बेरोक-टोक शराब ठेका संचालने के बदले आबकारी निरीक्षक ने दलाल के मार्फत ली 15 हजार रुपये की रिश्वत, दोनों गिरफ्तार

 


 भीलवाड़ा विजय गढ़वाल। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने सोमवार को आबकारी निरीक्षक आशीष शर्मा व दलाल अर्पित उर्फ  चिंकू उफ्र यजूवेंद्र को 15 हजार रुपये की रिश्वत लेते गिरफ्तार कर लिया। आबकारी निरीक्षक ने यह रिश्वत शराब ठेकेदार के एक रिश्तेदार से बेरोकटोक शराब ठेका संचालन के बदले ली। जिला आबकारी अधिकारी कार्यालय में में हुई इस कार्रवाई के बाद कर्मचारियों में खलबली मच गई। 
एसीबी निरीक्षक दीपिका राठौड़ ने हलचल को बताया कि शक्करगढ़ थाना इलाके के शोभाजी का खेड़ा निवासी बनवीर सिंह ने एसीबी में शिकायत दर्ज करवाई कि उसकी रिश्तेदार मधुबाला के नाम से ग्राम पंचायत दड़ावत में शराब की दुकान है। इस लाइसेंसी दुकान पर केस नहीं बनाने एवं नाजायज परेशान नहीं करने की एवज में पिछले नौ माह से मासिक बंधी के रूप में आबकारी विभाग के निरीक्षक आशीष शर्मा 30 हजार रुपये रिश्वत की मांग कर रहा था। शिकायत के सत्यापन के दौरान आरोपित आशीष शर्मा ने अर्पित उर्फ  चिंकू उफ्र यजुवेंद्र हाड़ा को परिवादी से 15 हजार रुपये दिलवा दिये। शेष राशि 15 फरवरी को देना तय हुई। इसी के तहत आज एसीबी ने 15 हजार रुपये के साथ बनवीर को जिला आबकारी अधिकारी कार्यालय परिसर स्थित आबकारी निरीक्षक के दफ्तर भेजा। जहां यह राशि आबकारी निरीक्षक शर्मा ने दलाल अर्पित उर्फ  चिंकू उर्फ यजुवेंद्र हाड़ा को दिलवाई। इसी दौरान परिवादी का संकेत पाकर एसीबी टीम मौके पर पहुंची ओर दलाल अर्पित और आबकारी निरीक्षक शर्मा को उनके कार्यालय से गिरफ्तार कर लिया। एसीबी ने दलाल अर्पित की पहनी हुई जींस पेंट की पीछे की दाहिनी जेब से बरामद कर ली। उधर, एसीबी की इस कार्रवाई से विभागीय कर्मचारियों में खलबली मच गई। एसीबी की एक टीम आरोपित शर्मा के घर छानबीन कर रही है।