Sunday, May 31, 2020

टिड्डी दल ने राजस्‍थान के जैसलमेर में बोला धावा





नयी दिल्‍ली : मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश और अन्य राज्‍यों में आतंक मचाने के बाद टिड्डियों के झुंड ने राजस्‍थान के जैसलमेर में धावा बोल दिया है. बड़ी संख्‍या में टिड्डियों के दल को आसमान में उड़ने देखे गये.










पिछले दिनों टिड्डी दल के हमले से बचाव के लिए राजस्थान, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश में सरकारी कर्मचारियों ने जहां एक तरफ भारी मात्रा में कीटनाशक का छिड़काव किया तो वहीं दूसरी तरफ लोगों ने थाली और तेज संगीत बजाकर भी इन्हें भगाने का प्रयास किया.







संयुक्त राष्ट्र के खाद्य एवं कृषि संगठन (एफएओ) के अनुसार, टिड्डियों के झुंड के बिहार और ओडिशा तक पहुंचने की उम्मीद है, लेकिन दक्षिण भारत में इन कीटों के पहुंचने की संभावना कम है. एफएओ ने कहा कि पिछले कुछ दिनों में, भारत में टिड्डियों के वयस्क समूहों का आना हुआ है और ये भारत-पाकिस्तान सीमा से पूर्व की ओर बढ़ रहे हैं.


जासूसी करते रंगे हाथ पकड़ाये पाकिस्तानी उच्चायोग के दो अधिकारी, 24 घंटे में देश छोड़ने का आदेश







नयी दिल्‍ली : दिल्ली स्थित पाकिस्तानी उच्चायोग के दो अधिकारियों को जासूसी में शामिल होने की वजह से पकड़ा गया. दोनों अधिकारियों को 24 घंटे में देश छोड़ने का आदेश दिया गया है.










भारत ने पाकिस्तान उच्चायोग में कार्यरत दो अधिकारियों को जासूसी गतिविधियों में शामिल होने की वजह से देश में मौजूदगी से निषिद्ध घोषित किया. जैसे ही जासूसी में शामिल होने का पता चला वैसे ही पाकिस्तानी उच्चायोग के दोनों अधिकारियों को 24 घंटे में भारत छोड़ने का आदेश दिया गया.







 








खबर के अनुसार इधर भारत ने पाकिस्तानी उच्चायोग के दो अधिकारियों के जासूसी में शामिल होने का पता चलने के बाद पाकिस्तान के प्रभारी को आपत्तिपत्र दिया है. पाकिस्तान उच्चायोग को यह सुनिश्चित करने को कहा गया कि कूटनीतिक मिशन का कोई भी सदस्य भारत विरोधी गतिविधियों में शामिल नहीं हो.








विदेश मंत्रालय ने कहा, एक कूटनीतिक मिशन के सदस्य के तौर पर अपने दर्जे के अयोग्य गतिविधियों में शामिल होने के आरोप में सरकार ने दोनों अधिकारियों को निषिद्ध घोषित किया है और उनसे 24 घंटे के अंदर देश छोड़कर जाने को कहा है. मंत्रालय ने कहा कि पाकिस्तानी उच्चायोग के प्रभारी को एक आपत्ति पत्र जारी कर भारत की सुरक्षा के खिलाफ इन दोनों अधिकारियों की गतिविधियों पर कड़ा विरोध दर्ज कराया गया है. विदेश मंत्रालय ने कहा, पाकिस्तानी उच्चायोग से कहा गया है कि वह यह सुनिश्चित करें कि उनके कूटनीतिक मिशन का कोई व्यक्ति भारत के प्रति शत्रुवत गतिविधि या ऐसे किसी कृत्य में शामिल नहीं होना चाहिए जो उसके दर्जे के अनुकूल न हो.








रियायती दर जमीन लेने वाले निजी अस्पतालों को करना होगा कोविड-19 के मरिजों का निशुल्क उपचार

 भीलवाड़ा हलचल। राज्य सरकार के निर्देशानुसार भीलवाड़ा में रियायती दर पर जमीन लेने वाले निजी अस्पतालों को कोरोना पॉजिटिव मरिजों का निशुल्क उपचार करना होगा। 
जिला कलेक्टर राजेंद्र भट्ट ने बताया कि भीलवाड़ा में आधा दर्जन से ज्यादा निजी अस्पतालों को रियायती दर पर जमीन और अन्य सुविधायें दी गई है। इन अस्पतालों को अब कोविड-19 के मरिजों का निशुल्क उपचार करना होगा। सभी अस्पतालों को इस तरह के निर्देश दिये जा चुके हैं।


रात नौ बजे तक खुले रहेंगे भीलवाड़ा के बाजार, 49 स्थानों पर रहेंगी रेडजॉन की पाबंदियां

 भीलवाड़ा हलचल।  राजस्थान में लॉकडाउन फेज-5 अगले एक महीने यानी 30 जून तक रहेगा। रविवार को सरकार की ओर से अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) राजीव स्वरूप ने नई गाइडलाइन जारी की। फिलहाल, मेट्रो, स्कूल, सभी शैक्षणिक संस्थाएं, मॉल और धार्मिक स्थल जनता के लिए बंद रखे गए हैं। इसके अलावा, सभी दुकानें कुछ प्रतिबंधों के साथ खोली जा सकेंगी। यहां सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क का विशेष तौर पर ध्यान रखना होगा। भीलवाड़ा में रात नौ बजे तक बाजार खुले रह सकेंगे। वहीं शहर सहित जिले के 49 स्थानों पर जीरो मॉबिलिटी के इलाकों में रेडजॉन वाले सभी प्रतिबंध लागू रहेंगे। 
जिला कलेक्टर राजेंद्र भट्ट ने हलचल को बताया कि लॉकडान-5 के तहत दी गई सभी रियायतें भीलवाड़ा जिले के लोगों को भी मिलेंगी, लेकिन कंटेनमेंट जॉन में रेडजॉन की सभी तयशुदा पाबंदियां लगी रहेंगी। उन्होंने लोगों से छूट के साथ-साथ सावधानियां बरतने की अपील की। उन्होंने कहा कि सोशल डिस्टेंस, मास्क लगाना अनिवार्य होगा। 


सोमवार से खुलेंगा बांगड़ अस्पताल

 भीलवाड़ा हलचल। कोरोना संक्रमण के चलते करीब सवा दो माह पूर्व बंद हुये बृजेश बांगड़ चिकित्सालय में सोमवार से सभी चिकित्सकीय सेवायें फिर से शुरू हो जायेंगी। 
बांगड़ अस्पताल के सीईओ डॉ. मोहित जैथलिया ने हलचल को बताया कि सोमवार से अस्पताल में ओपीडी, आईपीडी सहित अन्य सभी चिकित्सकीय सेवायें शुरू हो जायेगी। उन्होंने बताया कि अस्पताल में सभी तैयारियां पूरी कर ली गई है। अस्पताल में उन सभी चिकित्सकों की सेवायें उपलब्ध होगी, जो पहले यहां सेवायें दे रहे थे।  


आरोली के बाद अब फतहनगर में पैंथर का आतंक,किया बछड़े का शिकार

बिजौलियां(जगदीश सोनी)।आरोली-रसदपुरा में चल रहे पैंथर के खौफ़ के बाद अब नयानगर में भी पैंथर का आतंक शुरू हो गया। बीती रात नयानगर के फतहनगर में  मदन लाल धाकड़ के बाड़ें में घुसे पैंथर ने एक बछड़े को मार डाला। मदन धाकड़ ने बताया कि रात करीब एक बजे बाड़े से आवाजें आने पर परिजनों के साथ जा कर  देखा तो बछड़ा मरा हुआ था।हालात देख कर पैंथर द्वारा शिकार करने की शंका हुई।इस पर ग्रामवासियों के साथ आसपास एक किलो मीटर तक ढूंढने की कोशिश की लेकिन बारिश आ जाने से वापस गांव में लौट गए। ग्रामीणों ने आरोली क्षेत्र  में विचरण कर रहे पैंथर से ये पैंथर अलग होने का दावा करते हुए बताया कि पिछले कई दिनों से एक पैंथर और दो शावक नयानगर क्षेत्र में घूम रहे हैं। पिछले 5 दिनों में लगातार  अब तक 5 बछड़ो का शिकार कर चुके हैं।पहली बार पैंथर द्वारा बछड़े को मारने की सूचना पर वन विभाग की टीम भी मौके पर पहुंची थी।लेकिन उसके बाद ग्रामीणों द्वारा वन विभाग को कोई सूचना नहीं दी गई।


 पिता ने मासूम बेटे-बेटी सहित कुएं में कूद कर दी जान

 भीलवाड़ा। युवक ने 11 साल के बेटे व आठ साल की बेटी सहित कुएं में कूद कर दी जान, खुदकुशी के कारणों का नहीं हुआ खुलासा, पुलिस जुटी जांच में।


नायब तहसीलदार के आदेश के बाद भी नहीं हो पाई अतिक्रमियों पर कार्रवाई

मेंघरास हेमराज तेली /रायला क्षेत्र में चरागाह भूमि पर अवैध कब्जों को प्रभावशाली लोगों के सह के कारण एवं राजनीतिक पहुंच का इस्तेमाल कर अतिक्रमण कारी अतिक्रमण कर रहे हैं राजस्थान संपर्क पोर्टल पर दर्ज शिकायत एवं हलचल पर  खबर प्रकाशित होने के बाद में नायब तहसीलदार रायला ने जांच के आदेश 18 मई को जारी किए थे लेकिन आज 14 दिन बीत जाने के बाद भी कोई कार्रवाई अमल में नहीं लाई गई। वही रायला क्षेत्र की बेशकीमती भूमि पर एवं चरागाह भूमि पर अतिक्रमणकारियों द्वारा पट्टी स्टॉल एवं घर बना दिए हैं। वह   पटिया गार्ड कर चरागाह भूमि एवं नरेगा निर्मित नाड़ी के एरिया में अतिक्रमण कर रहे हैं वहीं पंचायत प्रशासन वह सभी प्रशासनिक अधिकारी इस और कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं। आदेश जारी होने के बाद भी आज तक कोई अतिक्रमण नहीं हटाया गया कुछ लोग राजनीतिक पहुंच का इस्तेमाल कर इन लोगों को बचा रहे हैं तथा अतिक्रमणकारियों को सह देकर अतिक्रमण को बढ़ावा दिया जा रहा है प्रशासन भी राजनीतिक दबाव के कारण इस मामले पर कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है इस मामले में पंचायती प्रशासन की भूमिका भी संका के दायरे में है। 


खेत पर सर्पदंश से प्रौढ़ किसान की मौत

 भीलवाड़ा हलचल। जिले के पंडेर कस्बे के एक प्रौढ़ की खेत पर सर्पदंश से मौत हो गई। पंडेर थाना प्रभारी ने बताया कि पंडेर निवासी बजरंग (50) पुत्र छीरत गुर्जर शनिवार को खेत पर गया। जहां उसे सांप ने डस लिया। इससे उसकी मौत हो गई। पुलिस ने पोस्टमार्टम कराने के बाद शव परिजनों को सौंप दिया।


कोटड़ी-महेश जयंती पर घरों में ही हुए कार्यक्रम आयोजित

  कोटड़ी हलचल। महेश जयंती पर सदर बाजार स्थित चोकी के मन्दिर पर माहेश्वरी समाज के अध्यक्ष राजेन्द्र काबरा के सानिध्य में भगवान श्रीचारभुजानाथ का पण्डितों के मन्त्रोच्चारण के साथ दूग्धाभिषेक किया गया। साथ ही महाआरती के बाद प्रसाद चढ़ा वितरित किया। इस दौरान समाज के विनोद काबरा, विनोद लढ़ा, ओम पालीवाल पुजारीर जगदीश पाराशर ने उपस्थित हो भगवान के भोग लगाया गया। इस अवसर पर कोरोना लॉकडाउन की गाइडलाईन का पालन करते हुए महेश जयंती पर ऑनलाईन प्रतियोगिताएं भी आयोजित की गई। घरों में व्यंजन तैयार कर प्रभू को भोग लगाया। प्रतिवर्ष महेश जयंती के अवसर पर शोभायात्रा नहीं निकलने से युवा मायूस रहे परन्तु घरों में परिवार के साथ कार्यक्रम आयोजित कर कोरोना के भय के बीच शोसल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए खुशियां मनाई। 


गाडरी समाज ने जयंती  मनायी

गेंदलिया (एस शर्मा )   ।गाडरी समाज द्वारा रविवार को देवी अहिल्याबाई होल्कर की जयंती बड़े हीश्रद्धा व हर्षोल्लास के साथ मनाई गई। सेवा संस्था सचिव शंकर लाल गाडरी ने बताया किकोरोनो वायरस  की महामारी ,लोकड़ावन   के चलते सेवा संस्थान के सदस्य व गाडरी समाज के लोग अपने-अपने घरों में जयंती को लेकर अहिल्याबाई होल्कर की तस्वीर पर माल्यार्पण पुष्प अर्पित किए गए साथी दीप प्रज्वलित कर उनके आदर्शो पर चलने का आह्वान किया और समाज में व्याप्त कुरीतियों को मिटाने का संकल्प लिया गया । सरकार की गाइडलाइंस की पालन करते हुए अहिल्याबाई जयंती बड़े ही श्रद्धा व हर्षोल्लास के साथ मनाई गई इस मौके पर हेमराज मुकेश दिनेश धर्मराज भंवर भागीरथ गोपाल मांगीलाल रतनलाल माधव डालचंद देवीलाल कैलाश सहित समाज के लोग उपस्थित थे


विश्व हिंदू रक्षा संगठन कर रहा जीव सेवा

 
डूंगरपुर (विवेक पाराशर) विश्व हिंदू रक्षा संगठन की ओर से प्रखंड इंदौडा में पक्षियों के लिए परिंडे लगाए गए। कार्य जिला उपाध्यक्ष धर्मेंद्र सिंह इंदौडा के नेतृत्व में हुआ। आसपुर तहसील अध्यक्ष वीरेंद्र सिंह, महामंत्री जयेश सेवक तथा इंदौरा प्रखंड अध्यक्ष नीतेश वैरागी, प्रखंड महामंत्री पंकज वैष्णव ने जीव सेवा के इस कार्य में सहयोग किया, जिलाध्यक्ष युवराज सिंह गडा नाथजी ने कहा कि संगठन सदैव सनातन संस्कृति और जीवन कल्याण के कार्यों के लिए प्रतिबद्ध है साथ ही लोगों से आग्रह किया गया कि वह अपने स्तरों पर अपने आसपास परिंडे लगाए जिससे कोई पक्षी भूखा प्यासा न रहे।


 


नाली बनते ही ग्रामीणों ने उड़ेल दिया कचरा

 डूंगरपुर (विवेक पाराशर) /ग्राम पंचायत खेड़ा कच्छवासा के वस्सी मोड़ में पानी के निकास के लिए नाली बनाई गई। ग्राम पंचायत द्वारा नाली बनाए जाने के बाद नाली से पानी भी ना गुजरा और ग्रामीणों द्वारा नाली में घरेलू कूड़ा करकट उड़ेल दिया गया। ग्रामीणों की यह लापरवाही स्वच्छता से नहीं सरोकार को व्यक्त करती है। एक और जहां प्रदेश भर में स्वच्छता अपनाने को लेकर तमाम कोशिशें की जा रही है वहीं दूसरी और वस्सी मोड़ में मुख्य सड़क के पास ही नाली में गंदगी के ढेर पड़े हैं। ग्रामीणों द्वारा घरेलू उपयोग का सूखा को गीला कचरा भी कचरे पात्र का उपयोग ना कर गांव की मुख्य सड़क के पास डाल दिया जाता है ऐसे में स्वच्छता का मजाक बनता दिखाई पड़ता है। गौरतलब है कि गांव में स्कूली बच्चों द्वारा स्वच्छता व जनजागरण की तमाम कोशिशें भी की जा चुकी है। ऐसे में विभागीय नुमाइंदों ने भी कार्यवाही नहीं की जिसके चलते समस्या बढ़ती जा रही है।


 


जाट वीर तेजा वेलफेयर फाउंडेशन के जिलाध्यक्ष मनोनीत

  कमलेश चौधरी (बबराना) : वीर तेजाजी वेलफेयर फाउंडेशन के संस्थापक अजय सिंह ने भीलवाड़ा जिले के जिलाध्यक्ष के रूप में सी एस राजू जाट का मनोनयन किया । संस्थान के अध्यक्ष कैलाश सिंह ने राजू जाट को भीलवाड़ा जिले में कार्यकारिणी गठित कर संस्थान के उद्देश्यों को पूरा करने के लिए कार्य करने की स्वतंत्रता प्रदान की । राजू जाट ने बताया कि इस संस्थान का उद्देश्य गरीब और वंचित वर्ग के बालकों और नौजवानों को उच्च शिक्षा के लिए सहायता करना और शिक्षा के माध्यम से समाज में फैली कुरीतियों को दूर करना है ।


कुवैत में कार्यरत श्रमिकों की समस्या को लेकर सांसद से की भेंट

 डूंगरपुर (विवेक पाराशर) प्रतिनिधि मंडल में भाजपा अनुसूचित जनजाति मोर्चा के प्रदेश मंत्री अमृत कलासुआ, करोली ग्राम पंचायत के सरपंच बलशंकर मनात, कुवैत में कार्यरत समाज सेवी जयंती लाल पटेल व हथोड बूथ अध्यक्ष पंकज पटेल आदि ने सांसद को बताया कि रोजी रोटी के लिए वागड़ क्षेत्र से कुवैत गए श्रमिकों के कोविड 19 महामारी में फसे लोगो को शीघ्र अपने घर लाने की व्यस्था करावे। साथ ही सांसद से निवेदन किया कि कुवैत के नियम अनुसार 6 माह (180 दिन) के भीतर इकामा लगवाना आवश्यक होता है अन्यथा उक्त व्यक्ति की वीज़ा समाप्त हो जाती है।
 भाजपा अनुसूचित जनजाति मोर्चा के प्रदेश मंत्री अमृत कलासुआ ने बताया की वागड़ के कई श्रमिक होली के अवसर पर अपने घर आए थे, किन्तु होली के पश्चात लॉकडाउन के चलते वो 180 दिन के भीतर नहीं जा पाए हैं। ऐसी स्थिति में उन्हें नया विसा बनवाना पड़ेग। जिसका खर्चा 2 से 4 लाख रुपए हो सकता है। ऐसी स्थिति में गरीब को अतिरिक्त आर्थिक भार भी वहां करना होगा। ऐसी स्थिति में विदेश मंत्रालय में संपर्क कर नियमो में शिथिलता दिलवाकर राहत पहोचने का आग्रह किया। संसद ने आश्वासन दिया कि उक्त समस्या के बारे मे विदेश मंत्रालय को अवगत कराएंगे। सांसद कटारा ने भी प्रतिनिधि मंडल को आश्वासन दिया की इस समस्या को आगे पहुंचा कर इसका समुचित समाधान निकाल कर वागड़ वासियों को राहत दिलाने का काम सरकार करेगी। 


गंगापुर- मकान में लगी भीषण आग

गंगापुर - कस्बे के ब्रह्मपुरी मोहल्ले में गली नंबर 8 में  बद्री लाल माली के मकान में लगी भीषण आग| मकान में व मकान की छतों पर रखा हुआ लाखों रुपए का टेंट का सामान जलकर हुआ राख| भीषण आग की भेंट चढ़ा टेंट का सामान व घरेलू सामान| रियासी इलाके में आग लगने से मची अफरातफरी| बद्री लाल माली गली नंबर 8 ब्रह्मपुरी के मकान में लगी आग| लगातार मौके पर दमकल में टैंकरों से आग बुझाने का प्रयास किया जा रहा लेकिन आग भीषण होने के कारण नहीं हो पा रहा आग पर काबू| सैकड़ों की संख्या में लोग मौके पर पहुंचे| गंगापुर पुलिस जाब्ते ने कस्बे वासियों की भीड़ को खदेड़ा| आग विकराल रूप ले चुकी| रियासी इलाके में आग होने के कारण मकान कभी भी क्षतिग्रस्त होने का अंदेशा बना हुआ है| भीषण आग से कोई भी बड़ा हादसा हो सकता है| बद्री लाल माली के मकान में लाखों रुपए की टेंट की सामग्री हुई जलकर राख|


मकान में रहने वाले लोगों को मैं बच्चों को बाहर निकाला मकान में गैस सिलेंडर पड़े होने के कारण बड़ा हो सकता है हादसा|


जीरो मोबिलिटी निषेधाज्ञा जारी

  भीलवाड़ा हलचल।  जिले के उपखंड क्षेत्रा भीलवाड़ा, हमीरगढ़ एवं जहाजपुर में निवासरत व्यक्तियों को नोबेल कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जाने के कारण उनके आसपास के क्षेत्रा में निवासरत नागरिकों के स्वास्थ्य की सुरक्षा एवं लोक शांति बनाए रखने की दृष्टि से दंड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के तहत जीरो मोबिलिटी निषेधाज्ञा जारी की गई है।
          जिला मजिस्ट्रेट राजेंद्र भट्ट ने आदेश जारी कर जिले के उपखंड भीलवाड़ा के ग्राम भोपालगढ़ (गाडरमाला) में कोरोना संक्रमित व्यक्ति श्रीमती मधु देवी के मकान को केंद्र बिंदु मानते हुए उत्तर दिशा में ग्राम पंचायत भोपालगढ़ तक, दक्षिण दिशा में पथवारी सर्कल तक, पूर्व दिशा में बावड़ी जाने के रास्ते तक तथा पश्चिमी दिशा में नौगांवा जाने की सड़क तक की संपूर्ण सीमा क्षेत्रा को, हमीरगढ़ उपखंड की ग्राम पंचायत मंगरोप के राजस्व ग्राम मंगरोप में कोरोना वायरस संक्रमित व्यक्ति के मकान हरिजन मोहल्ला को केंद्र बिंदु मानते हुए पूर्व दिशा में पटवार भवन तक, पश्चिमी दिशा में गाडरी मोहल्ले तक, उत्तर दिशा में हरिजन मोहल्ले तक एवं दक्षिण दिशा में तकिया (मुस्लिम दरगाह) तक की संपूर्ण सीमा क्षेत्रा को तथा जहाजपुर उपखंड के ग्राम धुवाला के वार्ड नंबर 3 में निवासरत कोरोना संक्रमित व्यक्ति के मकान को केंद्र बिंदु मानते हुए दक्षिण दिशा में मोहन पिता माधु रेगर के मकान से उत्तर दिशा में भादूराम के बाड़े तक की संपूर्ण सीमा क्षेत्रा को जीरो मोबिलिटी एवं काँटेन्मेंट क्षेत्रा घोषित किया है।
                 यदि कोई व्यक्ति इन प्रतिबंधात्मक आदेशों का उल्लंघन करेगा तो भारतीय दंड संहिता की धारा 188, 269, 270 एवं द एपीडेमिक डिजीज अमेंडमेंट आॅर्डिनेंस 2020, नेशनल डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट 2005 एवं अन्य सुसंगत विधिक प्रावधानों के तहत अभियोजित किया जा सकेगा। यह आदेश तत्काल प्रभाव से लागू हो गए है जो अग्रिम आदेश तक लागू रहेंगे।


          इसी तरह जिला मजिस्ट्रेट ने एक अन्य आदेश जारी कर भीलवाड़ा शहर के रामनगर क्षेत्रा में निवासरत कोरोना संक्रमित व्यक्ति शबाना पत्नी शरीफ कुरैशी के मकान को केंद्र बिंदु मानते हुए उत्तर दिशा में राजू जैन के वेस्टेज के गोदाम तक, दक्षिण दिशा में एग्रीकल्चर काॅलेज तक, पूर्व दिशा में बीएसएल रोड रामनगर तक तथा पश्चिमी दिशा में हनुमान जी के मंदिर तक की संपूर्ण सीमा क्षेत्रा को जीरो मोबिलिटी एवं कंटेनमेंट क्षेत्रा (लाॅकिंग एरिया-जनसाधारण का सख्ती से से आगमन-निर्गमन निषेध) घोषित कर निषेधाज्ञा लागू की गई है।


जिले के कुछ, जीरो मोबिलिटी एवं कंटेंटमेंट क्षेत्रों से, सख्त निषेधाज्ञा प्रत्याहरित

  भीलवाड़ा हलचल। जिले के कुछ प्रतिबंधित क्षेत्रों में निषेधाज्ञा अवधि के दौरान कोई भी कोरोना संक्रमित व्यक्ति चिन्हित नहीं होने तथा 25 मई को इन क्षेत्रों के संक्रमित व्यक्तियों को जिला चिकित्सालय से पूर्ण स्वस्थ होने के उपरांत मुक्त किए जाने के कारण प्रतिबंधित क्षेत्रा में निवासरत जनसाधारण को संभावित किसी असुविधा के निवारण के प्रयोजन से जिला मजिस्ट्रेट श्री राजेंद्र भट्ट ने दंड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के तहत जिले के कुछ जीरो मोबिलिटी एवं कंटेनमेंट क्षेत्रों में लागू निषेधाज्ञा को तत्काल प्रभाव से प्रत्याहरित कर लिया है।
               आदेशानुसार जिले के रायपुर उपखंड क्षेत्रा की ग्राम पंचायत कोट के राजस्व ग्राम कोट की संपूर्ण सीमा क्षेत्रा, उपखंड करेड़ा की ग्राम पंचायत निंबाहेड़ा जाटान के राजस्व ग्राम मनोहरपुरा की संपूर्ण सीमा क्षेत्रा, बनेड़ा उपखंड की ग्राम पंचायत रायला के छिपों का मोहल्ला की सीमा क्षेत्रा तथा उपखंड माण्डल की ग्राम पंचायत धुँवाला के राजस्व ग्राम रावो का खेड़ा की संपूर्ण क्षेत्रा से निषेधाज्ञा को तत्काल प्रभाव से प्रत्याहरित कर लिया गया है।


छ वायरस मुक्त व्यक्ति डिस्चार्ज, अबतक कुल 82 हुए ठीक

 भीलवाड़ा हलचल।   रविवार को कोरोना  वायरस मुक्त 6 व्यक्तियों को  आजाद नगर स्थित महाप्रज्ञ भवन स्थित कोविड-19 केयर सेन्टर से डिस्चार्ज किया गया।
            मेडिकल काॅलेज के प्रिंसिपल डाॅ. राजन नंदा ने गुलाब का फूल और डिस्चार्ज टिकट देकर सभी को अपने गन्तव्य के लिये रवाना किया।  14 दिन के होम क्वारेंटाइन में रहने की सलाह के साथ उनके अच्छे स्वास्थ्य की कामना भी की।
             उन्होंने कहा कि  अब तक कुल  82  कोरोना पोसिटिव मरीजों के  नेगेटिव होने पर  उन्हें डिस्चार्ज  किया जा चुका है। पहले 76 मरीजों को  30 मई तक डिस्चार्ज किया गया  तथा 6 मरीज आज डिस्चार्ज किए गए हैं।
       उन्होंने बताया कि आज 3 मरीज और कोरोना पोजिटिव पाए गए हैं। इन्हें मिलाकर अब तक कुल 143 मरीज पोजिटिव आए हैं।    
      इस अवसर पर एमजी अस्पताल के प्रमुख चिकित्सा अधिकारी डाॅ. अरुण गौड, सीएमएचओ डाॅ. मुश्ताक खान सहित अन्य चिकित्सक एवं चिकित्साकर्मी उपस्थित रहे।


गायत्री परिवार  के सदस्यों ने घर घर मे कियें  गायत्री यज्ञ

राजसमन्द (राव दिलीप सिंह)जिले में गायत्री परिवार आमेट के सदस्यों ने रविवार को गृह- गृह यज्ञ अभियान के तहत अपनें अपनें घरों ं में लांक डाउन की पालना करते  तथा सोशल डिस्टेसिंग को ध्यान में रखतें हुए गायत्री यज्ञ किये। यज्ञ से सम्पूर्ण देश में व्यक्ति निर्माण के साथ-साथ वातावरण परिसोधन का कार्य भी होगा। इसी क्रम मे गायत्री परिवार के सदस्यों ने आज अपनें घरों मे गायत्री यज्ञ कियें।


ज्ञात हुआ की सोमवार को फलासिया रोड स्थित गायत्री मंदिर पर यज्ञ हवन का आयोजन होगा।


गुलमंडी, भदालीखेड़ा और निम्बाहेड़ा जाटान के तीन और लोग कोरोना पॉजिटिव

 भीलवाड़ा हलचल। भीलवाड़ा में कोरोना संक्रमण के केस लगातार बढ़ रहे हैं। रविवार दोपहर तीन नये पॉजिटिव सामने आये हैं। इनके साथ ही भीलवाड़ा में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 142 तक पहुंच गई है। वहीं अब तक कोरोना से 3 बुजुर्गों की मौत हो चुकी है। इनमें एक महिला भी शामिल हैं। ये तीनों गंभीर बीमारियों से ग्रेषित थे। 
चिकित्सा विभाग के अनुसार, रविवार को सामने आये संक्रमितों में गुलमंडी, भदालीखेड़ा और निंबाहेड़ा जाटान के लोग शामिल हैं। इनमें एक महिला भी बताई जा रही है। ये लोग अजमेर, सूरत और अहमदाबाद से लौटकर आये थे।


6 औऱ लोग हुए कोरोना वायरस मुक्त,आज किये जायेंगे डिस्चार्ज

भीलवाड़ा( हलचल) कोरोना वायरस से छह और लोगों के  मुक्त होने पर आज उन्हें डिस्चार्ज किया जाएगा ।महात्मा गांधी अस्पताल के पीएमओ डॉ अरुण गोड ने हलचल को बताया कि रविवार शाम और वायरस मुक्त हुए लोगों को आजादनगर स्थित महाप्रज्ञ भवन से डिस्चार्ज किया जाएगा अब तक 76 संक्रमित हुए लोगों को वायरस मुक्त होने पर डिस्चार्ज किया जा चुका है , आज 6 और  लोगों के डिस्चार्ज करने के साथ ही इनकी संख्या अब 82 हो जाएगी जबकि भीलवाड़ा में 139 रोगी अब तक संक्रमित पाए गए हैं इनमें से तीन की मौत हो चुकी है ।


अंडरब्रिज में भरा पानी, राहगीर परेशान

 भीलवाड़ा हलचल।  चित्तौड़ रोड चंद्रशेखर आजाद नगर चौराहा के सामने सगस जी के पास स्थित रेलवे अंडर ब्रिज में पानी भरने से लोगों को आने जाने में  परेशानी का सामना करना पड़ रहा है । लोग रेलवे लाइन के ऊपर से आते हैं । ऐसे में हर समय हादसे की आशंका बनी रहती है।  


पुर में मास्क वितरण किये  

 उपनगर पुर में आज सीरत सराय कमेटी चेयरमैन हाजी शब्बीर शेख के निर्देशानुसार संघर्ष सेवा समिति व आशिक ए रसूल बच्चा कमेटी के माध्यम से पुर में बजरंगपुरा सदर बाजार में हर दुकानदार को व बस स्टैंड सब्जी मंडी में करीब 400 मास्क वितरण किए गए इस मौके पर सदस्यगण योगेश सोनी मोहम्मद उमर महावीर व्यास अमीन नीलगर निर्मल सिंघवी इकबाल बिसायती हुसैन मोहम्मद अकतर अली सैयद रामलाल छिपा मनोज छिपा उपस्थित थे


37 व्यक्ति झारखंड व पश्चिम बंगाल के लिए रवाना हुए

गुलाबपुरा(सीपी जोशी)/ राष्ट्रीय राजमार्ग 79 पर गुलाबपुरा 29 मील की चेकपोस्ट थे आज क्षेत्र के से झारखंड के 32 में पश्चिम बंगाल के पांच सहित कुल 37 व्यक्ति जयपुर के लिए रोडवेज बस से रवाना हुए हैं। स्थानीय तहसीलदार सोहनलाल प्रजापत , नायब तहसीलदार श्याम लाल आमेटा ,विश्वास चंद्र त्रिपाठी ने इन्हें रवाना किया। इस दौरान पालिका अध्यक्ष धनराज गुर्जर द्वारा व सुमित कालिया की ओर से भोजन के पैकेट वितरित किए गए।


स्काउट गाइड ने तंबाकू निषेध का लिया संकल्प

 भीलवाड़ा हलचल। राजस्थान राज्य भारत स्काउट व गाइड जिला मुख्यालय  के तत्वाधान में आज आर.सी.एच. ओ. डॉक्टर सी.पी .गोस्वामी के मुख्य आतिथ्य में तंबाकू निषेध दिवस सामाजिक दूरी रखते हुए, मनाया गया ।सी,.ओ .गाइड अनीता तिवारी ने बताया कि आज जिला मुख्यालय पर डॉ सी.पी .गोस्वामी ने सभी उपस्थित स्काउट गाइड को तंबाकू के हानिकारक प्रभाव तथा उससे होने वाले रोगों की की विस्तार से जानकारी देते हुए सभी को जीवन में तंबाकू का सेवन नहीं करने तथा अपने संपर्क में आने वाले प्रत्येक व्यक्ति को तंबाकू सेवन नहीं करने के लिए प्रेरित करने का संकल्प दिलाया। सहायक लीडर ट्रेनर (स्काउट) व इको क्लब प्रभारी प्रेम शंकर जोशी के नेतृत्व में राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय सुभाष नगर के इको क्लब सदस्य पवन बावरी सूरज धोबी  भैरु बावरी स्काउट गाइड ने तंबाकू निषेध के नारे लिखी तख्तियां लेकर कृषि मंडी चौराहे पर जनसाधारण को तंबाकू सेवन नहीं करने हेतु जोरदार नारे लगाकर जागरूक किया इस अवसर पर जिला मुख्यालय पर निबंध पोस्टर व नारा लेखन प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया ।


172 कोरोना पॉजिटिव महिलाओं की डिलिवरी, 44 नवजात निकले संक्रमित

गुजरात के अहमदाबाद में कई गर्भवती महिलाएं उस समय भौंचक्का रह गईं, जब बच्चे को जन्म देने से पहले हुए टेस्ट में उन्हें कोरोना पॉजिटिव पाया गया। अधिकतर में कोई लक्षण नहीं पाया गया लेकिन वे कंटेनमेंट जोन में रहीं और संभवत: कम्युनिटी ट्रांसफर से उनमें वायरल संक्रमण फैला। यहां के सिविल हॉस्पिटल, एसवीपी, सोला सिविल, शारदाबेन और एलजी हॉस्पिटल में कोरोना संक्रमित 172 महिलाओं ने बच्चों को जन्म दिया, जिनमें से 44 नवजात संक्रमित पाए गए।


महिलाओं को नवजात के सुरक्षा की चिंता
सिविल हॉस्पिटल में गाएनेकॉलजी ऐंड ऑब्सटेट्रिक्स डिपार्टमेंट के हेड डॉक्टर अमिय मेहता ने कहा, 'महिलाएं सबसे पहला सवाल यही पूछती हैं कि क्या उनका बच्चा सुरक्षित रहेगा। आंकड़े बताते हैं कि पिछले 2 महीनों में 90 बच्चों को डिलिवरी हुई, जिनमें महिलाएं कोरोना संक्रमित थीं। हालांकि इनमें से 30 प्रतिशत से भी कम केस में बच्चे पॉजिटिव निकले।'

कोरोना का सामना अच्छे से कर रही महिलाएं
इसी तरह से एसवीपी हॉस्पिटल में 70 कोरोना पॉजिटिव महिलाओं की डिलिवरी हुई। इसमें से 15 या फिर 21.4 प्रतिशत बच्चे कोरोना पॉजिटिव निकले। यहां डॉक्टर पारुल शाह ने बताया कि स्वाइन फ्लू जैसी संक्रमित बीमारियों की तुलना में कोरोना पॉजिटिव महिलाएं बेहतर तरीके से सामना कर रही हैं। सभी महिलाओं में से केवल एक को ही सांस लेने में सहायता की जरूरत पड़ी। बाकी खुद रिकवर हो गईं।

संक्रमित मां के इलाज के लिए प्रक्रियाओं में देरी
सोला सिविल हॉस्पिटल में डॉक्टर अजय देसाई ने बताया, 'हॉस्पिटल में कोरोना संक्रमित 12 महिलाओं की डिलिवरी हुई, जिनमें से एक भी बच्चे में संक्रमण नहीं पाया गया। कुछ केसों में प्रेग्नेंसी की वजह से कॉम्प्लेक्सिटी डिवेलप हो गई क्योंकि यह कंडीशन ही इम्युनो सप्रेसेंट है। अगर सी-सेक्शन जैसी प्रक्रियाओं में कुछ दिनों की देरी हो जाती है तो ऐसा इसलिए कि मां में कोरोना लक्षण मिलें, तो ठीक किया जा सके। लेकिन इमर्जेंसी केसों के लिए कोई ऑप्शन नहीं है और हमने सभी प्रकियाओं का पालन पूरी सावधानी के साथ किया।'

मां से बच्चे में संक्रमण- वर्टिकल ट्रांसमिशन
विशेषज्ञों का कहना है कि ज्यादातर महिलाएं 20 से 30 साल के आयु वर्ग की हैं, जिनमें बीमारी नहीं पाई गई। कुछ बच्चों को छोड़कर ज्यादातर बच्चे संक्रमण से बच गए। डॉक्टर मेहता ने कहा, 'मां से बच्चे में वायरल संक्रमण की ट्रांसफर की पहचान वर्टिकल ट्रांसमिशन के तौर पर हुई, जिसके बारे में स्टडी की जरूरत है। बच्चे के मानक जैसे कि उसका पॉजिटिव या निगेटिव रहना, कब ऐंटीबॉडी डिवेलप हुआ, उसे क्या परेशानी हुई की स्टडी जरूरी है, जो कि सभी केस में नहीं हुआ।'


मोबाइल पर गलत लिंक, वीडियो देख भाई-बहन ने वैसा ही किया, रिपोर्ट पर परिवार में खलबली

 मोबाइल बच्चों के लिए कभी-कभी घातक बन जाती है। भोपाल में एक परिवार के साथ ही ऐसा ही हुआ है। कामकाज दंपति ऑफिस जाने के दौरान बच्चों से संपर्क के लिए घर एक स्मार्ट फोन छोड़ कर जाते थे। घर में 2 बच्चे थे। बेटी सातवीं में और बेटा नौवीं क्लास में पढ़ाई करता है। स्कूल से लौटने के बाद दोनों घर में अकेले ही रहते थे। घर में छोड़ गए फोन पर लगातार गलत वीडियो को लिंक आ रहे थे।
पढ़ाई के बाद दोनों भाई-बहन उसी फोन पर गेम खेलते थे। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार मोबाइल पर कुछ गलत वीडियो के लिंक आएं। 1-2 बार बच्चों ने लिंक को इग्नोर किया। फिर उस पर क्लिक कर उस वीडियो को देखना शुरू कर दिया। वीडियो देखने के बाद नाबालिग भाई-बहन ने अनजाने में वैसा ही करना शुरू कर दिया। इस दौरान दोनों ने कई बार ऐसा किया। 

बच्ची की बिगड़ी तबीयत
स्थानीय अखबार की रिपोर्ट के अनुसार कुछ दिन पहले बच्ची की अचानक तबीयत बिगड़ गई। उसके बाद परिजन उसे अस्पताल ले गए। जहां डॉक्टरों ने उसकी जांच की। जांच की जो रिपोर्ट आई, उससे परिजनों के होश उड़ गए। जांच के दौरान बच्ची प्रेग्नेंट निकली। शुरू में तो परिजनों को यकीन नहीं हुआ। पूछताछ के दौरान सारी बातें सामने आई।

ये है मामला
दरअसल, भोपाल के एक इलाके में रहने युवक की पत्नी की मौत बेटे के जन्म के डेढ़ वर्ष बाद हो गई थी। उसके बाद युवक ने दूसरी शादी कर ली। दूसरी पत्नी से युवक को 13 साल की बेटी है। वह सातवीं में और सौतेला भाई नौवीं में पढ़ाई करता है। 10 दिन पहले जब बेटी की तबीयत बिगड़ने पर जांच हुई तो वह 8 महीने की प्रेग्नेंट निकली।

जून 2019 में आया था लिंक
रिपोर्ट आने के बाद परिजनों ने जब बच्ची से पूछताछ की तो पता चला कि जून 2019 में मोबाइल पर गेम खेलने के दौरान गलत वीडियो का लिंक आया था। गेम खेलने के दौरान फोन पर बार-बार नोटिफिकेशन आ रहा था। एक दिन दोनों ने उस पर क्लिक कर दिया। वीडियो देखने के बाद दोनों ने वैसा ही किया। 

नाबालिग भाई पर केस
बच्ची को लेकर परिजन शासकीय अस्पताल गए थे। कम उम्र में प्रेग्नेंसी रिपोर्ट के बाद अस्पताल प्रबंधन ने पुलिस को सूचना दे दी। पुलिस ने परिजनों और मासूमों की काउंसलिंग की है। पुलिस ने पॉक्सो एक्ट के तहत नाबालिग भाई पर एफआईआर दर्ज किया है।


कोरोना संक्रमण से एक और मौत, 76 नये मामले

 राजस्थान में रविवार को कोरोना वायरस संक्रमण से एक और मौत हो गई जिससे राज्य में मरने वालों की संख्या 194 हो गई है। वहीं 76 नये मामले सामने आए आने के बाद इस घातक वायरस से संक्रमित होने वालों की कुल संख्या 8,693 हो गयी। अधिकारियों ने बताया कि राज्य में रविवार को जयपुर में कोरोना वायरस संक्रमण से एक और मौत हुई है। इससे राज्य में मृतकों की कुल संख्या 194 हो गई है। केवल जयपुर में कोरोना वायरस संक्रमण से मरने वालों का आंकड़ा 91 हो गया है जबकि जोधपुर में 19 और कोटा में 16 रोगियों की मौत हो चुकी है। अन्य राज्यों के आठ रोगियों की भी यहां मौत हुई है। हालांकि, अधिकारियों का कहना है कि ज्यादातर मामलों में रोगी किसी न किसी अन्य गंभीर बीमारी से भी पीड़ित थे। वहीं राज्य में रविवार सुबह साढ़े 10 बजे तक संक्रमण के 76 नये मामले सामने आए। इनमें जयपुर में 21, झालावाड़ में 14, भरतपुर में 12, झुंझुनू में सात, कोटा में छह ,धौलपुर, राजसमंद में पांच-पांच, अजमेर में तीन, उदयपुर में दो और टौंक का एक नया मामला शामिल है। राज्य में अब तक 8,693 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई है। 


कोरोना के हालातों की ली जानकारी

भीलवाड़ा (हलचल)जिला कांग्रेस सेवादल के पदाधिकारियों द्वारा वीडियो काॅन्फ्रेसिंग के माध्यम से भीलवाड़ा जिले में कोरोना महामारी के कारण प्रभावित क्षैत्रों की जानकारी ली। 


शहर अध्यक्ष मनीष पारीक ने बताया कि कांग्रेस सेवादल प्रदेशाध्यक्ष व मसूदा बिजयनगर विधायक राकेश पारीक, प्रदेश प्रभारी लाल मिश्रा, राष्ट्रीय सचिव मधुगुरूम ने वीडियो काॅन्फ्रेसिंग के जरिये भीलवाड़ा जिला कांग्रेस सेवादल जिलाध्यक्ष हिमांशुल माथुर से कोरोना महामारी पर जिले के बारे में चर्चा की गई 


एंटी कोरोना काढ़ा वितरित

बड़लियास(रोशन हलचल ग्राम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ताओं ने एंटी कोरोना काढ़ा बनाकर गांव में वितरित किया और सबसेसामाजिक दूरी बनाए रखने का आग्रह किया। काढ़ा वितरण मेंप्रवीण  पंड्या परमेश्वर प्रहलाद  वैष्णव बद्री  प्रजापत ओम काबरा लादू  व्यास, मदन पाराशर, रामेश्वर स्वर्णकार,कल्याण  नाथ,प्रह्लाद  पोरवाल,मनोज  सेन,देवराज सेन, रतन  सारस्वत,अभय , संघ के स्वयंसेवकों ने इस कार्य में सहयोग किया।


राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ताओं ने किया काढ़ा वितरित

 बड़लियास/ ग्राम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ताओं ने एंटी कोरोना काढ़ा बनाकर गांव में वितरित किया और सबसेसामाजिक दूरी बनाए रखने का आग्रह किया। काढ़ा वितरण मेंप्रवीण  पंड्या परमेश्वर प्रहलाद  वैष्णव बद्री  प्रजापत ओम काबरा लादू  व्यास, मदन पाराशर, रामेश्वर स्वर्णकार,कल्याण  नाथ,प्रह्लाद  पोरवाल,मनोज  सेन,देवराज सेन, रतन  सारस्वत,अभय , संघ के स्वयंसेवकों ने। इस कार्य में सहयोग प्रदान किया।


 


सोशल डिस्टेंसिंग और सोशल मेसेजिंग,कोरोना संकट काल में दो चीजें हर आम और खास के लिए प्रासंगिक

कोरोना संकट काल में दो चीजें हर आम और खास के लिए प्रासंगिक हो गयी हैं-पहली, सोशल डिस्टेंसिंग और दूसरी, सोशल मेसेजिंग. इन दोनों का असर हमारे घर, दफ्तर, कारोबार, अर्थव्यवस्था, सामाजिक जीवन, शिक्षा, यहां तक कि साहित्य-संस्कृति पर भी पड़ा है. ज्यादातर लोग अनायास ही इनके इतने निकट आ गये, हालांकि अब ऐसा लगता है कि यह संबंध लंबे समय तक चलेगा. सोशल मेसेजिंग को महज चैट के रूप में देखने की बजाय डिजिटल संपर्क के प्रतीकके रूप में देखा जा सकता है, जो अपने व्यापक अर्थों में बहुत सारी दूसरी घटनाओं को समेट लेता है, जैसे- ऑनलाइन कोलेबोरेशन, डिजिटल मनोरंजन, आभासी बैठकें, डिजिटल कारोबार और आभासी शिक्षा आदि. इस त्रासद दौर में जो चंद सकारात्मक बातें हुई हैं, उनमें से एक है हम सबका तकनीक के करीब जाना, उसकी क्षमताओं से परिचित होना और उसका इस तरह इस्तेमाल करना कि अपने कामकाज को कुछ हद तक सामान्य ढंग से चलाया जा सके.


तकनीक, विशेषकर इंटरनेट और क्लाउड की शक्ति, नहीं होती, तो इस महामारी सेनिपटना निजी तथा राष्ट्रीय स्तर पर बहुत ज्यादा मुश्किल होता. एक कहावत है कि अगर आप तीन सप्ताह तक किसी खास अंदाज में काम करते हैं या किसी खास चीज का प्रयोग करते हैं, तो वह आपकी आदत बन जाती है. तकनीक का हमारी आदतमें तब्दील हो जाना वैश्वीकरण और तकनीकी दबदबे के मौजूदा दौर में एकअच्छी घटना है. इसी तरह कोरोना वायरस से बचाव के प्रयासों में तकनीक का बड़े पैमाने पर सहयोगी बनकर उभरना भारत में पहली बार देखा गया. तकनीक नेन सिर्फ लोगों को जोड़े रखने में, बल्कि तेजी से सूचनाएं पहुंचाने,गतिविधियों को व्यवस्थित करने और यहां तक कि संभावित रोगियों पर नजर रखने में भी मदद की है. परंतु इनके विरोधाभासी पहलू भी हैं. प्रौद्योगिकी अपने आप में एक लोकतांत्रिक और समावेशी किस्म की ताकत है. लेकिन कोरोना संकटने उसकी सीमाओं को भी उजागर किया है. माना कि प्रौद्योगिकी अपने स्तर पर सूचनाओं को बाधित नहीं करती और सबको सशक्त बनाने की क्षमता रखती है,लेकिन उसकी यह शक्ति बहुत से पहलुओं पर निर्भर है. यह बात पहले इतनी शिद्दत से महसूस नहीं की गयी, जितनी इस बार. जैसे, दिल्ली की एक बड़ी सोसाइटी में जब छोटे कामगारों (माली, धोबी, कूड़ा उठानेवाला, काम करने वाली बाई, ड्राइवर आदि) को काम शुरू करने की इजाजत देने पर विचार हुआ, तो इन लोगों पर जो बहुत सारी (और जरूरी) पाबंदियां लगाई गयीं (फेसमास्क, सैनिटाइजर, सोशल डिस्टेंसिंग आदि) उनमें एक जगह आकर बात अटक गयी. वह थी सबके मोबाइल फोन में ‘आरोग्य सेतु’ एप का होना.


 


ज्यादातर छोटे कामगारों के पास स्मार्टफोन नहीं, बल्कि सस्ते मोबाइल फोन हैं, जिन पर एंड्राॅयड एप नहीं चलते. यहां तकनीक की सीमा सामने आ गयी. आरोग्य सेतु एप संकेत देता है कि आपके आसपास कोई कोरोना संक्रमित व्यक्ति तो नहीं है.इसी तरह, एप रखने वाले किसी व्यक्ति के संक्रमित हो जाने पर यह सरकारी एजेंसियों को सूचित करने का भी एक अच्छा जरिया है. वह तीसरे पक्ष के लिएभी जरूरी है, जैसा उपरोक्त सोसाइटी के मामले में स्पष्ट होता है. ये लोग स्मार्टफोन के अभाव में खुद भी असुरक्षित हैं और उनके संपर्क में आने वाले दूसरे लोग भी. तब कैसे कहा जाये कि तकनीक की ताकत समावेशी, निष्पक्ष और लोकतांत्रिक है?ऐसे लाखों छात्र लॉकडाउन में ऑनलाइन शिक्षा के दायरे से बाहर रह गये,जिनके पास स्मार्टफोन या पर्सनल कंप्यूटर नहीं है. ऐसे बहुत से लोग कोलेबोरेशन या सहकर्म के दायरे से बाहर रह गये, जिनके घर पर कंप्यूटर नहीं है या फिर अच्छी इंटरनेट कनेक्टिविटी नहीं है.


जहां शहरी इलाकों की बड़ी आबादी का काम तकनीकी माध्यमों की मदद से चलता रहा, वहीं ग्रामीण औरअविकसित इलाकों में बहुतों को पता ही नहीं चला कि ऐसा भी कोई रास्ता निकाला गया था. पता चलता भी, तो बिजली की अनुपलब्धता, डिजिटल उपकरण याफिर तकनीकी दक्षता के अभाव के कारण वे पीछे ही रहते. यदि भाषा की चुनौती तथा गरीबी से जुड़े मसले जोड़ दें, तो ऐसा लगेगा कि इस दौर में डिजिटल विभाजन बढ़ा ही है. सच यही है कि तकनीक समृद्ध लोग आगे निकल गये हैं औरत कनीक वंचित पीछे छूट रहे हैं. सोशल मीडिया ने संकट काल में सूचनाओं के माध्यम से लोगों को एक-दूसरे से जोड़े रखा, लेकिन इन्हीं माध्यमों पर गलत सूचनाएं, फेक न्यूज और दुष्प्रचार ने भी जोर पकड़ा. लोगों के बीच भयऔर नफरत फैलाने वालों को तो अच्छा मौका मिला, क्योंकि इस समय लोगों के पास अतिरिक्त समय था. औसतन 3.47 घंटे प्रति सप्ताह स्मार्टफोन का इस्तेमाल किया गया है.


उसमें भी 19 फीसदी समय चैट को गया है, 15 फीसदी सोशल नेटवर्किंग को, 14 फीसदी वीडियो स्ट्रीमिंग को और छह फीसदी ब्राउजिंग को.दूसरे मुद्दों को फिलहाल अनदेखा भी कर दें, स्मार्टफोन पर खर्च होने वाला कम-से-कम 54 फीसदी समय ऐसी ही गतिविधियों में लगा है, जिनके जरिये गलत और गुमराह करनेवाली सूचनाएं इंटरनेट की दुनिया में यात्रा करती हैं. इतना ही नहीं, साइबर ठगों को भी कोरोना त्रासदी ने एक मौका दे दिया. उन्होंने तकनीक की दुधारी तलवार का इस्तेमाल सीधे-सादे लोगों को ठगने के लिए किया.कुछ नाकारा लोगों ने अपनी जिम्मेदारियों से बचने के लिए भी तकनीक की आड़ली. श्रमिकों के लिए ट्रेनें चलीं, लेकिन लाखों श्रमिक जानकारी की तलाशही करते रह गये. कहीं तो कमी रही हाकिमों के स्तर पर, तकनीक के स्तर परया मजदूरों की बेबसी के स्तर पर. अब किसे जिम्मेदार ठहराया जाये? राज्य सरकारों ने मजदूरों के पंजीकरण के लिए जो वेबसाइटें बनवायीं, उनमें सेअनेक ठीक से नहीं चलीं. अनेक श्रमिकों ने मीडिया से कहा कि उन्हों ने घंटों कोशिश की, लेकिन अक्सर वे हेल्पलाइन से संपर्क न कर सके. जाहिर है,बहुत से लोगों के लिए अपनी अकर्मण्यता को छिपाने का बहाना भी बनी तकनीक.जब कोई वेबसाइट तक पहुंच ही न सके या फोन मिला ही न सके, तो जवाब देना आसान है कि मांग इतनी बढ़ गयी है कि सर्वर उसे पूरा नहीं कर पा रहे हैं. लेकिन कोई उनसे यह पूछे कि वेबसाइटों के पांच-दस मिरर (अलग-अलग ठिकाने) बना देने से आपको किसने रोका है या फिर एक ही फोन की सौ या दो सौ लाइनें लेने से किसने रोका है?


(ये लेखक के निजी विचार हैं.)


पीपीई किट घोटाला

दिल्ली । हिमाचल प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष राजीव बिंदल ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने अपना इस्तीफा भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा को भेज दिया है। उन्होंने त्यागपत्र में लिखा है कि वह केवल उच्च नैतिक मूल्यों के आधार पर त्यागपत्र दे रहे हैं।


अपने इस्तीफे में राजीव बिंदल ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष को लिखा है कि गत दिनों स्वास्थ्य विभाग के निदेशक का कथित ऑडियो वायरल हुआ था। इस मामले में उनका कोई मतलब नहीं है। उन्होंने पत्र में कहा है कि हम विश्वास दिलाते हैं कि इस मामले से भाजपा का कोई लेना-देना नहीं है।


गौरतलब है कि हिमाचल प्रदेश में पीपीई किट घोटाला हुआ है। इस घोटाले में राज्य के स्वास्थ्य विभाग के निदेशक अजय गुप्ता की गिरफ्तारी हई है। गुप्ता पर घूस लेने का आरोप लगा है। इस मामले की जांच विजिलेंस विभाग कर रहा है।


प्रदेश 76 और कोरोना संक्रमित

भीलवाड़ा( हलचल )प्रदेश में रविवार को  76 कोरोना संक्रमित सामने आए हैं।
रविवार सुबह रिपोर्ट में सर्वाधिक कोरोना वायरस 21 संक्रमित जयपुर में  मिले हैं   जबकि झालावाड़ में 14 भरतपुर में 12 झुंझुनू में 7 कोटा में 6 राजसमंद  और धौलपुर में 5-5 अजमेर में 3 उदयपुर में 2 और टोंक में 1 संक्रमित मरीज मिला है प्रदेश में अब इनकी संख्या बढ़कर 8693 तक पहुंच गई है जबकि मृतकों की संख्या 194 हो गई है


टायर फेक्ट्री में आग से लाखो का ,नुक्सान,तहसीदार ने दिखाई हिम्मत

 भीलवाड़ा (हलचल) जिले के जहाजपुर क्षेत्र में टायर फैक्ट्री में भीषण आग लग गई जिस पर दमकल कर्मियों के साथ तहसीलदार ने भी अथक प्रयास कर काबू पाया ।
बताया गया है कि जहाजपुर के निकट स्क्रैप टायर फैक्ट्री में अज्ञात कारणों के चलते आग लग गई और देखते देखते आग ने विकराल रूप ले लिया जहाजपुर और देवली की दमकल  मौके पर पहुंची और आग पर काबू पाया इस दौरान जहाजपुर के तहसीलदार मुकंद सिंह शेखावत ने भी हिम्मत दिखाते हुए आग बुझाने के लिए दमकल पर चढ़ कर फायरमैन की भूमिका निभाई। आग से लाखों रुपए के नुकसान की आशंका जताई गई है


आरएससीईआरटी के उपनिदेशक तेजपाल उपाध्याय सेवानिवृत

 शाहपुरा-(मूलचन्द पेसवानी) राजस्थान राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (आरएससीईआरटी) के उपनिदेशक तेजपाल उपाध्याय सेवानिवृत हो गये है। उनको आरएससीईआरटी उदयपुर के सभागार में परिषद की निदेशक प्रियंका जोधावत की मौजूदगी में आयोजित कार्यक्रम में उनकी सेवाओं का सम्मान करते हुए भावभानी विदाई दी गई। उपनिदेशक तेजपाल उपाध्याय ने आरएससीईआरटी में रहते हुए शैक्षिक नवाचारों के लिए कार्य किया। कुछ समय के लिए वहां निदेशक का पद रिक्त होने पर उन्होंने कार्यवाहक निदेशक के रूप में कार्य भी किया। इस दौरान देश की शिक्षा नीति व नये शिक्षा सत्र में देश भर के लिए तैयार किये जा रहे पाठ्यक्रम की नीति निर्धारण समिति की बैठक में भी उनके द्वारा रखे गये प्रस्तावों को केंद्र स्तर पर सराहना मिली। वर्तमान में आॅन लाइन शिक्षा के तहत पाठ्यक्रम तैयार करने में भी उनकी भूमिका रही। सेवानिवृत कार्यक्रम में निदेशक प्रियंका जोधावत ने तेजपाल उपाध्याय की कार्य प्रणाली की सराहना करते हुए कहा कि शैक्षिक नवाचारों के लिए सदैव प्रयत्नशील रहना चाहिए।  शाहपुरा निवासी शिक्षाविद तेजपाल उपाध्याय आरएससीईआरटी उपनिदेशक से पूर्व राजसमंद, अजमेर व चुरू में जिला शिक्षा अधिकारी के रूप् में भी सेवाएं दे चुके है। अजमेर व चुरू में जिला शिक्षा अधिकारी के पद पर रहते हुए राज्य स्तर पर शिक्षा विभागीय योजना में उनके अव्वल रहने पर राज्य स्तरीय शिक्षक सम्मान समारोह में भी उपाध्याय को राज्य सरकार की ओर से सम्मानित किया गया। शिक्षा के क्षेत्र में उनकी सेवाओं को देखते हुए उपाध्याय को राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड अजमेर में सदस्य भी नियुक्त किया गया।


बहेडिया ने किया कार्यभार ग्रहण

गुलाबपुरा टीकम हेमनानी। स्थानीय राजस्थान स्पिनिंग एंड वीविंग मिल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी के पद पर नरेश कुमार बहेडिया ने कार्यभार ग्रहण कर लिया है ।मुख्य कार्यकारी अधिकारी बहेड़िया ने आज बाड़ी माता जी के दर्शन कर पूजा-अर्चना की। मंदिर ट्रस्ट की कृष्ना टांक  ने उनका स्वागत किया। इस अवसर पर मिल के  केशव नारायण माथुर , मजदूर यूनियन के इलियास मोहमद, जयनाथ सिंह इत्यादि मौजूद रहे।  मिल के विधि महाप्रबंधक पवन गुप्ता ने बताया कि  बहेड़िया टीपीपी मोरडी बांसवाड़ा से स्थानांतरित होकर आए हैं।  


टैंक में डूब श्रमिक के परिजनों को एक करोड़ सेज्यादा का मुआवजा

 चितौड़गढ़(राजेश जोशी) के हिंदुस्तान जिंक में ड्यूटी के दौरान श्रमिक की मौत के मामले में आखिर लगभग 19 घंटे बाद फैसला हुआ श्रमिक के परिवार को एक करोड़ 15 लाख की बड़ी सहायता दी जाएगी साथ ही मृतक की बेटी को नौकरी भी दी जाएगी चितौड़गढ़ के हिंदुस्तान जिंक में शनिवार को सवेरे करीब 3:30 बजे तड़के श्रमिक की टैंक में डूबने से मौत हो गई उसके बाद उसके शव को सांवलिया चिकित्सालय लाया गया परिजनों ने मुआवजे में नौकरी की मांग की वही मामला बढ़ता देख इस मामले में बेगू विधायक राजेंद्र सिंह बिधूरी चितौड़गढ़ के सांवलिया चिकित्सालय पहुंचे तथा उन्होंने परिजनों में अन्य लोगों से बात की उन्होंने मध्यस्था करते हुए चर्चा के लिए जिला कलेक्टर पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में हिंदुस्तान जिंक के अधिकारियों को बुलाया 2 घंटे तक चर्चाओं का दौर जारी रहा तथा एक ऐतिहासिक फैसला हुआ जिसमें एक करोड़ 15 लाख रूपय मृतक रमेश मारू के परिजनों को दिए जाएंगे साथ ही अधिकारी क्लास कि उनकी बेटी को नौकरी भी दी जाएगी इस अवसर पर राजेंद्र सिंह बिधूड़ी ने कहा कि देश के इतिहास में श्रमिक को एक करोड़ 1500000 रुपए का मुआवजा एक बड़ा मुआवजा दिया याद दिलाया गया है उन्होंने कहा कि उनके क्षेत्र का मामला था इसलिए उनको इसमें भाग लेना पड़ा उन्होंने जिला प्रशासन व अन्य लोगों का धन्यवाद ज्ञापित किया तथा कहा कि जब भी श्रमिकों की हक की आवाज दवाई जाएगी तब तब तक उठे रहेंगे वहीं उन्होंने हिंदुस्तान जिंक को चेतावनी भी दी कि वे अपने कार्यशैली में बदलाव लाएं तथा उन्होंने इससे पहले भी सर्किट हाउस में गंभीर आरोप लगाए थे ।


बागोर : हमले में मा बेटा घायल

बागोर/ भीलवाड़ा ,(शुभम शर्मा-हलचल) जिले के बागोर कस्बे में आपसी विवाद के चलते कुछ लोगों ने मां बेटे को घायल कर दिया ।बताया गया है कि पारिवारिक विवाद के चलते दीपेश देवपुरा और उसकी मां कंचन के साथ मारपीट की गई दोनों को बागोर चिकित्सालय में उपचार के लिए ले जाया गया जहां से भीलवाड़ा रेफर कर दिया गया । हमले के बाद अब बड़ी संख्या में लोग जमा हो गए।


कोरोना फाइटर्स सम्मान पत्र:नियम, शर्ते, सेटिंगे अलग अलग

इस महामारी का वैक्सिन तो पता नहीं कब आयेगा लेकिन फिलहाल सर्टिफिकेट आ गये है.. कोरोना फाइटर्स सम्मान सर्टिफिकेट। खूब संख्या में छप रहे है, बंट रहे है ,लेकिन फिर भी मारामारी चल रही है। सर्टिफिकेट पाने वाले का नाम पक्का ही इतिहास मे अमर होगा, संभव है कोई स्मारक भी बने और पत्थरों पर  सम्मानपत्र धारकों के नाम लिखे जाये। अधिकांश आदमी को जीते जी अमर होने लालसा रहती है। सर्टिफिकेट के साथ अपना फोटो देखने से उम्र बढती है।
कल ही हमारे पहचान वाले, और दूर तक पहचान रखने वाले, एक सज्जन ये सर्टिफिकेट लेकर आये, उन्हे गली की एक संस्था ने सम्मानित किया, कोरोनो फाइटर्स जैसे टाईटल से नवाजा गया। मौहल्ले वालों ने दो दो फिट दूर खडे रहकर तालियां बजायी, इनका सीना  चार फिट चौडा हुआ, सोशल मिडिया पर चालीस जगह फोटो डाली गयी। गर्व से इनका सिर, धड़ से बिलात भर उपर उठ गया, और कुछ नहीं तो अगली बार इसी सर्टिफिकेट के सहारे पार्षद के लिए दावा कर सकते है।
ऐसे सर्टिफिकेट सरकार, प्रशासन, संस्थाएं, सब बांट रहे है। लोगों मे उत्साह है। इससे फाइटर्स वाली फिलिंग पैदा होती है। यही हाल रहा तो वैक्सिन की जरूरत ही ना होगी, सर्टिफ़िकेट निपटाने के बाद ये ही फाइटर्स कोरोना को भी निपटा देंगे।
निश्चित ही ये सब सर्टिफिकेट फ्रेम में मढे जायेगे, ड्राइंग रूम मे लगेंगे और इन्ही के नीचे, सोफे पर बैठकर आगंतुको को चाय पिलायी जायेगी इस कहानी के साथ कि हम जो ना होते...तो जाने क्या होता।
अगर आप भी, थोड़ी बहुत "उस तरह" की एप्रोच रखते है तो ऐसे सर्टिफ़िकेट के लिए जरूर प्रयास करना चाहिए, अगर ऐप्रोच नहीँ है तो किसी गली वाली संस्था को थोडा सा चन्दा देकर ये प्राप्त कर सकते है। ये सब जगह छप रहे है, बस प्राप्त करने के नियम, शर्ते, सेटिंगे अलग अलग है।
चुकिये मत, में खुद भी एक छोटे मोटे सम्मान पत्र की जुगाड़ मे हूं । जरूरी भी है ।आने वाली पीढ़ियां याद रखेगी.. 
" देखो ..ये थे मेरे दादाजी.. कोरोना फाइटर्स ।
इन्हौने ही कोरोना को मार भगाया था। 
 


कोरोना का असर: हज का कोटा कम करने की तैयारी, सख्त होंगे नियम

लखनऊ । कोरोना वायरस के चलते इस बार सैकड़ों आजमीने हज की काबा देखने की आरजू पूरी नहीं हो पाएगी। सऊदी अरब प्रशासन हज के दौरान लोगों की तादाद कम करने के लिए भारत समेत अन्य देशों का हज कोटा कम कर सकता है। जानकारों की मानें तो सऊदी अरब सरकार एक-दो दिनों में हज के लिए नए दिशा निर्देश जारी कर देगी। भारत से हर साल करीब सवा लाख लोग हज के लिए सऊदी अरब जाते हैं। 


कोटा होगा कम-
हज कमेटी के सदस्य इफ्तिखार जावेद बताते हैं कि भारत से हर साल कर करीब सवा लाख हजयात्री सऊदी अरब हज के लिए जाते हैं। कोरोना वायरस के चलते इस बार सऊदी अरब सरकार हज का कोटा कम कर सकती है। ऐसे में 50 से 60 हजार लोगों को ही हज पर जाने मौका मिल सकता है। 


यूपी का हज कोटा करीब 34 हजार है। इस बार कोटे से कम आवेदन आए थे। ऐसे में उम्मीद थी कि सभी को हज पर जाने का मौका मिल जाएगा। अब सऊदी अरब सरकार कोटे में कमी करती है तो राज्यों के कोटे भी कम हो जाएंगे। ऐसे में लॉटरी के जरिए ही लोगों को हज पर जाने का मौका मिलेगा। अभी तक यूपी से 22 हजार लोग हज की पहली किस्त जमा कर चुके हैं। दूसरी किस्त जमा करने की तिथि कमेटी की ओर से जारी नहीं की गई है।काबे में बनी सेनिटाइज टनल-


सेंट्रल हज कमेटी के सदस्य इफ्तिखार बताते हैं कि हज को लेकर सऊदी अरब प्रशासन ने तैयारी तेज कर दी है। काबे के अंदर जाने वाले सभी रास्तों पर सेनिटाइजिंग सुरंगें बनाई गई हैं। इसके अलावा एयरपोर्ट से हज यात्रियों की जांच शुरू हो जाएगी। मस्जिदों व होटलों को भी तेजी सैनिटाइज किया जा रहा है।


मध्यरात्रि को तेज अधेड़ के साथ बरसे मेघा

सवाईपुर (सांवर वैष्णव ):-   सवाईपुर कस्बे सहित सोपुरा, सालरिया, ढ़ेलाणा, बड़ला, बनकाखेड़ा आदि कई गांवों में बारिश से लोगों को तपन से राहत मिली | बीती मध्यरात्रि को तेज अधेड़ के साथ बारिश का दौर चला | जो रुक-रुककर घटें भर तक चला | बारिश से मौसम खुशनुमा हो गया, और वातावरण मे ठड़ा हो गया है | जिससे लोगों को गर्मी से सुकून मिला है ||


जय श्री कोटड़ी श्याम दरबार आज मंगला श्रृंगार आरती


पेयजल समस्या से परेशान महिलाओं ने फोड़ी मटकिया


 आसींद मंजूर।आसींद नगर पालिका क्षेत्र वार्ड नंबर 11 रिलायंस पेट्रोल पंप के सामने पूरे मोहल्ले में रोड की हालत इतनी खराब हो चुकी है और वही कोरोना लॉक डाउन के चलते पीने के पानी की व्यवस्था बिल्कुल भी नहीं है ।इसके चलते आज वार्ड नंबर 11 की महिलाओं ने मटकी फोड़ कर पानी की समस्या हल करने की मांग की। साथ ही समस्या का समाधान नही होने पर भूख हड़ताल करने की चेतावनी दी है।


सृजन घोटाला: ED ने जब्त की 14 करोड़ 32 लाख की संपत्ति

भागलपुर
आर्थिक अपराध इकाई (ED) ने सृजन घोटाले में बड़ी कार्रवाई की है। प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉड्रिंग एक्ट  के तहत ED ने यह कार्रवाई की है। आरोपितों की करीब 14 करोड़ 32 लाख की संपत्ति ED ने जब्त की है। जानकारी में बताया गया है कि आर्थिक अपराध इकाई ने पीएमएलए के तहत 20 फ्लैट, जमीन के 33 प्लॉट, 18 दुकानें, एक कार और बैंक खाता में रखे रुपये सहित कुल साढ़े 14 करोड़ की संपत्ति जब्त की है।



ED की इस कार्रवाई से हड़कंप मच गया है। बताया जा रहा है कि ये सारी संपत्ति सृजन महिला विकास सहयोग समिति के नाम से है। इससे पहले ED ने बैंक अधिकारी समेत कई लोगों को इस मामले में गिरफ्तार किया था।

ED सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार 20 फ्लैट, 18 दुकान, 33 प्लॉट और एक कार जब्त किया गया है। इसके अलावा बैंक में रखे 4.84 करोड़ रूपये को भी जब्त किया गया है। साथ ही नोएडा, गाजियाबाद, पुणे, रांची, भागलपुर, पटना में फ्लैट को जब्त कर लिया गया है। इसके अलावा नोएडा, गाजियाबाद, भागलपुर की 18 दुकानों को भी ED ने अटैच किया है।

प्रवर्तन निदेशालय ने शनिवार को कहा कि बिहार के गैर सरकारी संगठन सृजन महिला विकास सहयोग समिति की 14.32 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त कर ली है। एनजीओ के खिलाफ धनशोधन मामले की जांच के तहत यह कार्रवाई की गई है।

2017 में सरकारी कोष में कथित अनियमितता कर एक हजार करोड़ रुपये के घोटाले का मामला सामने आने के बाद केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) और ईडी ने एनजीओ के खिलाफ जांच शुरू की थी।

एजेंसी ने बयान जारी कर कहा, ‘जब्त संपति में नोएडा, गाजियाबाद, पुणे, रांची, भागलपुर और पटना में 20 फ्लैट, नोएडा, गाजियाबाद और भागलपुर में 19 दुकानें, बिहार में 33 प्लॉट या घर, फॉक्सवैगन की एक कार और 4.84 करोड़ रुपये बैंक बैलेंस शामिल है।’ ईडी ने सृजन महिला विकास सहयोग समिति लिमिटेड के खिलाफ धनशोधन निवारण कानून के तहत 14.32 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त करने का आदेश जारी किया है।

एजेंसी ने सीबीआई की प्राथमिकी के आधार पर मामले में धनशोधन के आरोप लगाए हैं। सीबीआई ने मामले में कई आरोपपत्र दायर किए हैं। ईडी ने अपनी जांच में बताया कि ‘2003-04 से 557 करोड़ रुपये सरकारी खातों से निकालकर अवैध रूप से एनजीओ (सृजन) के बैंक खातों में डाल दिए गए।’ ईडी के मुताबिक, ‘दिवंगत मनोरमा देवी सोसायटी (एनजीओ) के गठन से लेकर 13 फरवरी 2017 में मृत्यु होने तक इसका सचिव रहीं।’

इसने कहा, ‘वह मुख्य आरोपी थीं जिन्होंने सरकार और बैंक अधिकारियों की मिलीभगत से सरकारी धन में अनियमितताएं कीं।’ इसने कहा कि एसएमवीएसएसएल के बैंक खाते में स्थानांतरित धन को आरटीजीएस, नकदी एवं चेक के माध्यम से विभिन्न कंपनियों में स्थानांतरित किया गया। एजेंसी ने कहा, ‘अवैध रूप से स्थानांतरित धन का इस्तेमाल मनोरमा देवी, सरकारी अधिकारियों और अन्य के परिवार के सदस्यों के नाम पर अवैध रूप से संपत्ति जुटाने में किया गया।’


राजस्थान में कोरोना वायरस संक्रमण से नौ और मौत, 252 नये मामले

 राजस्थान में शनिवार को कोरोना वायरस संक्रमण से नौ और मौत दर्ज की गयीं जिससे राज्य में मरने वालों की संख्या 193 हो गई है। वहीं 252 नये मामले सामने आए हैं और राज्य में इस घातक वायरस से संक्रमितों की अब तक की कुल संख्या 8,617 हो गयी।अतिरिक्त मुख्य सचिव रोहित कुमार सिंह ने बताया कि राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण से शनिवार को सिरोही में तीन, जयपुर व जोधपुर में दो-दो तथा पाली व सीकर एक-एक और मौत हुई है। इससे राज्य में मृतकों की कुल संख्या 193 हो गई है। केवल जयपुर में कोरोना वायरस संक्रमण से मरने वालों का आंकड़ा 90 हो गया है जबकि जोधपुर में 19 और कोटा में 16 रोगियों की मौत हो चुकी है। अन्य राज्यों के आठ रोगियों की भी यहां मौत हुई है। हालांकि अधिकारियों का कहना है कि ज्यादातर मामलों में रोगी किसी न किसी अन्य गंभीर बीमारी से भी पीड़ित थे।वहीं राज्य में संक्रमण के 252 नये मामले शनिवार रात साढ़े आठ बजे तक सामने आए। इनमें पाली में 41, जोधपुर में 34, जयपुर में 29, भरतपुर में 25, डूंगरपुर में 17, सीकर में 15, कोटा में 12, सिरोही में 10, उदयपुर में नौ, चुरू में आठ, अजमेर, बारां, जालौर व बाड़मेर में सात-सात, कोटा, चुरू व उदयपुर में आठ-आठ नये मामले शामिल हैं। राज्य में अब तक के संक्रमितों की कुल संख्या 8,617 हो चुकी है।राजस्थान में कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामलों में दो इतालवी नागरिकों के साथ साथ 61 वे लोग भी हैं जिन्हें ईरान से लाकर जोधपुर व जैसलमेर में सेना के आरोग्य केंद्रों में ठहराया गया था।राज्यभर में 22 मार्च से लॉकडाउन है और अनेक थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू लगा हुआ है।


सरकार का बड़ा फैसला

जयपुर


राजस्थान सरकार का बड़ा फैसला


 ग्रीष्म काल के बाद स्कूल खुलने के तत्काल बाद 


कक्षा 1 से 9 और 11वीं कक्षा के छात्रों को क्रमोन्नत किए जाने का प्रमाण पत्र दे दिया जाएगा


 इसे लेकर शिक्षा विभाग ने आदेश भी जारी कर दिए हैं


अब दिखेगा 24 मार्च के पहले जैसा नजारा, लॉकडाउन 5 में बढ़ जाएगी लोगों की जिम्‍मेदारी

सरकार ने लॉकडाउन 5 की घोषणा कर दी है। इसको लेकर गृह मंत्रालय ने गाइडलाइंस भी जारी कर दी हैं। यं तो इस लॉकडाउन में आम जन की सुविधाओं को ध्‍यान में रखते हुए कई चीजों को खोलने की घोषणा भी की है। इस लॉकडाउन के दौरान सरकार ने तीन चरणों में विभिन्‍न गतिविधियों को शुरू किया जाएगा। 24 मार्च के बाद अब एक बार फिर से कई चीजें खुल जाएंगी। इस लिहाज से लॉकडाउन के इस चरण में लोगों की जिम्‍मेदारी काफी हद तक बढ़ जाएगी। ये इसलिए भी जरूरी है क्‍योंकि लॉकडाउन 4 में कोरोना संक्रमितों की संख्‍या पहले के तीन लॉकडाउन के मुकाबले कई गुणा तेजी से बढ़ी है।  


 जानें इस लॉकडाउन की प्रमुख बातें 



  • सरकार ने कंटेनमेंट जोन में लॉकडाउन की अवधि को 30 जून तक बढ़ा दिया है। इसकी पहचान जिला अधिकारियों के द्वारा की जाएगी। इस जोन में कंटेनमेंट जोन में केवल जरूरी गतिविधियों की छूट रहेगी। इसके अलावा राज्य बफर और जोन की भी पहचान कर सकते हैं।

  • जून के दूसरे सप्‍ताह में सभी धार्मिक स्थलों के अलावा होटल, रेस्त्रां और दूसरे हॉस्पिटैलिटी सर्विसेज शुरू हो जाएंगी। इस फेज में शॉपिंग मॉल्स भी खोले जाएंगे जिनके लिए स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से एसओपी जारी किया जाएगा।

  • लॉकडाउन-5 में शिक्षण सस्‍थानों को न खोलने का फैसला लिया गया है। इस पर राज्‍य सरकारें जुलाई में विचार करेंगी।

  • स्थिति की समीक्षा करने के बाद लॉकडाउन-5 के तीसरे चरण में जिम, स्वीमिंग पूल, एंटरटेनमेंट पार्क, थिएटर, बार, अंतरराष्ट्रीय उड़ानें, मेट्रो रेल, सिनेमा हॉल्स और ऑडोटोरियम को खोला जाएगा। इसी चरण में सामाजिक, राजनीतिक, खेल, मनोरंजन, सांस्कृतिक गतिविधियों को खोलने का फैसला लिया जाएगा।

  • इस लॉकडाउन-5 में शाम 7 बजे से सुबह 7 बजे तक के लिए लगाई गई रोक में बदलाव किया गया हे। अब ये रोक रात 9 बजे से सुबह 5 बजे तक के लिए लागू होगी।

  • गृहमंत्रालय की गाइडलाइंस के मुताबिक यदि राज्यों को ये अधिकार भी दिया गया है कि वे जरूरत के अनुसार कंटेनमेंट जोन के बाहर कुछ गतिविधियों पर रोक लगा सकेंगे।

  • लॉकडाउन-5 में घर से बाहर निकलने वालों को एक दूसरे से दूरी बनाए रखने के नियम का पालन करना होगा। इस दौरान मास्‍क लगाना हर किसी के लिए अनिवार्य होगा।


अचानक तबीयत बिगडऩे के बाद महिला की मौत

 भीलवाड़ा हलचल। जिले के कोशिथल गांव की एक महिला की शनिवार को अचानक तबीयत बिगडऩे के बाद मौत हो गई। एमजीएच चौकी के शैतान सिंह गुर्जर ने हलचल को बताया कि कोशिथल निवासी छब्बू (40) पत्नी भंवरलाल तेली की शनिवार को घर पर अचानक तबीयत बिगड़ गई। उसे पहले कोशिथल ले जाया गया, जहां से उसे भीलवाड़ा रैफर कर दिया गया। 108 एंबुलेंस से महिला को जिला अस्पताल लाया गया, जहां डॉक्टर्स ने उसे मृत घोषित कर दिया। शव मोर्चरी में सुरक्षित रखवाया गया है, जिसका पोस्टमार्टम रविवार सुबह किया जायेगा। 


खुले में पड़ा गेहू भीगा

भीलवाड़ा(हलचल)शनिवार रात हुई बारिश से  खुले में पड़ा लाखों मीट्रिक टन गेहूं, सरसों, जौ आदि जिंसें भीग गईं। बारिश की पूर्व चेतावनी के बावजूद कृषि जिन्सों का समय पर उठाव या बचाव नहीं किया जा सका।


समर्थन मूल्य पर खरीदे गए गेहूं के ढेर भीलवाड़ा कृषि उपज मंडी समिति परिसर में शनिवार को लग हुए थे दूसरी तरफ खुले आसामान तले गेहूं की बोरी के ढेर लगे होने से बारिश से नुकसान की आशंका है। यहां भारतीय खाद्य निगम समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीद मंडी में स्थापित केन्द्र के जरिए कर रहा है ओर हजारो बोरिया खुले में पड़ी है जो बारिस से भीग गई है ।


<no title> कोरोना योद्धाओं को अब तक वितरण किए 1500 से अधिक मास्क

 भीलवाड़ा। (अक्षय ) भीलवाड़ा में सिखवाल युवा प्रकोष्ठ के पूर्व जिलाध्यक्ष राजेन्द्र औझा के नेतृत्व सेजल जोशी द्वारा हस्त निर्मित सूती कपड़े के मास्क बनाकर बाँटे जा रहे है। जिलाध्यक्ष पुष्पेन्द्र औझा ने बताया कि सेजल जोशी गत एक महीने से घर पर मास्क बनाकर गरीब मज़दूर लोगो को मास्क बाँट रही है। सेजल ने करीब 1500 से अधिक मास्क अब तक बनाकर बाँटे है। सेजल कहती है कि पुलिसकर्मी, सफाईकर्मी, ओर चिकित्साकर्मी ऐसी विकट परिस्थिति में भी हमारी सुरक्षा के लिए अपनी जान जोखिम में डाल कर सेवा कार्य कर रहे है तो क्यो नही हमसे जो हो सके वो सेवा कार्य हमे करना चाहिए जिससे इन योद्धाओं का उत्साह बढ़े। 


बोर्ड की शेष परीक्षाएं 18 जून से

अजमेर। राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की बची हुई परीक्षाएं 18 जून से प्रारंभ होगी। बारहवीं कक्षा की परीक्षाएं 18 से 30 जून तक और दसवीं की परीक्षाएं 27 से 30 जून तक आयोजित की जाएंगी। राज्य सरकार के निर्देश के तहत शिक्षा बोर्ड ने शनिवार को परीक्षा कार्यक्रम जारी कर दिया।


बोर्ड अध्यक्ष डॉ. डी.पी. जारोली ने बताया कि दसवीं परीक्षा के शेष रहे विषय सामाजिक विज्ञान की परीक्षा 29 जून आौर गणित की 30 जून को होगी।


बारहवीं की शेष रही गणित की परीक्षा 18 जून को, सूचना प्रौद्योगिकी और प्रोग्रामिंग 19, भूगोल व व्यावसायिक अध्ययन 22, गृह विज्ञान 23, चित्रकला 24, हिंदी साहित्य, उर्दू, सिंधी, गुजराती, पंजाबी, राजस्थानी, फारसी साहित्य, प्राकृत भाषा व टंकण लिपि अंग्रेजी 25 जून, संस्कृत साहित्य 26, अंग्रेजी साहित्य व टंकण लिपि हिंदी 27, कंठ संगीत, नृत्य कत्थक व वाद्य संगीत 29 व मनोविज्ञान विषय की परीक्षा 30 जून को ली जाएगी।


माध्यमिक व्यावसायिक की शेष रही परीक्षा 27 जून को होगी। उच्च माध्यमिक व्यवसायिक की शेष परीक्षा 20 जून को हाोगी। प्रवेशिका की शेष परीक्षाएं 27 से 30 जून तक ली जाएंगी, जबकि वरिष्ठ उपाध्याय की परीक्षाएं 18 से 30 जून के बीच आयोजित होंगी।


कलेक्टर की अपील के साथ महाकफ्र्यू का भ्रामक मैसेज वायरल करने वाले आरोपित को भेजा जेल

 भीलवाड़ा हलचल। जिला कलेक्टर भट्ट की अपील के साथ सोशल मीडिया पर भ्रामक मैसेज वायरल करने वाले आरके कॉलोनी निवासी संदीप पुत्र धर्मराज सिंधी को आज संबंधित कोर्ट में पेश किया, जहां से उसे जेल भेज दिया गया। संदीप की गिरफ्तारी अभी शांतिभंग के आरोप में  की गई। उसके खिलाफ केस भी दर्ज किया गया, जिसकी पुलिस जांच कर रही है। मुकदमे में उसकी गिरफ्तारी होनो शेष है।  
सुभाषनगर थाना प्रभारी नवनीत व्यास ने बताया कि गत दिनों एक मैसेज सोशल मीडिया पर प्रसारित हुआ। जिसमें भीलवाड़ा शहर में 3 से 13 जून की रात 12 बजे तक महाकफ्र्यू रहेगा। इस दौरान मीडिया सहित अन्य संगठनों को जारी पास भी मान्य नहीं होंगे। साथ ही यह भी लिखा गया कि जिला कलेक्टर राजेंद्र भट्ट ने सभी से इस अवधि में घर में रहने की अपील की है। इस मैसेज को सोशल मीडिया पर प्रसारित करने वाले युवक के बारे में छानबीन की गई।  इसके बाद आज सांई मंदिर गली निवासी संदीप वालवानी पुत्र धर्मराज सिंधी को पुलिस ने शुक्रवार को शांतिभंग के आरोप में गिरफ्तार कर लिया। थाना प्रभारी ने बताया कि संदीप के खिलाफ आईटी एक्ट व आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत अलग से प्रकरण दर्ज किया गया है। संदीप को शांतिभंग के मामले में आज जेल भेज दिया गया। अब मुकदमे में उसकी गिरफ्तारी की जायेगी। 


बदमाशों को किया कोर्ट में पेश, भेजा जेल

 भीलवाड़ा हलचल ।  स्वरुपगंज स्थित एक पेट्रोल पंप से नकदी और कागजात रखा सूटकेश चुराने के मामले में गिरफ्तार हरियाणा के 3 बदमाशों को आज हमीरगढ़ पुलिस अदालत में पेश किया, जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया।   
हमीरगढ़ थाना प्रभारी मूलचंद वर्मा ने  बताया कि स्वरुपगंज स्थित श्रीनाथ पेट्रोल पंप पर 21 मई अल सुबह एक स्कॉर्पियो में आये तीन बदमाश आठ हजार रुपये की नकदी व सूटकेश चुरा ले गये थे। इस मामले में शुक्रवार को तीनों बदमाशों हरियाणा के नूह जिले के फलंडी निवासी राहुल मेव, साकिर निजामपुर व पीननवां निवासी जूनैद मेव को प्रोडक्शन वारंट के तहत चित्तौडग़ढ़ जेल से गिरफ्तार किया था। पूछताछ के बाद पुलिस ने तीनों को अदालत में पेश किया, जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया।  


 


कोरोना से लड़ाई में योग और आयुर्वेद मददगार, 'मन की बात' में बोले PM मोदी

 कोविड-19 के साथ जारी जंग के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज रेडियो कार्यक्रम 'मन की बात' के जरिए देशवासियों को संबोधित किया. कोरोना संकट काल (corona in india) के दौरान यह तीसरा मौका था जब पीएम मोदी 'मन की बात के जरिए देश के लोगों को संबोधित किया. मन की बात जुड़ी मुख्य बातों को पढ़ें.


बीमार पड़ गए तो क्या होगा?


पीएम मोदी ने कहा- 'हमारे देश में करोड़ों-करोड़ गरीब, दशकों से एक बहुत बड़ी चिंता में रहते आए हैं- अगर बीमार पड़ गए तो क्या होगा? इस चिंता को दूर करने के लिए ही करीब डेढ़ साल पहले 'आयुष्मान भारत' योजना शुरू की गई थी. कुछ ही दिन पहले 'आयुष्मान भारत' के लाभार्थियों की संख्या एक करोड़ पार हो गई है. कहा कि आयुष्मान भारत योजना ने गरीबों के पैसे खर्च होने से बचाए हैं. मैं आयुष्मान भारत के सभी लाभार्थियों के साथ-साथ मरीजों का उपचार करने वाले सभी डॉक्टरों-नर्सों और मेडिकल स्टाफ को बधाई देता हूं. आयुष्मान भारत योजना के साथ एक बड़ी विशेषता पोर्टेबलिटी की सुविधा भी है. पोर्टेबलिटी ने, देश को, एकता के रंग में रंगने में भी मदद की है,यानी बिहार का कोई गरीब अगर चाहे तो, उसे कर्नाटक में भी वही सुविधा मिलेगी, जो उसे अपने राज्य में मिलती. इस योजना के 1 करोड़ लाभार्थियों में से करीब 80 प्रतिशत लाभार्थी ग्रामीण इलाके के हैं. इसमें से भी करीब 50 प्रतिशत लाभार्थी महिलाएं-बेटियां हैं. इन लाभार्थियों में ज्यादातर ऐसी बीमारी से पीड़ित थे जिनका इलाज सामान्य दवाओं से संभव नहीं था.


माय लाइफ, माय योगा


पीएम मोदी ने कहा- आपके जीवन में योग को बढ़ाने के लिए आयुष मंत्रालय ने भी इस बार एक अनोखा प्रयोग किया है. मंत्रालय ने 'My Life, My Yoga' नाम से अंतर्राष्ट्रीय वीडियो ब्लॉग उसकी प्रतियोगिता शुरू की है. भारत ही नहीं, पूरी दुनिया के लोग इस प्रतियोगिता में हिस्सा ले सकते हैं. इसमें हिस्सा लेने के लिए आपको अपना तीन मिनट का एक वीडियो बना कर अपलोड करना होगा. इस वीडियो में आप, जो योग, या आसन करते हों, वो करते हुए दिखाना है और योग से आपके जीवन में जो बदलाव आया है, उसके बारे में भी बताना है.



कोरोना से लड़ाई में योग और आयुर्वेद मददगार


पीएम मोदी बोले- हर जगह लोगों ने योग और उसके साथ-साथ आयुर्वेद के बारे में और ज्यादा जानना चाहा है, उसे अपनाना चाहा है. कितने ही लोग, जिन्होंने कभी योग नहीं किया, वो भी या तो ऑनलाइन योग क्लास से जुड़ रहे हैं या फिर ऑनलाइन वीडियो के माध्यम से भी योग सीख रहे हैं. कोरोना संकट के इस समय में योग आज इसलिए भी ज्यादा अहम है, क्योंकि ये वायरस, हमारे श्वसन प्रक्रिया को सबसे अधिक प्रभावित करता है. योग में तो श्वसन प्रक्रिया (respiratory system ) को मजबूत करने वाले कई तरह के प्राणायाम हैं, जिनका असर हम लंबे समय से देखते आ रहे हैं.


आत्मनिर्भर भारत


पीएम मोदी बोले- बहुत से लोगों ने ये बताया है कि उन्होंने, जो जो समान उनके इलाके में मिलते हैं, उनकी पूरी लिस्ट बना ली है. ये लोग अब लोकल प्रोडक्ट्स को ही खरीद रहे हैं और वोकल फॉर लोकल को प्रमोट कर रहे हैं.


रेलवे के साथी कोरोना वॉरियर्स


पीएम मोदी बोले- हमारे रेलवे के साथी दिन-रात लगे हुए हैं. केंद्र हो, राज्य हो, स्थानीय स्वराज की संस्थाएं हो- हर कोई दिन-रात मेहनत कर रहे हैं. जिस प्रकार रेलवे के कर्मचारी आज जुटे हुए हैं, वे भी एक प्रकार से अग्रिम पंक्ति में खड़े कोरोना वॉरियर्स ही हैं. जो दृश्य आज हम देख रहे हैं, इससे देश को अतीत में जो कुछ हुआ, उसके अवलोकन और भविष्य के लिए सीखने का अवसर भी मिला है. आज हमारे श्रमिकों की पीड़ा में, देश के पूर्वीं हिस्से की पीड़ा को देख सकते हैं. उस पूर्वी हिस्से का विकास बहुत आवश्यक है. कहीं श्रमिकों की स्किल मैपिंग का काम हो रहा है, कहीं स्टार्टअप्स भी इस काम में जुटे हैं, कहीं माइग्रेश कमिशन बनाने की बात हो रही है. साथ ही केंद्र सरकार ने अभी जो फैसले लिए हैं उससे गांवों में रोजगार, स्वरोजगार और लघु उद्योग से जुड़ी विशाल संभावनाएं खुली हैं.


योग और आयुर्वेद पर विश्व के नेताओं के साथ बातचीत


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना संकट में सहायक योग और आयुर्वेद पर विश्व के नेताओं के साथ बातचीत और उनकी उत्सुकता का जिक्र किया. तीन मिनट का योग वीडियो बनाकर भेजने को कहा. कहा कि अंतराराष्ट्रीय योग दिवस आने वाला है.


संकट की सबसे बड़ी चोट गरीब, मजदूर, श्रमिक वर्ग पर


पीएम मोदी बोले- हमारे देश में भी कोई वर्ग ऐसा नहीं है जो कठिनाई में न हो, परेशानी में न हो और इस संकट की सबसे बड़ी चोट अगर किसी पर पड़ी है तो वो हमारे गरीब, मजदूर, श्रमिक वर्ग पर पड़ी है. उनकी तकलीफ, उनका दर्द, उनकी पीड़ा शब्दों में नहीं कही जा सकती. कोरोना के खिलाफ लड़ाई का यह रास्ता लंबा है. एक ऐसी आपदा जिसका पूरी दुनिया के पास कोई इलाज नहीं है. जिसका कोई पहले का अनुभव ही नहीं है. ऐसे में नई नई चुनौतियों और उसके कारण परेशानियां हम अनुभव कर रहे हैं.


मानव जाति की यात्रा इनोवेशन से ही इतने आधुनिक दौर में पहुंची


पीएम मोदी बोले- मैं सोशल मीडिया में कई तस्वीरें देख रहा था. कई दुकानदारों ने दो गज की दूरी के लिए, दुकान में बड़े पाइपलाइन लगा लिए हैं, जिसमें, एक छोर से वो ऊपर से सामान डालते हैं, और दूसरी छोर से ग्राहक अपना सामान ले लेते हैं. किसी भी परिस्थिति को बदलने के लिए इच्छाशक्ति के साथ ही बहुत कुछ इनोवेशन पर भी निर्भर करता है. हजारों साल की मानव जाति की यात्रा लगातार इनोवेशन से ही इतने आधुनिक दौर में पहुंची है.


संकट की इस घड़ी में इनोवेशन


मन की बात में पीएम मोदी बोले- एक और बात जो मेरे मन को छू गई, वो है संकट की इस घड़ी में इनोवेशन, गांवों से लेकर शहरों तक, छोटे व्यापारियों से लेकर स्टार्टअप तक, हमारी लैब्स कोरोना से लड़ाई में, नए-नए तरीके इज़ाद कर रहे हैं, नए इनोवेशन कर रहे हैं. तमिलनाडु के सैलून चलाने वाले के सी. मोहन,ठेला चलाकर जीवनयापन करने वाले गौतमदास जी. पंजाब के दिव्यांग भाई राजू ,अन्य सभी सेवाभाव से लोगों की मदद कर रहे लोगों की मैं प्रशंसा करता हूँ, उनका आदर करता हूँ, उनका तहेदिल से अभिनन्दन.


सेवा में अपना सब कुछ समर्पित


मन की बात में पीएम मोदी बोले- इस महामारी के समय हम भारतवासियों ने ये दिखा दिया है कि सेवा और त्याग का हमारा विचार, केवल हमारा आदर्श नहीं है बल्कि भारत की जीवनपद्धति है. कहा कि हमारे डॉक्टर्स, नर्सिंग स्टाफ, सफाईकर्मी, पुलिसकर्मी, मीडिया के साथी ये सब जो सेवा कर रहे हैं, उसकी चर्चा मैंने कई बार की है. मन की बात में भी मैंने उसका जिक्र किया है. सेवा में अपना सब कुछ समर्पित कर देने वाले लोगों की संख्या अनगिनत है. बोले- देश के सभी इलाकों से महिला सेल्फ हेल्प ग्रुप के परिश्रम की भी अनगिनत कहानियां इन दिनों हमारे सामने आ रही हैं. गांवों, कस्बों में, हमारी बहनें-बेटियां, हर दिन मास्क बना रही हैं. तमाम सामाजिक संस्थाएं भी इस काम में इनका सहयोग कर रही हैं.


कोरोना से होने वाली मृत्यु दर भी देश में काफी कम


पीएम मोदी बोले- हमारी जनसख्या ज्यादातर देशों से कई गुना अधिक है. चुनौतियां भी भिन्न प्रकार की हैं लेकिन फिर भी हमारे देश में कोरोना उतनी तेजी से नहीं फैल पाया जितना दुनिया के अन्य देशों में फैला. कोरोना से होने वाली मृत्यु दर भी देश में काफी कम है. कहा कि जो नुकसान हुआ है उसका दुःख हम सबको है लेकिन जो कुछ भी हम बचा पाएं हैं वो निश्चित तौर पर देश की सामूहिक संकल्पशक्ति का ही परिणाम है. इतने  बड़ेदेश में हर-एक देशवासी ने खुद, इस लड़ाई को लड़ने की ठानी है, ये पूरी मुहिम देश के लोगों द्वारा चलाया जा रहा है


.


स्थिति में काफी सुधार हुआ


कोरोना संकट के बाद धीरे-धीरे सामान्य होते हालातों के साथ प्रधानमंत्री ने और अधिक सतर्क रहने का आह्वान किया.कहा कि पिछली बार की ‘मन की बात’ से इस बार स्थिति में काफ़ी सुधार हो चला है लकिन ऐसे में हमें और अधिक सतर्क रहने की आवश्यकता है.



 


भारतवासियों की उपलब्धि बहुत बड़ी


पीएम मोदी बोले- कोरोना के प्रभाव से मन की बात भी अछूता नहीं रहा है. बोले- सबके सामूहिक प्रयासों से देश में कोरोना के खिलाफ लड़ाई बहुत मजबूती से लड़ी जा रही है. जब हम दुनिया की तरफ देखते हैं तो हमें अनुभव होता है कि वास्तव में भारतवासियों की उपलब्धि कितनी बड़ी है.


Saturday, May 30, 2020

महेशपुरा व सोलंकिया का खेड़ा मे जमकर, तो सवाईपुर क्षेत्र मे बूंदाबांदी शुरु

सवाईपुर ( सांवर वैष्णव )!निकटवर्ती महेशपुरा व सोलंकिया का खेड़ा गांवों में आज दोपहर बाद मौसम का मिजाज बदला तकरीबन 20 मिनट तक तेज बारिश का दौर चला | जिससे सड़कों व गलियारों में पानी दौड़ने लगा | वही लोगों को गर्मी व उमस से राहत मिली | वही सवाईपुर क्षेत्र में बूंदाबांदी का दौर शुरू हुआ |


भाजपा ने सबका साथ सबका विकास व सबका विश्वास हासिल कर दुनिया में अहम पहचान कायम की

भीलवाड़ा हलचल। भाजपा जिलाध्यक्ष लादूलाल तेली ने केन्द्र सरकार के दूसरे कार्यकाल को ऐतिहासिक बताते हुये कहा कि एक वर्ष में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में देश की कई बुनियादी समस्याओ का समाधान करते हुये सबका साथ सबका विकास व सबका विश्वास हासिल कर दुनिया में अहम पहचान कायम की हैं। 


       तेली ने बताया कि पिछले एक वर्ष के कार्यकाल में वर्षो से लम्बित धारा 370 को हटाकर कश्मीर में विकास को गति व आतंकवाद को समाप्त करने तथा करोड़ो लोगो की आस्था व श्रद्धा के प्रतीक राम मन्दिर निर्माण की बाधाओ को दूर किया। इसी के साथ मोदी सरकार ने तीन तलाक जैसे मामले को हल कर करोड़ो मुस्लिम महिलाओ को न्याय दिलाने का कार्य किया हैं।  देश की सुरक्षा विकास व रोजगार के मामले मे मोदी सरकार ने अहम फैसले लेकर जहा एक ओर आतंकवाद को समाप्त करने के लियें पाकिस्तान पर एयर स्ट्राइक कर आतंकवादीयो को कड़ा सन्देश दिया हैं तथा नागरिकता संसोधन कानुन लागु कर देश मे घुसपेटीयो को बाहर का रास्ता दिखाया हैं। वही किसानो के हित में कई फैसले लेकर किसानो के बैंक खातो में सीधी राशि जमा कर किसानो और आमजन के साथ होने वाली समस्या व भ्रष्टाचार को दूर करने का बडा कार्य किया हैं। इसी के साथ कोरोना महामारी के सकंट को समझते हुये दूनिया के कई देशो के मुकाबलें भारत ने लोक डाउन कर संक्रमण को रोकने के लिये सार्थक प्रयास किये हैं। वही आत्मनिर्भर भारत योजना में 20 लाख करोड़ का पैकेज देकर देश के हर वर्ग को आर्थिक रूप से खड़ा कर मजबूत बनाने का कार्य किया हैं तथा 200 करोड़ रूपये तक की सरकारी निविदाओ में विदेशी कम्पनीयो को रोकने का कार्य करते हुये स्वदेशी आन्दोलन को प्राथमिकता दी हैं, जिससे देश में उद्योग जगत में काफी बढोतरी होगी। देश के नागरिको को स्वास्थ्य की दृष्टि से सम्बल प्रदान करने के लिये विश्व की सबसे बड़ी योजना आयुष्मान भारत देश में लागु कर प्रत्येक नागरिक के स्वास्थ्य की सुरक्षा की गारन्टी दी हैं। 


                साथ ही तेली ने बताया कि गरीबो के लिये उज्जवला योजना, जनधन योजना, प्रधानमंत्री जनआवास योजना, जीएसटी के तहत वन नेशन वन टेक्स की व्यवस्था, गरीब स्वर्णो को 10 प्रतिशत आरक्षण, किसान सम्मान निधि योजना सहित अन्य कई जन कल्याणकारी योजनाओ को लागु कर  देश के हर वर्ग को सम्मान देने के साथ उन्नति व विकास की नई मिसाल कायम की हैं।


सुमन चारण पाली जिला अध्यक्षा

  भीलवाड़ा हलचल।  लाड़ो स्पोर्ट्स एकेडमी की कार्यकारिणी का विस्तार किया जा रहा है इसी क्रम में आज पाली जिले की ज़िला अध्यक्षा श्रीमती सुमन चारणको बनाया गया,राठौड़ ने कहा कि सुमन चारण बचपन से सेवा कार्य से जुड़ी  है ओर निरंतर समाज सेवा के कार्य मे सलग्न रहती है, सुमन चरण ने अभी लॉक डाउन के समय मे भी मास्क निर्माण, और वितरण, भोजन सामग्री के पैकेट वितरण,एवं भोजन करवाने जैसे अनेक सेवा कार्य मे सलग्न रही है , सुमन चारण के जिला अध्यक्षा बनने से बालिकाओ को काफी सम्बल मिलेगा,क्योंकि सुमन चारण स्वयं एक बहुत अच्छी अदाकारा है बालिकाओ को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में उचित कार्य करेगी


पारोली में सादगी से महेश जयंती मनाने का निर्णय लिया

पारोली ! (दुर्गेश पाराशर)  माहेश्वरी नवयुग मंडल के सदस्य कमल किशोर चेचाणी ने बताया कि वैश्विक महामारी कोरोना कोविड-19 के चलते माहेश्वरी समाज द्वारा महेश नवमी पर भगवान महेश की अपने अपने घरों में सामाजिक दूरी रखते हुए पूजा अर्चना की जाएगी तथा पीले व्यंजन बनाकर भोग लगाएंगे भगवान महेश से यह प्रार्थना करेंगे कि जल्दी से इस दुनिया से कोरोना वायरस महामारी समाप्त हो तथा सर्वे भवंतू सुखिन: की कामना करेंगे


हैण्डपम्प दस दिनों से खराब

थाणा नरेन्द्र सिंह / करेड़ा तहसील के सीमावर्ती गाँव थाणा में लोगों की प्यास बुझाने वाला एक हैण्डपम्प पिछले दस दिनों से खराब पड़ा है ।गाँव व क्षेत्र के प्रशासनिक अधिकारियों को कई बार सूचित करने के बावजूद भी किसी ने इसकी सुध नहीं ली है। इस हैण्डपम्प से गाँव के लोगों को पेयजल की उपलब्धता होती है ।


 


 


कोरोना से जीती चौदह और लोगों ने जंग, ताली बजाकर किया डिस्चार्ज

 भीलवाड़ा हलचल। भीलवाड़ा में कोरोना संक्रमण को  मात देकर 14 और लोग वायरस मुक्त हो चुके हैं।  इन्हें शनिवार को गुलाब का फूल देकर अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया।  जिला अस्पताल में वायरस मुक्त होने वाले लोगों की संख्या 76 हो गई है।
  भीलवाड़ा में करीब सवा दो माह में कोरोना से 139 लोग संक्रमित हो चुके हैं।   इनमें से एक बुजुर्ग महिला सहित तीन लोगों की मौत हो चुकी है। ये तीनों गंभीर बिमारियों से ग्रेषित थे।  
उधर, 76  लोगों ने अब कोरोना पर जीत हांसिल की है, जिन्हें अस्पताल से डिस्चार्ज किया जा चुका है। इनमें से  14 लोगों जिला कलेक्टर राजेंद्र भट्ट, मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. राजन नंदा, एडीएम सिटी नंदकिशोर राजौरा, सीमएचओ डॉ. मुश्ताक खान और पीएमओ डॉ. अरुण गौड़ व नर्सिंगकर्मी मुकुट राज सिंह ने शनिवार को गुलाब देकर और तालियां बजाकर डिस्चार्ज किया गया।  इनमें से सात लोग जिला अस्पताल में, जबकि सात आजाद नगर स्थित महाप्रज्ञ भवन स्थित कोविड सेंटर में इलाजरत थे।  जिला कलेक्टर ने इस मौके पर कहा कि भीलवाड़ा में चिकित्सा टीम का ही बेहत्तर प्रयास है कि यहां लगातार मरिज ठीक हो रहे हैं। उन्होंने वायरस मुक्त हुये लोगों से होम क्वारेंटाइन के दौरान नियमों की पालना की बात भी कही। 


कोटड़ी थाना प्रभारी निलंबित

 भीलवाड़ा हलचल। कोटड़ी थाना प्रभारी अशोक सांवरिया को आज निलंबित कर दिया गया। बताया जा रहा है कि किसी फाइल में टेक्निकल फाल्ट के चलते यह कार्रवाई की गई है। 


डॉक्टर के भाई के साथ ऑन लाइन ठगी, खाते से निकले 25 हजार रुपये, केस दर्ज

 भीलवाड़ा हलचल। मांडलगढ़ के एक युवक को ठगों ने झांसे में लेकर 25 हजार रुपये की ऑन लाइन ठगी को अंजाम दिया है। पीडि़त युवक आयुर्वेद चिकित्सक का भाई बताया गया है। 
मांडलगढ़ थाने के सहायक उप निरीक्षक गोपाल लाल ने हलचल को बताया कि मांडलगढ़ निवासी बुद्धिप्रकाश नागर के मोबाइल पर तीन दिन पहले एक कॉल आया। कॉलकर्ता ने नागर से बात करते हुये खुद को कस्टमरकेयर से बताया। कॉलकर्ता ने नागर से कहा कि उसने मोबाइल पर लिंक आया है। यह कहकर झांसे में लेते हुये ठगों ने नागर से ओटीपी जान ली। इसके बाद नागर के बैंक एकाउंट से 5-5 हजार कर कुल 25 हजार रुपये निकल गये। यह राशि फोन पे के जरिये उड़ाई गई। ठगी के शिकार नागर ने मांडलगढ़ थाने में मामला दर्ज करवाया है। पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया। मामले की जांच की जा रही है।


 बजरी परिवहन करती पांच ट्रैक्टर-ट्रॉली, एस्कॉर्ट करते दो दुपहिया वाहन जब्त, सात लोग गिरफ्तार 

 भीलवाड़ा हलचल। जिले की मांडलगढ़ थाना पुलिस ने बजरी माफियाओं के खिलाफ शनिवार को बड़ी कार्रवाई करते हुये पांच ट्रैक्टर-ट्रॉलियां और दो दुपहिया वाहन जब्त किये हैं। साथ 7 लोगों को भी गिरफ्तार कर लिया। इनमें 5 लोग ट्रैक्टर चालक हैं, जबकि दो लोग इन ट्रैक्टर-ट्रॉलियों की एस्कॉर्ट कर पुलिस व माइनिंग टीम पर निगाह रखने वाले लोग शामिल हैं। 
मांडलगढ़ पुलिस के अनुसार, थाना प्रभारी रोहिताश देवंदा शनिवार को गश्त पर थे। इस दौरान पलासिया क्षेत्र में पुलिस ने सराणा की ओर से आई पांच ट्रैक्टर-ट्रॉलियों को रोका। इनमें बजरी भरी थी। पुलिस ने इन ट्रैक्टर-ट्रॉलियों को जब्त कर इनके चालक कालू बैरवा, सूरज धोबी, देवेंद्र सिंह, जब्बर सिंह व जगदीश भील को गिरफ्तार कर लिया। इसके अलावा इन ट्रैक्टर-ट्रॉलियों की बाइक व स्कूटी से एस्कॉर्ट कर पुलिस व माइनिंग टीम पर निगाह रखने वाले दो लोगों जगदीश व महावीर गुर्जर को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर दोनों दुपहिया वाहन जब्त कर लिये। इन सभी के खिलाफ पुलिस ने विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज किया है।  उधर, पुलिस की इस बड़ी कार्रवाई से क्षेत्र के बजरी माफियाओं में खलबली मच गई।


मंडी पर मंडरा रहा है कोरोना का खतरा, न लगा रहे हैं मास्क न की जा रही है सोशल डिस्टेंसिंग की पालना

 भीलवाड़ा हलचल। शहर की कृषि उपज मंडी में सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां तो उड़ाई ही जा रही है, साथ ही यहां आने वाले लोग मास्क भी नहीं लगा रहे हैं। ऐसे में यहां कोरोना संक्रमण फैलने की आशंका प्रबल होने लगी है। जिला कलेक्टर ने इस बारे में कई बार मंडी प्रशासन को चेताया भी लेकिन हालात जस के तस बने हैं। 
कृषि उपज मंडी में सांझ ढलने के साथ ही खरीदारों की भीड़ बढऩे लगती है और रात नौ से दस बजे तक सब्जी मंडी क्षेत्र में पैर रखने की जगह भी नहीं मिल पाती है। यहां आने वाले कई लोग बिना मास्क घूमते नजर आते हैं। वहीं सोशल डिस्टेंसिंग की तो जमकर धज्जियां उड़ रही है। सब्जी खरीदने आने वाले लोग और विक्रेताओं के बीच जगह-जगह जमघट लगा रहता है। ऐसे में अगर कोई संक्रमित आ गया तो बड़ी संख्या में लोग संक्रमित हो सकते हैं, इस आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता है। 
कुछ दिनों पहले जिला कलेक्टर ने इसे गंभीरता से लिया और मंडी सचिव को कार्रवाई के निर्देश दिये। इस पर वहां खरीदारों के लिए गोले बनाये गये, लेकिन इन गोलों में आज तक कोई खड़ा नहीं हो पाया और अब तक ये गोले भी नजर नहीं आते हैं। गोलों में मंडी के व्यापारी अपना सामान रख देते हैं और फिर खरीदारों की एक पर एक भीड़ बिना सोशल डिस्टेंस के वहां मोल-भाव करते देखे जा सकते हैं। चिकित्सा महकमा भी मंडी की व्यवस्थाओं को लेकर भी चिंतित है, लेकिन हालात सुधरते नजर नहीं आ रहे हैं। 


विमान का पायलट कोरोना संक्रमित, एयर इंडिया ने दिल्ली-मॉस्को की फ्लाइट वापस बुलाई

नई दिल्ली
एयर इंडिया की एक फ्लाइट शनिवार सुबह दिल्ली से रूस के लिए उड़ान भर चुकी थी। सबकुछ ठीक चल रहा था कि एक फोन आता है। पता चलता है कि फ्लाइट उड़ा रहा पायलट ही कोरोना पॉजिटिव है। फिर क्या फ्लाइट को रास्ते में से ही दिल्ली वापस बुला लिया जाता है। एयर इंडिया की छोटी सी इस चूक की वजह से आज एक बड़ा कोरोना ब्लास्ट हो सकता था लेकिन इसे समय रहते सुधार लिया गया।
राहत की बात, फ्लाइट में नहीं थे यात्री
दिल्ली से मॉस्को जा रही एयर इंडिया की इस फ्लाइट को रास्ते से ही वापस बुला लिया गया। उस वक्त फ्लाइट उज़्बेकिस्तान तक पहुंची थी। दरअसल, फ्लाइट निकलने से पहले पायलट की कोरोना रिपोर्ट जांची जाती है। स्टाफ ने गलती से पॉजिटिव को नेगेटिव पढ़ दिया और पायलट को मॉस्को के लिए रवाना कर दिया। फ्लाइट वंदे भारत मिशन के तहत मॉस्को में फंसे भारतीयों को लेने जा रही थी। इसलिए उस दौरान इसमें सिर्फ क्रू मेंबर थे और कोई यात्री नहीं था। यात्रियों को मॉस्को से चढ़ना था।


नालियों का पानी सड़क पर ,लोग प्रेशसन

 भीलवाड़ा(पंकज)शहर की विभिन्न क्षेत्रो में परिषद की लचर व्यवस्था के चलते क्षेत्रवासियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। ऐसा ही तिलक नगर क्षेत्र वार्ड 43 में देखने को मिला। क्षेत्र में रह रहे शक्ति सिंह ने बताया कि पार्षद व नगर परिषद में कई बार लिखित में शिकायत दर्ज कराने के बाद भी हालत नही बदले। सफाईकर्मियों की अनदेखी के चलते नालियों में जमा गन्दगी से पानी घरों के बाहर फेल जाता है जिससे बाहर आने जाने में मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। वही क्षेत्र में खाली भूखंडों में गंदगी का अंबार लगा हुआ है और नालियों में कचरा भर जाने से क्षेत्र में बदबू फेल रही है। शक्ति सिंह ने बताया कि उन्होंने सम्पर्क पोर्टल पर भी कई बार शुकायत दर्ज कराई है परन्तु कोई समाधान नही निकला। जिससे क्षेत्रवासियों में परिषद के प्रति रोष व्यापत है। उन्होने कहा कि जल्द यदि सफाई नही हुई तो क्षेत्रवासियों को आंदोलन करने पर मजबूर होना पड़ेगा।


स्वतंत्रता सेनानी स्व. सुशीला माथुर को 92 वीं जयंती पर किया नमन

  भीलवाड़ा हलचल। स्वतत्रंता सेनानी एवं महिला आश्रम संस्था की निवर्तमान अध्यक्षा स्व. सुशीला माथुर की 92वीं जंयती पर शनिवार को संस्था परिसर में स्थित मूर्ति स्थल पर उनके चित्र के समक्ष स्टाॅफ सदस्यों द्वारा पुष्पाजंलि अर्पित कर उन्हें नमन किया गया। संस्था सचिव वन्दना माथुर ने बताया कि स्व. सुशीला जी माथुर का जीवन नारी शिक्षा एवं महिलाओं के उत्थान के लिये समर्पित रहा। आज उनकी जन्म जंयती के अवसर पर उन्हें याद किया गया तथा सभी ने उनके बताये मार्ग पर चलने तथा महिला आश्रम संस्थान को निरन्तर आगे बढ़ाने का संकल्प लिया। इस अवसर पर महिला आश्रम बीएड़ काॅलेज प्राचार्या डाॅ. अणिमा पुरोहित, एसडीएम काॅलेज प्राचार्या कीर्ति सिंह, बीपीएड़ काॅलेज प्राचार्या चन्द्रकान्ता त्रिपाटी, महिला आश्रम उमावि की प्रधानाचार्या आशा जैमन, पब्लिक स्कूल प्रधानाचार्या सरिता गर्ग, उपाचार्या ज्योति शर्मा , इंटरनेशनल स्कुल की काॅडिनेटर दीपा पेशवानी आदि सहित कई स्टाॅफ सदस्य उपस्थित थे।


कोरोना फाइटर बैंक कर्मियों का किया सम्मान

  आसीन्द मंजूर। आसींद में कोरोना लॉक डाउन के चलते बैंक कर्मियों ने भी रात दिन एक करकेबैंक में आने  वाले ग्राहकों को कोरोना से जागृत करने में अपना अहम योगदान दिया है। इसके चलते आज  एसबीआई के सभी बैंक कर्मियों का कोरोना फाईटर के रूप में सम्मान किया गया ।  इस मौके पर बैंक में मौजूद सभी कर्मचारियों एवं बैंक प्रबंधक को शाल एव श्रीफल भेंट किया।  सम्मान करने वाले रामजस पाराशर ने बताया कि लॉक डाउन में बैंक में आने वाले सभी ग्राहकों को सोशल डिस्टेंस, सेनेटराइज के साथ पीने  के पानी की व्यवस्था  तथा ग्राहकों के लिए मास्क के साथ बैंक के सामने धूप से बचने के लिए टेंट लगाकर छांव की व्यवस्था करके बैंक ग्राहकों की सेवा की है। 


बदमाशों ने शख्स को मारी 40 गोलियां

नई दिल्ली।गैंगस्टर नासिर के करीबी चौधरी अली हैदर की हत्या में हैरान करने वाला खुलासा हुआ है। दिल्ली पुलिस की जांच में यह पता चला है कि बृहस्पतिवार को जिस दौरान बदमाशों ने हैदर को 40 गोलियां मार कर मौत के घाट उतारा, उस समय पड़ोसी सोच रहे थे कि हो सकता है कोई पटाखे फोड़ रहा हो। पड़ोसियों को गोलियों की आवाज पटाखों जैसी लगी, क्योंकि कोई सोच भी नहीं सकता था कि लॉकडाउन जैसी स्थिति में भी इस तरह फायरिंग कर किसी की हत्या की जा सकती है।


कैमरों के नीचे ही बदमाशों ने हैदर को करीब 40 गोलियां मारी। जिस वक्त बदमाश गोलियां बरसा रहे थे, लोगों को लग रहा था कि कोई पटाखे फोड़ रहा है। वारदात वाले वाले स्थल से 800 मीटर की दूरी में 10 से ज्यादा कैमरे लगे हुए हैं, लेकिन सब बंद हैं। यही वजह है कि पुलिस को कोई सुराग नहीं मिला। अब इलाके के लोग अफसोस जता रहे है कि कैमरे के तार जुड़े होते तो बदमाश पहचान में आ जाते।


बुरे काम का बुरा नतीजा होता है, यह कहावत फिर से सही साबित हुई। उत्तरी पूर्वी जिले में गत फरवरी में जाफराबाद रोड पर सीएए और एनआरसी को लेकर दंगे भड़के, इन दंगों की चिंगारी में पूरा जिला झुलस उठा। दंगों के बाद पुलिस सीसीटीवी फुटेज निकालकर पकड़ न लें, ऐसे में बड़ी संख्या में लोगों ने अपने घरों के बाहर लगे सीसीटीवी कैमरों के तार काट दिए। किसी ने कैमरे ही उतारकर रख लिए। बृहस्पतिवार रात सुभाष मोहल्ले में जिस जगह गैंगस्टर नासिर के करीबी चौधरी अली हैदर को बदमाशों ने गोलियों से छलनी किया, वहां भी चार सीसीटीवी कैमरे लगे हुए हैं। जब पुलिस फुटेज लेने पहुंची तो देखा कैमरों के तार निकले हुए हैं। जिस जगह हैदर रहता था, वहां के स्थानीय लोगों ने बताया कि नूर ए इलाही रोड भी दंगों में जला था। कई लोगों की मौत हुई थी।


दंगों के दौरान लोगों में उस वक्त इतनी दहशत थी सरकार की ओर से जिन घरों पर निशुल्क कैमरे लगाए गए थे, उनके तार भी लोगों ने काट दिए थे। आरोप है उस वक्त हैदर ने भी कैमरों के तार कटवाए थे। पुलिस सूत्रों का कहना है कि हैदर की हत्या करने वाले बदमाश इस बात को जानते थे कि इलाके में लगे सभी कैमरों के तार कटे हुए हैं। जिस जगह उसकी हत्या हुई है, वहीं पर चार कैमरे लगे हुए हैं।


हैदर ने अपनी पसंद से शादी की थी, इस वजह से उसके पिता जफर पहलवान ने उसे घर से बाहर कर दिया था। हैदर के पिता अपने ससुर बरकत खलिफा के घर में रहते थे, बरकत डीडीए में नौकरी करते थे और दिल्ली के बड़े पहलवानों में से एक थे। उनकी मौत के बाद जफर ने उनकी याद में घर के नीचे एक मदरसा शुरू कर दिया।


गैंगस्टर छेनू पहलवान और नासिर के बीच एक वर्ष पहले समझौता हुआ था की उनके बीच गैंगवार नहीं होगी। यह समझौता नासिर की शादी से पहले हुआ था। समझौता एक मस्जिद में हुआ था, जिसमें नासिर खुद मौजूद था और छेनू की तरफ से उसके रिश्तेदार शामिल हुए थे। दो हत्याएं होने पर माना जा रहा है कि दोनों गैंगस्टर के बीच हुआ समझौता टूट गया है।


सरवाड़-सोशल डिस्टनसिंग की पालना नहीं

सरवाड़। अजमेर जिला अभी रेड जोन में है। इस जिले के सरवाड़ कस्बे में 3 कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद पुलिस प्रशासन अलर्ट हुआ था लेकिन अब यहां लॉकडाउन की गाइडलाइन की कोई पालना होती नहीं दिख रही है। यहां ना तो लोग मास्क लगा रहे है और न ही सोशल डिस्टनसिंग का पालन हो रहा है। और तो और पुलिस प्रशासन इसकी पालना कराने को गंभीर नज़र आ रहा है।अब अगर यहां कोरोना का कोई मरीज मिलता है तो स्थिति भयावह हो सकती है।


 राज्य सरकार की छूट के बाद भी गुटका तंबाकू की कालाबाजारी जारी

  बिजोलिया( दीपक राठौर) राज्य सरकार द्वारा कोविड19 महामारी को  देखते हुए गुटखा तंबाकू पर खरीदने -बेचने  एवं खाने पर जुर्माना लगाया गया जिसके अंतर्गत  क्षेत्र नहीं अपितु पूरे राज्य में  धड़ल्ले से  कालाबाजारी हुई इसके पश्चात कुछ दिन पूर्व ही राज्य सरकार द्वारा गुटका तंबाकू को खरीदने बेचने को लेकर रोक हटा दी गई  फिर भी क्षेत्र के कुछ  दुकानदारो द्वारा अभी तक भी  गुटका तंबाकू पर  प्रिंट रेट से भी अधिक  मूल्य वसूला जा रहा हैं क्षेत्र के लोगों का कहना है कि ऐसे लोगों पर प्रशासन द्वारा उचित कार्यवाही होनी चाहिए।



आधार कार्ड बनाने एवं संशोधन   एक ही सेंटर - आमजन परेशान 

  बिजोलिया (दीपक राठौर) बिजोलिया उपखंड क्षेत्र में आधार कार्ड बनाने एवं संशोधन करवाने के लिए मात्र एक ही सेंटर ओर एक ही कर्मचारी बड़ौदा ग्रामीण बैंक में होने से आमजन को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है ।  वर्तमान समय में  हर क्षेत्र - जगह आधार कार्ड की अनिवार्यता होने के कारण जनता का काम नहीं हो पा रहा है इस जानलेवा कोविड19 महामारी में भी गरीब तबके के लोगों का   खाद्य अंतोदय, नरेगा श्रमिक, गर्भवती महिलाओं के ममता कार्ड आदि  जरूरतमंद   कार्यों के लिए भरी गर्मी में सुबह से शाम आधार कार्ड सेंटर पर दो-तीन दिन लगातार चक्कर लगाने पर भी उनका काम नहीं हो पा रहा हैं  इन सभी बातों को लेकर प्रशासन की ओर से भी कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है क्षेत्र के लोगों ने प्रशासन से  आधार कार्ड बनवाने एवं संशोधन के लिए एक से अधिक सेंटर खोले जाने की मांग की हैं।


51 परिण्डे व 200 मास्क वितरित

 भीलवाड़ा हलचल। श्री बालाजी सेवा गु्रप ने सांगानेर रोड़, कीर खेड़ा, कच्ची बस्ती व जूनावास में सोशल डिस्टेसिंग को ध्यान में रखते हुए पक्षियांे के लिये 50 परिण्डे वितरित किये व परिण्डे लगाने वाले परिवारों ने नियमित पानी भरने की शपथ ली तथा क्षैत्रवासियों को 200 मास्क वितरित किये।


श्री बालाजी सेवा गु्रप के संयोजक दिनेश छीपा ने बताया कि गु्रप के केसरिया वाहिनी के कार्यकर्ताओं द्वारा 28 दिन मंे 6500 मास्क, हैण्डवाॅश हेतु 3000 साबुन, पक्षियों के लिये 200 परिण्डे, 100 दाना पात्र व राशन सामग्री के 220 कीट वितरित किये गये। सेवा कार्यों में भामाशाहांे का पूरा सहयोग रहा। गु्रप द्वारा 11000 मास्क बांटने का लक्ष्य रखा है।


इस दौरान नरेश शर्मा, पीयूष माली, रतन जैन, गोदूलाल कीर, ऊँकार कीर, मिहिर जैन, निर्मल सेन, लादूलाल टेलर, बालूलाल तेली आदि कार्यकर्ता मौजूद थे।


दिल्ली दंगों में हैं आरोपित पूर्व कांग्रेसी पार्षद इशरत को शादी करने के लिए मिली अंतरिम जमानत

दिल्ली की एक अदालत ने कांग्रेस की पूर्व पार्षद इशरत जहां को उनकी शादी के लिए अंतरिम जमानत दे दी है। इशरत को उत्तर पूर्वी दिल्ली में फरवरी में हुए दंगों में कथित भूमिका के लिए गिरफ्तार किया गया था, जिसके बाद वह तिहाड़ जेल में बंद हैं। फिलहाल कोर्ट ने इशरत जहां को शादी समारोह की खातिर सिर्फ 10 दिनों के लिए अंतरिम जमानत दी है, हालांकि उन्होंने 30 दिन की अंतरिम जमानत मांगी थी।


गौरतलब है कि कांग्रेस पार्टी से चुनी गईं पूर्व निगम पार्षद इशरत ने दिल्ली की कड़कड़डूमा कोर्ट में 30 दिन की अंतरिम जमानत देने के लिए याचिका दायर की थी, जिस पर शनिवार को कोर्ट ने राहत देते हुए यह निर्णय दिया है। बता दें कि उत्तर पूर्वी दिल्ली में 24-25 फरवरी को हुए दंगे के मामले में इशरत जहां तिहाड़ जेल में बंद हैं, उम्मीद है शनिवार देर शाम तक वह घर आ जाएंगीं।


इशरत के वकील एसके शर्मा ने कड़कड़डूमा कोर्ट ने याचिका दायर कर अंतरिम जमानत मांगी थी, जिसमें उन्होंने कहा था कि इशरत की शादी 2018 में ही 12 जून 2020 के लिए तय की गई थी, ऐसे में शादी की इजाजत दी जाए।


इशरत जहां पर है गंभीर आरोप


बता दें कि जगतपुरी इलाके की पूर्व निगम पार्षद रही इशरत जहां पर फरवरी में खुरेजी में हिंसा फैलाने का आरोप है। दिल्ली पुलिस ने फरवरी महीने में ही शरत जहां को हिंसा भड़काने के आरोप में गिरफ्तार किया था।


गौरतलब है कि राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर और नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में प्रदर्शन के दौरान उत्तर पूर्वी दिल्ली के इलाकों में दंगे भड़के थे। इस दौरान 1000 से अधिक गाड़ियों के अलावा कई घरों और स्कूलों तक को जला दिया गया था। इसी के साथ दंगों में सैकड़ों लोग घायल हुए थे, जबकि 50 से अधिक लोगों की मौत हो गई थी।


खोये तोतों को महिला ने किया कैद, पुलिस में रिपोर्ट और फिर...

राजसमंद जिले के कुंवारिया गांव में शुक्रवार को अनोखी पुलिस शिकायत और अनोखा फैसला देखने को मिला। शिकायतकर्ता था ग्यारह वर्षीय एक बालक। शिकायत थी कि उसके दो पालतू तोतों को एक महिला ने कैद कर लिया है। वह बालक को तोते नहीं दे रही। बालक की शिकायत पर पुलिस जांच करने महिला के घर पहुंची तो उसने कह दिया को दोनों तोते उसके हैं। फिर पुलिस ने एक अनोखी तफ्तीश की और थोड़ी देर में ही महिला का झूठ पकड़ा गया। पुलिस ने थोड़ी देर की जांच के बाद ही बालक को उसके खोए हुए दोनों पालतू तोते दिला दिये।


कुंवारिया थाने में 11 वर्षीय बालक करण सिंह आया और थानाधिकारी को शिकायत करते हुए कहा कि एक महिला उसके पालतू तोते नहीं लौटा रही। बालक का कहना था कि उसने दो तोते पाल रखे थे। उनका नाम कृष्णा और राधा रखा हुआ था। लॉकडाउन के दौरान उसके तोते उड़ गए और वह उन्हें ढूंढ नहीं पाया। जैसे ही लॉकडाउन में थोड़ी ढील मिली तो उसने तोतों को ढूंढना शुरू कर दिया। उसके दोनों तोते उसके घर से लगभग आधा किलोमीटर दूर एक घर में थे, जिसे वहां एक महिला ने कैद करके रखा हुआ था।


बालक की बार-बार गुजारिश के बावजूद उस महिला ने बालक को तोते देने से इंकार कर दिया था। बालक की करूण पुकार सुनकर थानाधिकारी भी द्रवित हो उठे तथा उन्होंने हेड कांस्टेबल हरी सिंह तथा रोशन लाल को बालक के साथ उस महिला के घर जाकर जांच करने को कहा। महिला ने पुलिसकर्मियों को भी तोते देने से इंकार कर दिया और कहा कि वह कैसे माने की यह तोते इस बालक के हैं।


इस पर बालक ने कहा कि दोनों तोते उसे पहचानते हैं। वह उनके नाम से पुकारेगा तो दोनों उसके पास आ जाएंगे। इस पर पुलिस की समझाइश पर महिला मानी और तोते कैद से मुक्त किए। बालक ने जैसे ही तोतों को नाम से पुकारा, दोनों तोते उसके कंधे पर आकर बैठ गए। इस तरह पुलिस ने तोते बालक को दिलाए और वह खुशी-खुशी अपने घर लौट गया।  


कोरोना से जंग जीतेंगे, अर्थव्यवस्था भी उबरेगी- PM मोदी का जनता को खत

 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में एनडीए सरकार के दूसरे कार्यकाल का एक वर्ष पूरा हो गया है। इस अवसर पर पीएम मोदी ने देशवासियों के लिए एक पत्र लिखा है। उन्होंने इस पत्र में अपनी सरकार द्वारा की गई पहलों, उपलब्धियों और बड़े फैसलों के बारे में जानकारी दी। साथ ही उन्होंने भरोसा दिलाया कि कोरोना वायरस (COVID-19) महमारी के खिलाफ लड़ाई में देश जीत हासिल करेगा और इसकी मार से अर्थव्यवस्था भी उबर जाएगी। पीएम मोदी ने 2019 के लोकसभा चुनावों में भाजपा की अगुवाई वाले एनडीए को एक शानदार जीत दिलाने के बाद पिछले साल 30 मई को दूसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी। आइए नजर डालते हैं पीएम मोदी के पत्र की 10 बड़ी बातों पर



  1. पीएम मोदी ने अपने पत्र में लिखा कि सामान्य परिस्थितियों में, वह लोगों के बीच में होते, लेकिन वर्तमान में कोरोना वायरस के कारण बनी परिस्थितियों के कारण ऐसा नहीं हो सकता। इस वजह से वे इस पत्र के माध्यम से लोगों का आशीर्वाद लेने आए हैं। एक बार फिर भारत के 130 करोड़ लोगों और हमारे राष्ट्र के लोकतांत्रिक लोकाचार को नमन।

  2. प्रधानमंत्री मोदी ने इस दिन को भारतीय लोकतंत्र के इतिहास में 'स्वर्णिम अध्याय' बताया। उन्होंने कहा कि यह कई दशकों के बाद हुआ कि लगातार दूसरी बार जनता ने पूर्ण बहुमत की किसी सरकार को देश के चलाने की जिम्मेदारी सौंपी।

  3. पीएम मोदी ने कहा कि उनकी सरकार ने 'ऐतिहासिक' फैसले लिए हैं और पिछले एक साल में देश तेजी से आगे बढ़ा है। उन्होंने स्वीकार किया कि बहुत कुछ करना बाकी है और कई चुनौतियों और समस्याओं का सामना करना पड़ता है। 

  4. पीएम मोदी ने कहा कि भारत ने कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में अपनी एकता और संकल्प से दुनिया को आश्चर्यचकित किया है और एक दृढ़ विश्वास है कि कोरोना की मार से देश की अर्थव्यवस्था भी उबरकर एक मिसाल कायम करेगी। 

  5. कोरोना के बाद की दुनिया का उल्लेख करते हुए, प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत सहित विभिन्न देशों की अर्थव्यवस्थाएं कैसे ठीक होंगी, इस पर व्यापक बहस हो रही है। उन्होंने कहा कि आत्मनिर्भर बनना आज समय की मांग है। 20 लाख करोड़ का पैकेज इसी दिशा में उठाया गया कदम है।

  6. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इतने बड़े संकट में किसी को कोई तकलीफ या असुविधा न हुई हो ये दावा नहीं किया जा सकता। श्रमिक, प्रवासी मजदूर भाई-बहन, छोटे उद्योगों में काम करने वाले कारीगर, पटरी पर सामान बेचने वालों समेत अन्य लोगों ने काफी कष्ट सहन किया है। इनकी परेशानियों को दूर करने की कोशिश की जा रही है।

  7. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को अनुच्छेद 370 को निरस्त करने, राम मंदिर के मुद्दे को सुलझाने, ट्रिपल तालक के अपराधीकरण और नागरिकता कानून में संशोधन को अपने दूसरे कार्यकाल के प्रमुख उपलब्धियों में गिनाया। उन्होंने कहा कि पिछले एक साल में उनकी सरकार ने ये फैसले भारत को वैश्विक नेता बनाने के सपने को पूरा करने के उद्देश्य से लिए।

  8. प्रधानमंत्री मोदी ने अपनी सरकार की भ्रष्टाचार विरोधी साख पर भी जोर देते हुए कहा कि पिछले पांच वर्षों में, राष्ट्र ने देखा कि कैसे प्रशासनिक तंत्र  भ्रष्टाचार के दलदल के साथ-साथ कुशासन से भी मुक्त हुआ। 

  9. अपनी सरकार की कई प्रमुख योजनाओं को जिक्र करते हुए, प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, '2014 से 2019 तक, भारत का कद काफी बढ़ गया। गरीबों की गरिमा बैंक खाते खोलकर मुफ्त गैस कनेक्शन देकर, मुफ्त बिजली कनेक्शन देकर, शौचालय बनवाकर, घर बनवाकर बढ़ाई।'

  10. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि उस कार्यकाल में जहां एक तरफ सर्जिकल स्ट्राइक और एयरस्ट्राइक हुई, वहीं दूसरी ओर वन रैंक वन पैंशन (OROP),वन नेशन वन टैक्स (GST),किसानों के लिए बेहतर एमएसपी जैसी दशकों पुरानी मांगें पूरी हुईं। 


लॉकडाउन में 11 घोड़ों की मौत, 3 क्वारंटीन, लोग डरे

  इंदौर से सटे बेटमा में कोरोना के अलावा पशुओं में फैली बीमारी भी लोगों को परेशान कर रही है। लॉकडाउन के दौरान एक ही परिवार के 9 और दूसरे परिवार के 2 घोड़ों की मौत हुई है। बेटमा में कुल 11 घोड़ों की मौत हो गई है। इसके साथ ही यहां 3 घोड़ों को गांव के खेत में क्वारंटीन किया गया है। कोरोना के कहर के बीच लगातार हो रही घोड़ों की मौत से लोग डरे हुए हैं।
हालांकि 11 घोड़ों की मौत के पीछे की वजह निमोनिया और ग्लैडर जैसी बीमारी को बताया जा रहा है। उसके बावजूद भी लोग डरे हैं। क्योंकि घोड़ों की मौत कैसे हुई, इसकी कोई रिपोर्ट नहीं आई है। ऐसे में डर है कि कहीं कोरोना तो नहीं। लगातार हो रही घोड़ों की मौत के बाद वहां पहुंचीं डॉक्टर स्वाति कौल ने मीडिया को बताया कि इनके सैंपल हमने जांच के लिए हिसार की प्रयोगशाला में भेजे हैं।  


जानकारी के अनुसार हरियाणा के हिसार स्थित लैब में सैंपल जांच के लिए 1 महीना पूर्व ही भेजा गया है। लेकिन अभी तक वहां से रिपोर्ट नहीं आई है। ऐसे में पशु विभाग की लापरवाही भी साफ दिख रही है। क्योंकि डॉक्टर भी लक्षण के आधार पर ही घोड़ों की बीमारी को बता रहे हैं। जब तक टेस्ट की रिपोर्ट आ नहीं जाती है, तब तक बीमारी का पता लगाना मुश्किल है।


कोरोना योद्धा सर्टिफिकेट लेने-देने की मची हौड़

भीलवाड़ा(राजेश जीनगर)/कोरोना संक्रमण महामारी के चलते सम्पूर्ण विश्व में जारी लॉकडाउन के चलते जरूरतमंदों की जनसेवा से जुड़कर अपना समय देने वाले कोरोना योद्धाओं को सोशल मीडिया पर इन दिनों विभिन्न संस्थाओं द्वारा ऑनलाइन कोरोना योद्धा सर्टिफिकेट देने की हौड़ मची हुई है, देखो सुनहरा अवसर चुक ना जाए, इसलिए लेने वाले व देने वालों में इसका प्रचलन बहुत तेजी से बढ़ रहा है। सबसे बड़े ताजुब की बात तो ये है की सर्टिफिकेट देने वाली संस्थाओं को प्रमाण की कोई आवश्यकता नहीं है, बस आपका एक फोटो चाहिए अगले व्यक्ति ने चाहे कोरोना योद्धा के रुप में काम किया हो या नहीं किया हो, इससे संस्थाओं को कोई लेना देना नहीं। जिनको स्थानीय स्तर पर कोई नहीं पुछ रहा है तो वह बाहर मौका तलाश रहें है की बस किसी तरह सर्टिफिकेट मिल जाऐ तो वह भी प्रमाणिक कोरोना योद्धा कहलाएं।
वहीं, सोशल मिडिया पर फैसबुक और व्हाट्सएप पर दबाकर शेयर किए जा रहे ऐसे ऐसे कोरोना योद्धाओं के सर्टिफिकेट भी देखने को मिल रहें है जो लॉकडाउन के दौरान जनसेवा से जुड़ना तो दुर घर के बाहर कभी गली में नजर नहीं आऐ लेकिन कोरोना योद्धा के रूप में उनकी सराहनीय सेवाएं उस सर्टिफिकेट में नजर आ रही है। 
इधर, दुसरी और विभिन्न संस्थाओं द्वारा इस तरह बिना जांच परख के दिए जा रहे सर्टिफिकेट को लेकर भीलवाड़ा की एक सामाजिक महिला संस्था की जिलाध्यक्ष ने आपत्ति दर्ज करवाई हैं की जिस संगठन ने एक महिला कार्यकर्ता को सर्टिफिकेट जारी किया है, वह लॉकडाउन के दौरान जनसेवा को लेकर कभी सक्रिय नहीं रहीं तो, फिर सर्टिफिकेट के जरिए उनका कोरोना योद्धा के रूप में कैसा सम्मान और क्यों, इसकी जांच होनी चाहिए की उन्हें ये सर्टिफिकेट किसके हवाले और कहने से जारी किया गया हैं।


अधिक मात्रा में पानी भी कर सकता है किडनी डैमेज, जानें कितनी मात्रा सही

रोजाना में हम खाने में ऐसी कई चीजों के सेवन करते हैं जो हमारी किडनी के लिए सही नहीं होती या जो हमारी किडनी पर बुरा असर ड़ाल सकती है। अकसर ऐसी चीजों के असर हमें एक या दो दिन में दिखाई नहीं देते और हमें लगता है की हमें कोई नुक्सान नहीं हो रहा है। लेकिन आप क्या खा रहे हैं, यह आपके स्वास्थ्य पर लम्बा और गहरा असर डालता है। इसलिए अपनी डाइट पर ध्यान देता और ज्यादा से ज्यादा हेल्दी खाना खाना हमारे स्वास्थ्य के लिए बेहतर होता है। अपनी किडनी के स्वास्थ्य का ध्यान रखना चाहते हैं तो इन बातों पर ध्यान देना न भूलें, क्योंकि इन खाने की चीजों से आपकी किडनी के स्वास्थ्य पर असर पड़ता है, जो शायद आप जानते भी नहीं होंगे:


NBT



नमक: अधिक नमक खाने से कुछ लोगों का ब्लड प्रेशर बढ़ सकता है और इससे किडनी खराब होने की गति भी बढ़ा सकता है। इसके किडनी स्टोन भी होने की संभावना होती है।


NBT



अधिक प्रोटीन नहीं लाभकारी : प्रोटीन हेल्दी डाइट के लिए काफी अच्छा होता है, लेकिन अगर आपकी किडनी ठीक से काम नै कर पाती हैं तो ज्यादा प्रोटीन आपके लिए हानिकारक हो सकता है। इसके लिए आप डॉक्टर से भी पूछ सकते है। किडनी से सम्बंधित समस्या होने पर छोटे पोरशन में प्रोटीन लेना होता है। अंडा, मछली, नट्स आदि में प्रोटीन की अधिक मात्रा पाई जाती है।


NBT



केम्पा/सोडा : अगर आप एक दिन में दो या उससे अधिक सोडा या केम्पा के ग्लास पी जाते हैं तो आपको किडनी से जुडी बीमारी का खतरा बढ़ जाता है। एक स्टडी के अनुसार, डाइट सोडा पीने वाली महिला की किडनी 20 साल बाद आम महिला की किडनी से 30 प्रतिशत कम काम कर रही थी।


NBT



डिहाइड्रेशन : यह तो सभी को पता है की हमारा शरीर अधिकतर पानी से बना है। इसलिए हमारे शरीर में ठीक मात्रा में पानी होना जरूरी है। अगर आप सही मात्रा में रोज पानी नहीं पी रहे हैं तो किडनी डैमेज होने की संभावना बढ़ जाती है। अब आप यह कैसे पता लगाएं की आप ठीक मात्रा में पानी पी रहे हैं। इसका जवाब है की अगर आपके मूत्र का रंग हल्का पीला है तो समझ लें की आप ठीक मात्रा में पानी पी रहे हैं।


NBT



अधिक एक्सरसाइज : काफी लम्बे समय तक बहुत अधिक वर्क-आउट करना भी परेशानी का सबब बन सकता है। इससे Rhabdomyolysis नामक बीमारी होने का खतरा रहता है। इस बीमारी में डैमेज हुए मसल टिश्यू बहुत जल्दी टूटने लगते हैं। आपके खून में इसके टूटे हुए पदार्थ किडनी फ़ैल करने तक में सक्षम होते हैं। इसलिए अगर आप बॉडी बना रहे हैं या वर्क आउट कर रहे हैं तो धीरे-धीरे इसे अपने रूटीन में लाएं। अगर आपको गाढ़े पिले रंग का यूरिन आता है और मसल में दर्द भी हो तो डॉक्टर को दिखाएं।


घर में धमाका: महिला-नवजात की मौत, 6 घरों को नुकसान

बिहार के मुंगेर में एक घर के अंदर जोरदार धमाका हुआ है, जिसमें एक महिला और नवजात की मौत हो गई। ब्लास्ट से इस घर के साथ-साथ आस-पास के 5-6 घरों को भी नुकसान पहुंचा है। इस बीच ग्रामीणों ने घटना को लेकर एनएच-80 को जाम कर दिया। धमाके की वजह क्या है इसका खुलासा नहीं हो सका है। इस बीच पुलिस टीम सूचना मिलते ही मौके पहुंच गई और मामले की जांच में जुट गई है। साथ ही लोगों को समझाकर जाम भी हटवाया। बताया जा रहा कि मुंगेर मुख्यालय से 20 किलोमीटर दूर एनएच 80 पर स्थित बरियारपुर में आज तकड़े सुबह चाट विक्रेता दशरथ साव के घर ये ब्लास्ट हुआ। जिसमें उसकी बेटी रोमा कुमारी और एक नवजात की मौत हो गई। धमाके में घर आस-पास मौजूद पांच से छह घरों को भई नुकसान पहुंचा है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। घटना में एक और मामला बताया जा रहा कि दरअसल धमाके में मारी गई रोमा ने घर के पड़ोस में रहने वाले लड़के से प्रेम विवाह किया था और इसको लेकर काफी हंगामा भी हुआ था। वहीं शादी के बाद से पति-पत्नी के बीच अनबन चल रही था। रोमा अपने नवजात बच्चे के साथ अपने मायके में ही थी। ऐसे में शक जताया जा रहा कि पति अमित ने ही इस घटना को अंजाम नहीं दिया हो। मौके पर पहुंचे एसडीओ खगेश चंद्र झा और एसपी सदर ने बताया की स्थिति नियंत्रण में है। एफएसएल की टीम और डॉग स्क्वॉयड की टीम मौके पर पहुंच जांच में जुटी हुई है। जांच के बाद ही पता चलेगा की धमाका किस वजह से हुआ।


रोज करें 2 लौंग का सेवन, मुंह की बदबू सहित इन 6 समस्याओं से मिल जाएगी राहत

लौंग का हमारे दैनिक जीवन में बड़ा महत्व है। एक फ्लावर बड के रूप में यह पूरी दुनिया में प्रचलित है और लोग इसका बड़े पैमाने पर उपयोग भी करते हैं। इसका सेवन हम अपनी दिनचर्या में अलग-अलग रूपों से करते आ रहे हैं। यह कई प्रकार की स्वास्थ्य समस्याओं को ठीक करने के लिए प्राचीन समय से ही उपयोग की जा रही है और इसके सकारात्मक परिणाम भी देखे गए हैं। मुख्य रूप से यहां ओरल हेल्थ के लिए सबसे ज्यादा कारगर मानी गई है। आज हम आपको लौंग का इस्तेमाल करने के कारण होने वाले स्वास्थ्य फायदे के बारे में बताएंगे। आइए अब इसके बारे में विस्तारपूर्वक जानते हैं...


​दांतों के दर्द को दूर करने के लिए


NBT


लौंग का इस्तेमाल दातों में होने वाले दर्द को दूर करने के लिए भी किया जा सकता है। यह दांतों में होने वाले दर्द को ठीक करने के लिए प्रभावी असर दिखाएगा। दांतों में होने वाले दर्द को ठीक करने के लिए एक कप पानी में लौंग को अच्छी तरह उबाल लें, उसके बाद इस पानी से कुल्ला करें। हफ्ते में तीन से चार बार ऐसा करें आपके दांतों का दर्द काफी हद तक ठीक हो जाएगा।


​मुंह की बदबू


NBT


ओरल हेल्थ के लिए लौंग अलग-अलग तरीके से इस्तेमाल की जाती है। मुंह की बदबू कई लोगों को शर्मिंदगी का अहसास भी करा देती है, लेकिन इससे बचने के लिए लौंग काफी प्रभावी असर दिखाएगी। जिन लोगों को मुंह से बदबू आने की समस्या है, वे लोग को लौंग को भूनकर इसे चबा-चबाकर खाना शुरू कर दें। कुछ ही दिनों में मुंह से बदबू आने की समस्या से निजात मिल सकती है। हालांकि, किसी मेडिकल कंडीशन की स्थिति होने पर डॉक्टर की सलाह अवश्य लें।


​मुंह के छाले


NBT


मुंह के छाले अक्सर पेट साफ ना होने के कारण भी लोगों को परेशान करते हैं। इससे बचे रहने के लिए लोगों के द्वारा तरह-तरह की युक्ति अपनाई जाती है। जबकि भुनी हुई लौंग को मुंह में 15 से 20 मिनट तक रखने के कारण की छालों की समस्या से काफी हद तक राहत मिलती है। जो लोग मुंह में होने वाले छालों से परेशान हैं, वह भुनी हुई लौंग को दिन में 3 से 4 बार अपने मुंह में जरूर 15 से 20 मिनट तक रखें। ऐसा करने से मुंह में होने वाले छालों की समस्या से काफी हद तक निजात मिलेगी।


​गर्दन में दर्द


NBT


कई लोगों को यह समस्या रात में गलत तरीके से सोने के कारण हो जाती है, लेकिन इससे बचे रहने के लिए लौंग सक्रिय रूप से मदद कर सकती है। लौंग में शारीरिक दर्द को कम करने की भी विशेष क्षमता होती है। 1-2 गिलास पानी में 10 से 15 लौंग को उबालकर इस पानी से गर्दन में होने वाले दर्द पर इसकी सिकाई करें। यह दर्द को कम करने के लिए सकारात्मक रूप से प्रभाव दिखाएगा। स्थिति ज्यादा गंभीर होने पर डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


​पेट की कीड़े मारने के लिए


NBT


पेट में कुछ ऐसे कीड़े भी मौजूद रहते हैं जो हमारे शरीर को काफी नुकसान पहुंचाते हैं। पाचन क्रिया को बिगाड़ने के लिए भी काफी जिम्मेदार होते हैं। इसके लक्षण को इस तरह से समझा जा सकता है कि पेट में हानिकारक किरणों की स्थिति ज्यादा होने पर हमें बार-बार थूक आता है। जिन लोगों को ऐसी परेशानी है वह लोग दिन में कम से कम 3 से लौंग का सेवन करें। यह पेट की कीड़े को मारने के लिए प्रभावी रूप से कार्य कर सकती है।


​तनाव दूर करे


NBT


तनाव दूर करने के लिए कई लोग तरह-तरह की युक्तियों का सहारा लेते हैं। खासकर ऑफिस जाने वाले लोग और परिवार की जिम्मेदारियां संभालने वाले लोग अक्सर तनाव से ग्रसित होते हैं। जबकि लौंग में एंटीडिप्रेसेंट गुण पाया जाता है जो तनाव को कम करने के लिए आपको सक्रिय रूप से लाभ पहुंचाएगा। आप चाहें तो भूनी हुई लौंग को रात में भी खा सकते हैं।


​सिरदर्द को दूर करने में


NBT


सिरदर्द की समस्या का एक प्रमुख कारण तनाव को भी माना जाता है। जैसा कि आपको ऊपर बताया गया कि तनाव को दूर करने के लिए भी लौंग का सेवन किया जा सकता है। इसलिए जिन लोगों को तनाव के कारण सिरदर्द होता है या फिर सामान्य सिरदर्द से जूझ रहे लोग लौंग का सेवन करके सिरदर्द की समस्या को काफी हद तक कम कर सकते हैं।


रणथंभोर में 70 प्रतिशत बाघ-बाघिन भी नहीं है, बाघों की संख्या की पु

 
भीलवाड़ा हलचल। पीपुल फाॅर एनीमल्स के प्रदेश प्रभारी बाबूलाल जाजू ने असिस्टेंट इंस्पेक्टर जनरल आॅफ फोरेस्ट, नेशनल टाईगर कन्जर्वेशन आॅथोरिटी, दिल्ली को पत्र लिखकर रणथंभोर व सरिस्का टाईगर रिजर्व मंे पर्यटन शुरू करने से पूर्व बाघों की संख्या की पुनः गणना कराने की मांग की है।
जाजू ने पत्र में बताया कि विभागीय आंकड़ो के अनुसार रणथंभोर टाईगर रिजर्व मंे लगभग 80 बाघ-बाघिन व शावक है तथा सरिस्का टाईगर रिजर्व मंे लगभग 20 बाघ-बाघिन व शावक हैं, जबकि वास्तविकता में 70 प्रतिशत बाघ-बाघिन भी इन टाईगर रिजर्वों में नहीं है। जाजू ने बताया कि कोरोना लाॅकडाउन के दौरान रणथंभोर व सरिस्का टाईगर रिजर्व में वन विभाग के अफसरों की घोर लापरवाही के चलते माॅनिटरिंग व गश्त व्यवस्था कमजोर होने से अनेक बाघों के शिकार एवं लापता होने की घटनाएं, चीतल सहित अन्य वन्यजीवों का शिकार एवं पेड़ों के कटने व अवैध खनन की घटनाएं घटित हुई है। जाजू ने खुलासा करते हुए कहा कि टी-42 फतह, टी-6 रोमियो व टी-46 मोहन सहित अनेक बाघ रणथंभोर राष्ट्रीय उद्यान से लापता है। जाजू ने इन बाघों सहित अनेक बाघों के शिकार की आशंका जताई है।
जाजू ने रणथंभोर व सरिस्का टाईगर रिजर्व सहित देशभर के सभी टाईगर रिजर्वों में बाघों की संख्या की अत्याधुनिक तकनीक से पुनः गणना करवाते हुए टाईगर रिजर्वों की माॅनिटरिंग व ट्रेकिंग सुरक्षा व्यवस्था मजबूत करने एवं बाघों की सुरक्षा में लापरवाही बरतने वाले दोषी अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की मांग की है। उल्लेखनीय है कि बाघों में रेडियोकाॅलर लगा होने व ट्रेकिंग पर प्रतिवर्ष बड़ी धनराशि खर्च किये जाने के बावजूद बाघों के आंकड़े सत्यता से कोसो दूर है।


ग्रांम पंचायतो में सोडियम हाइपोक्लोराइट का छिड़काव किया

   निम्बाहेड़ा हलचल। निकटवर्ती ग्रांम पंचायत टाई एवं बरड़ा के अरनिया माली, बोरखेड़ी, ढावलिया,  पेमडीया गाव में बुधवार को कारोना महामारी सेे बचा...