पुलिस ने फिल्मी स्टाइल में गोलियों से आंदोलनकारियों को भून डाला

 

नूर-सुल्तान(Nur-Sultan). कजाकिस्तान (Kazakhstan) में महंगाई के खिलाफ पब्लिक का विद्रोह हिंसक हो उठा है। इस हिंसक आंदोलन में 18 पुलिसकर्मियों की मौत हो गई है। जवाब की कार्रवाई में सुरक्षाकर्मियों ने भीड़ को खदेड़ने फिल्मी स्टाइल में गोलियां बरसा दीं। इसमें कई आंदोलनकारियों के मारे जाने की खबर है। 3000 से अधिक आंदोलनकारियों को अरेस्ट किया गया है। बावजूद हिंसा पर काबू नहीं हुआ जा सका है। लंबे समय से मध्य एशिया के पूर्व सोवियत गणराज्यों (Ex Soviet republics of Central Asia) में सबसे स्थिर के रूप में देखा जाने वाला, ऊर्जा-समृद्ध (Energy rich) कजाकिस्तान इस समय सबसे बड़े संकट का सामना कर रहा है, जब ईंधन की बढ़ती कीमतों के विरोध में व्यापक अशांति फैल गई है।

Violence in Kazakhstan against inflation: 18 police personnel killed, 3000 protesters arrested KPA

मध्य एशियाई देश कजाकिस्तान में प्रदर्शनकारियों को खदेड़ने पुलिसकर्मियों ने दनादन गोलियां दागी। हिंसक भीड़ ने भी 18 पुलिसकर्मियों को मौत के घाट उतार दिया। एक पुलिसकर्मी का सिर काटकर फेंक दिया।

 

Violence in Kazakhstan against inflation: 18 police personnel killed, 3000 protesters arrested KPA

हिंसा के चलते सरकार ने इस्तीफा तक दे दिया है, बावजूद लोगों का आक्रोश कम नहीं हो रहा है। हिंसक भीड़ राष्ट्रपति भवन और महापौर के निवास में भी घुस गई। फोटो क्रेडिट: Reuters

 

हालांकि राजधानी नूर-सुल्तान अभी इस हिंसा से बचा हुआ है। मामले को संभालने रूस ने अपने सैनिक भेजे हैं। लेकिन भीड़ ने उन्हे घेर लिया। इस पर उन्होंने गोलियां दाग दीं।

Violence in Kazakhstan against inflation: 18 police personnel killed, 3000 protesters arrested KPA

राष्ट्रपति कासिम-जोमार्त तोकायेव(Kassym-Jomart Tokayev) ने प्रदर्शनों को शांत करने ऐड़ी-चोटी का जोर लगा दिया है। उन्होंने सरकार का इस्तीफा स्वीकार कर लिया है। वहीं, प्रदर्शन को कुचलने का संकल्प भी दुहराया है।

Violence in Kazakhstan against inflation: 18 police personnel killed, 3000 protesters arrested KPA

राष्ट्रपति कासिम-जोमार्त तोकायेव(Kassym-Jomart Tokayev) ने इस हिंसक प्रदर्शक के लिए आतंकवादी समूहों को जिम्मेदार ठहराया है। अलमाती और अन्य शहरों के हवाई अड्डे बंद कर दिए गए हैं।

Violence in Kazakhstan against inflation: 18 police personnel killed, 3000 protesters arrested KPA

रूस के नेतृत्व वाले गठबंधन ‘सामूहिक सुरक्षा संधि संगठन’ (सीएसटीओ) ने कहा कि वह राष्ट्रपति कासिम-जोमार्त तोकायेव के अनुरोध पर कजाखस्तान में शांति सैनिक भेज रहा है। CSTO के एक अन्य सदस्य किर्गिस्तान भी अपनी सेना भेजने को तैयार है।

Violence in Kazakhstan against inflation: 18 police personnel killed, 3000 protesters arrested KPA

राष्ट्रपति तोकायेव ने पूरे देश में दो हफ्ते के लिए इमरजेंसी लगा दी है। इसके तहत रात में कर्फ्यू लागू रहेगा और धार्मिक प्राथर्नाओं पर रोक रहेगी। प्रदर्शनकारी ‘पुराने लोग जाओ’ के नारे लगाते देखे गए। यानी वे देश के पहले राष्ट्रपति नूर सुल्तान नजरबेयेव का हवाला दे रहे हैं। उन्होंने 2019 में पद से इस्तीफा दे दिया था। 

Violence in Kazakhstan against inflation: 18 police personnel killed, 3000 protesters arrested KPA

कजाकिस्तान में मंहगाई के खिलाफ कई हफ्तों से विरोध प्रदर्शन चल रहे हैं। मंगलवार को प्रदर्शन तब और तेज हो गए, जब अधिकारियों ने एलपीजी की कीमतों पर लगी सीमा हटा ली, जिसके बाद ईंधन की कीमतों में तेज वृद्धि देखने को मिली।

Popular posts from this blog

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !

झटके पे झटका ... कांग्रेस का जिले में बनेगा बोर्ड ?