स्टूडेंट्स को एडमिशन मिलेगा। लेकिन अगर आवेदन की आखिरी तारीख तक CBSE 12th का रिजल्ट जारी नहीं हुआ।

तो पिछले सालों के आंकड़ों के आधार पर CBSE स्टूडेंट्स के लिए कॉलेज की सीट का विशेष कोटा बनाया जाएगा। इसके साथ ही उन्हें 12th का रिजल्ट जारी होने के बाद उन्हें आवेदन की छूट दी जाएगी। ताकि प्रदेश के कॉलेज में RBSE के साथ ही CBSE के जेंट्स को भी एडमिशन के लिए पूरे मौके मिल सके।

पर्सेंटेज के आधार पर मिलेगा एडमिशन
आयुक्त कॉलेज शिक्षा विभाग शुचि त्यागी ने बताया कि उच्च शिक्षा विभाग ने पहले पर्सेंटेज सिस्टम को हटाकर पर्सेंटाइल सिस्टम के आधार पर एडमिशन प्रक्रिया शुरू की थी। इस प्रक्रिया में CBSE और RBSE के स्टूडेंट्स की पर्सेंटेज का समानीकरण कर एडमिशन दिया जाता था। लेकिन इससे सीबीएसई के स्टूडेंट्स को सरकारी कॉलेजों में प्रवेश लेने में समस्या आ रही थी। ऐसे में इस बार फिर से कॉलेजों में एडमिशन पर्सेंटेज फॉर्मूले के आधार पर ही दिया जाएगा।

कॉलेजों एडमिशन पॉलिसी के प्रमुख बदलाव

  • राजस्थान में इस साल भी कॉलेजों में एडमिशन 12वीं कक्षा के पर्सेंटेज के आधार पर होंगे, पर्सेंटाइल फार्मूले से नहीं।
  • कॉलेज में एडमिशन के लिए भारतीय सेना, केन्द्रीय सशस्त्र बल के कर्मचारियों और पूर्व कर्मचारियों के बच्चों के लिए 3% सीटें आरक्षित थी। इनमें अब राजस्थान पुलिस कर्मियों के बच्चों काे भी जगह मिलेगी।
  • काेराेना की वजह से जिन स्टूडेंट्स के पैरेंट्स या फिर जिन छात्राओं के स्टूडेंट्स के पति की माैत हुई है। उन्हें मिनिमम मार्क्स के आधार पर फ्री एडमिशन दिया जाएगा। इसके साथ ही उन्हें हॉस्टल की सुविधा भी फ्री मिलेगी।
  • स्टूडेंट्स को पहले की तरह को-एजुकेशन कॉलेजों में छात्राओं काे 3% बोनस मिलेगा। इस दौरान ऑनलाइन पढ़ाई भी चालू रहेगी।
  • प्रदेश के कॉलेज में एडमिशन के लिए आर्ट्स, कॉमर्स में कम से कम 45% और साइंस में कम से कम 12वीं में 48% नंबर्स लेन पर ही एडमिशन हाेंगे।
  • मूल रूप से भारत के रहने वाले विदेशी बच्चों को भी राज्य के कॉलेज में एडमिशन दिया जाएगा। जबकि मूल रूप से विदेशी छात्रों को इस बार एडमिशन नहीं मिल सकेगा।
  • UGC के नियमों के अनुसार जो कॉलेज ऑनलाइन एजुकेशन के लिए माननीय नहीं है। उनकी डिग्रियों के आधार पर भी राजस्थान के कॉलेज में एडमिशन नहीं दिया जाएगा।

13 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स को मिलेगा एडमिशन

राजस्थान में 450 से ज्यादा सरकारी कॉलेज है। इनमें पांच लाख 8000 स्टूडेंट्स को पर्सेंटेज के आधार एडमिशन दिया जाएगा। वहीं, 2000 से ज्यादा प्राइवेट कॉलेज है, जिनमें 8 लाख स्टूडेंट्स को शिक्षा विभाग की एडमिशन पॉलिसी के आधार पर एडमिशन मिलेगा।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

देवा गुर्जर की गैंगवार में हत्या, विरोध में रोडवेज बस में लगाई आग !

देवा गुर्जर हत्या का मुख्य आरोपी दुर्गा गुर्जर गिरफ्तार 3 साथी भी पकड़े गए

शराब के नशे में महिला सहित 4 लोगों ने किया तमाशा वीडियो वायरल

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक

छोटे भाई की पत्नी के साथ होटल में रंगरलियां मना रहा था पुलिसकर्मी, सिपाही पत्नी ने पकड़ा और कर दी धुनाई

आदर्श तापड़िया मर्डर: परिजनों से समझाइश का दूसरा दौर शुरू

मांडल में विवादित कुर्क जमीन मामले को लेकर जुटी भीड़, पुलिस ने लाठियां भांज कर दो किलोमीटर तक खदेड़ा,बाजार बंद