फैक्ट्री व दो दुकानों पर स्वास्थ्य विभाग का छापा, एक्सपायरी डेट की 1107 कोल्ड ड्रिंक्स की बोतलें की नष्ट

 


 भीलवाड़ा हलचल। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की टीम ने शनिवार को गुलाबपुरा इलाके में एक फैक्ट्री व दो शॉप पर छापा मारा। फैक्ट्री बंद थी, जबकि दुकानों पर मिली एक्सपायरी डेट की 1107 बोतलों को नष्ट करवा दिया। चिकित्सा विभागीय सूत्रों की माने तो यह कोल्डड्रिंक पीने से लोगों के स्वास्थ्य पर बुरा असर डाल सकता था। 
डिप्टी सीएमएचओ डॉ. घनश्याम चावला ने बताया कि उपभोक्ता मंच से प्राप्त शिकायत पर रूपाहेली खुर्द स्थित वाटर प्लांट फैक्ट्री पर छापा मारा, जहां फैक्ट्री बंद मिली। टीम ने फैक्ट्री संचालक को बुलाकर पड़ताल की। इस पर पता चला कि यह फेक्ट्री पिछले दो साल से बंद है। यह फैक्ट्री एक्वा ब्रांड की वाटर बोटलसप्लाई करती थी, लेकिन कोरोना काल से पहले ही इस फैक्ट्री का एक्वा ब्रांड के नाम से लिया गया लाइसेंस निरस्त हो चुका था। इस दौरान शिकायत मिली कि एक्वा के नाम से गुलाबपुरा में बिक्री जारी है। इस शिकायत पर गुलाबपुरा में दो दुकानों पर छापा मारा। जहां 11 विभिन्न ब्रांडों की 1107 कोल्डड्रिंक बोटलें मिली, जिन पर एक्सपायरी डेट थी। टीम ने कोल्ड व एनर्जी ड्रिंक थम्सअप, पेप्सी, फेंटा, माझा आदि ब्रांड की इन बोटलों को नष्ट करवा दिया गया। इस दुकान से एक्वा ब्रांड की अलग-अलग बोटल के सैंपल लिये गये। इन सैंपल को जांच के लिए जयपुर स्थित लैब में भेजा गया है। उधर, चिकित्सा सूत्रों की माने तो ग्राहकों को सप्लाई की जा रही ये कोल्ड ड्रिंक उनके स्वास्थ्य पर बुरा असर डाल सकती है। उधर, इस कार्रवाई में डिप्टी सीएमएचओ डॉ. चावला के साथ फूड इंस्पेक्टर देवेंद्र सिंह राणावत भी साथ थे।