लापता युवक का हमशक्ल मिला, पहचान पर संशय: शरीर पर तिल के निशान देख मां ने पहचाना, लेकिन भाई ने किया इनकार

 


लालसोट (दौसा) । जिले के लालसोट क्षेत्र में अर्द्ध विक्षिप्त हालात में एक युवक मिला है। जिसे करणपुरा गांव से दो साल पूर्व लापता युवक बुद्धिप्रकाश मीणा बताया जा रहा है। हालांकि युवक की पहचान की पुष्टि नहीं है। वहीं बुद्धिप्रकाश की मां ने युवक को अपना बेटा बताया है, लेकिन भाई ने पूरी तरह इसकी पुष्टि नहीं की है। अर्द्ध विक्षिप्त हालात में मिले युवक की शक्ल लापता युवक बुद्धिप्रकाश से हूबहू मिलती है। जो सोमवार को रामगढ़ पचवारा के बिडोली गांव के पास लावारिस घूमता ​मिला। वहीं युवक की पहचान को लेकर पुलिस भी पशोपेश में पड़ गई है। ऐसे में पुलिस ने डीएनए जांच कराने का फैसला किया गया है।

पुलिस ने बताया कि श्रीराम मीणा ने बुद्धिप्रकाश का हमशक्ल मिलने की सूचना के बाद मौके पर पहुंच युवक को डिप्टी एसपी आफिस लेकर आए। जहां उसकी मां जाना देवी ने युवक के शरीर पर तिल व अन्य निशान देखकर कहा कि यह मेरा बुद्धिप्रकाश ही है। वहीं डिप्टी एसपी शंकर लाल मीणा ने बताया कि माता-पिता के सैंपल लेकर डीएनए टेस्ट करवाया जाएगा। उसके बाद ही अधिकृत रूप से जानकारी दी जा सकती है कि मिला युवक बुद्धि प्रकाश है या नहीं।

फिंगर मैच नहीं हुआ, अब डीएनए टेस्ट होगा
मौके पर मौजूद करणपुरा गांव के सांवलराम तथा बुद्धि प्रकाश के छोटे भाई द्वारा पुष्टि करने में संशय जताने पर बरामद किए गए अर्ध विक्षिप्त युवक की बायोमैट्रिक जांच करवाई गई। जांच में अंगूठा मैच नहीं होने के कारण पुलिस ने लापता युवक बुद्धिप्रकाश के पिता तथा माता का ब्लड सैंपल लेकर डीएनए टेस्ट कराने का फैसला लिया है। ऐसे में डीएनए रिपोर्ट आने के बाद ही तय हो पाएगा कि अर्ध विक्षिप्त मिला युवक बुद्धि प्रकाश मीणा ही है या कोई और।

61 दिन से चल रहा धरना
करणपुरा गांव से युवक के लापता होने के बाद पीड़ित द्वारा पुलिस में प्राथमिकी दर्ज कराई गई, लेकिन पुलिस ने एफआर लगा दी। चिकित्सा मंत्री परसादी लाल मीणा से भी पीड़ित परिवार ने अपने बेटे का ढूढ़ने की गुहार लगाई। बाद में राज्यसभा सांसद डॉ किरोड़ीलाल मीणा ने पीड़ित परिवार के पक्ष में आकर न्याय दिलाने का बीड़ा उठाया। जिसके बाद उन्होंने धरने बैठे परिजनों से बात कर 11 नवंबर को केस रीओपन कराया। इसके बावजूद सुनवाई नहीं होने पर सैकडों की भीड के साथ मंत्री परसादी लाल मीना के बंगले का घेराव कर प्रदर्शन किया। इसे लेकर पिछले 61 दिनों से एसडीएम आफिस के बाहर परिवार तथा समर्थक धरने पर बने हुए हैं।

Popular posts from this blog

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !

झटके पे झटका ... कांग्रेस का जिले में बनेगा बोर्ड ?