Friday, February 12, 2021

महापंचायत में बोले राहुल गांधी, देश की 40 प्रतिशत जनता का धंधा बंद कर देंगे नए कानून

 



जयपुर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि कृषि कानूनों का लक्ष्य देश के कृषि व्यवसााय को खत्म कर 40 फीसदी लोगों को बेरोजगार करना, देश के किसानों, मजदूरों और छोटे व्यापारियों का धंधा दो-तीन लोगों के हाथ में देना है। एक दिन पहले लोकसभा में दिए गए अपने भाषण को दोहराते हुए राहुल गांधी ने कहा कि पहला कृषि कानून मंडी खत्म करने का और दूसरा जमाखोरी शुरू करने का है। तीसरा कृषि कानून यह है कि किसान अदालत में नहीं जा सके।

उन्होंने कहा कि पहले कानून में कोई भी व्यक्ति देश में कहीं भी अनाज, फल और सब्जी खरीद सकता है तो फिर मंडी की क्या जरूरत रहेगी। इससे मंडी खत्म हो जाएगी। यह कानून मंडी मारने का कानून है। दूसरे कानून में किसान से कोई भी उधोगपति कितना भी अनाज, सब्जी और फल खरीद कर स्टॉक रख सकता है, इससे जमाखोरी शुरू होगी और तीसरे कानून में कोई भी किसान उधोगपति से अपनी उपज का सही दाम मांगेगा तो उसे अदालत में नहीं जाने दिया जाएगा।इन तीनों कानूनों से छोटे व्यापारी, किसान और मजदूर बेरोजगार हो जाएंगे। राहुल गांधी अपने राजस्थान दौरे के पहले दिन शुरूवार को हनुमानगढ़ जिले के पीलीबंगा में किसान महापंचायत को संबोधित कर रहे थे।

इस मौके पर उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि पीएम ने संसद में कहा कि यह सब हम किसानों के लिए कर रहे हैं अगर मोदी ने किसानों के लिए किया तो वे दिल्ली की सीमा पर क्यों खड़े हैं। अब तक 200 किसान शहीद क्यों हो गए। उन्होंने कहा कि इस देश की सरकार का चार लोग चलाते हैं हम दो और हमारे दो। देश में जो भी हो रहा है वो सिर्फ चार लोगों के लिए हो रहा है। राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री कहते हैं हम किसानों से बात करने को तैयार हैं। लेकिन पहले तीनों कृष कानून रद्द करे और फिर किसान बात करने को तैयार है। कृषि कानूनों को रद्द किए बिना कोई बात नहीं होगी।

 राहुल गांधी ने कहा कि कांग्रेस किसानों के साथ खड़ी है तीनों कृषि कानूनों को लागू नहीं होने दिया जाएगा, इन्हे रद्द करा कर ही मानेंगे। चीन की चर्चा करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि चीन हमारे देश के अंदर आ गया, हमारे जवानों को शहीद किया। बृहस्पतिवार को केंद्रीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह द्वारा संसद में कहा कि हमारा चीन से समझौता हो गया। समझौता यह हुआ कि मोदी ने हिंदुस्तान की पवित्र जमीन चीन को दे दी। मोदी चीन के सामने खड़े नहीं होंगे, किसानों के खिलाफ  काम करेंगे। किसान, छोटे दूकानदार और मजदूर प्रधानमंत्री को अब अपनी शक्ति दिखाने जा रहा है।नोटबंदी और जीएसटी की चर्चा करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि इससे छोटे व्यापारी, मध्यम वर्ग को बड़ा नुकसान हुआ और बड़े उधोगपतियों के 1 लाख 50 हजार करोड़ का कर्ज माफ कर दिया गया। महापंचायत को राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत,कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव अजय माकन और प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने भी संबोधित किया। इस मौके पर कांग्रेस के संगठन महासचिव के.सी.वेणुगोपाल,पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट व कांग्रेस कार्यसमिति के सदस्य रघुवीर मीणा भी मौजूद थे।

 

किसान अपने हक की आवाज को लेकर आंदोलनरत -

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि जो किसान अपने हक की आवाज को लेकर आंदोलनरत हैं, उन्हें खालिस्तानी एवं आतंकवादी तक कहा गया। मोदी सरकार ने लोकतांत्रिक मूल्यों को ताक पर रखकर किसान आंदोलन को कुचलने का कुचक्र रचा, लेकिन वे कामयाब नहीं हो सके। कई किसानों की मौत हो चुकी है लेकिन इनको चिंता नहीं है। केन्द्र सरकार की कथनी और करनी में अंतर है। जबसे मोदी सरकार आई है, आम आदमी और किसान दुखी हैं। गहलोत ने कहा कि श्रीगंगानगर-हनुमानगढ़ जैसे सरहदी जिलों के विकास के लिए हमारी सरकार गंभीर रही है। हम पंजाब के मुख्यमंत्री से लगातार संपर्क में रहकर यहां के किसानों की समस्याओं के समाधान के प्रति कृत संकल्पित रहे हैं। आज पूरे देश का किसान राहुल गांधी की तरफ देख रहा है, क्योंकि राहुल उनकी आवाज को लगातार उठा रहे हैं।

 

 

 

 

 

भीलवाड़ा में कोरोना का महाब्लास्ट, 407 नये पॉजिटिव, मांडल, बापूनगर, मांडलगढ़ बने हॉट स्पॉट

   भीलवाड़ा हलचल। भीलवाड़ा में कोरोना का शनिवार को महाब्लास्ट हुआ है। कोरोना ने पुराने सभी रेकार्ड तोडते हुये अपना रौद्र रुप दिखाया है। शनिव...