Wednesday, February 24, 2021

स्लीपर कोच बसों पर अवैध सामान का परिवहन, खतरे में यात्रियों की जान, सरकार को भी लगा रहे हें चूना

 

 भीलवाड़ा हलचल। भीलवाड़ा से दिल्ली, अहमदाबाद, बडौदरा व सूरत, मुंबईजैसे बड़े शहरों को जाने वाली स्लीपर कोच बसों में अवैध रूप से सामान का परिवहन किया जा रहा है। बस संचालक मनमानी कर धडल्ले से ओवरलोडिंग कर रहे हैं, यहां तक कि बस की छतों पर बड़ी मात्रा में लगेज (सामान) ले जाया जा रहा है। लेकिन मिलीभगत के चलते परिवहन विभाग व पुलिस अधिकारी इनके खिलाफ  कार्रवाई करने की जहमत नहीं उठा रहे हैं। ऐसे में इन बसों में कई बार चोरी के माल के साथ ही अवैध सामान व शराब की तस्करी की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता। 
जानकारी के अनुसार विभिन्न शहरों तक चलने वाली स्लीपर कोच बसों में सवारियों से अधिक मात्रा में लगेज भरा जाता है। यह सामान न केवल अंदर बल्कि बसों की छत पर भी लाद दिया जाता है। जिससे इन बसों की ऊंचाई और भी अधिक हो जाती है। हाई वे पर स्लीपर कोच बसें तेज रफ्तार में चलती है। ऐसे में अधिक ऊंचाई होने के कारण अक्सर हादसे का अंदेशा बना रहता है। बस संचालक निजी फायदे के लिए न केवल यात्रियों की जान के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं, बल्कि सरकार को भी लाखों रुपए के टैक्स का चूना लगा रहें हंै।

दर्जनों बसों का होता है संचालन-
भीलवाड़ा से प्रतिदिन दर्जनों स्लीपर कोच बसों संचालन होता है, सैंकडों यात्री इन बसों में सफर करते हैं। अधिकतर बसों में कोई सुविधा नहीं है यहां तक कि कुछ बसों में आपातकालीन खिडक़ी (इमरेजेंसी विंडो) व प्राथमिकी उपचार टूल बॉक्स ही नहीं है।

ताक पर नियम-
परिवहन विभाग के नियमानुसार बसों में सामान (लगेज) ले जाने का प्रावधान सिर्फ  बस में यात्रा करने वाले यात्रियों को ही है, वह भी निर्धारित सीमा के अनुसार। लेकिन बस संचालकों द्वारा नियमों को ताक पर रखकर निर्धारित सीमा से अधिक लगेज ले जाया जाता है। इसके अलावा भी बसों की छतों पर संचालकों द्वारा बिना यात्रा करने वाले व्यक्तियों के लगेज को भी भरा जाता है।

सडक़ को ही बना लिया स्टैण्ड-
मिलीभगत के चलते गंगापुर चौराहा, चित्तौडग़ढ़ मार्ग, लैंड मार्के के पास  सडक़ पर ही स्लीपर कोच बसों को को कई घंटों तक खड़ी रख यात्रियों को बैठाया जाता है। राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम तो राजस्व नुकसान झेल ही रहा है, इसके साथ ही अन्य वाहनों के साथ लोगों को आवागमन में भी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

जहां चाहो ले जाओ, कोई भी सामान-
नियमानुसार किसी भी सामान को कहीं भी ले जाने के लिए उसकी बिल रसीद या कोई अहम दस्तावेज जरूरी होता है, लेकिन स्लीपर कोच बसों में जांच पड़ताल के झंझट के बिना ही किसी भी प्रकार का सामान कहीं भी लाया और  ले जाया जा सकता है। स्थिति यह है कि अतिरिक्त शुल्क वसूलने के बाद बिना कोई दस्तावेज की जांच के बिना ही बस की छत व डिग्गी में रख कर बाइक, गैस सिलेण्डर व सभी प्रकार का वजनी सामान ले जाया जाता है। 

भीलवाड़ा में कोरोना का महाब्लास्ट, 407 नये पॉजिटिव, मांडल, बापूनगर, मांडलगढ़ बने हॉट स्पॉट

   भीलवाड़ा हलचल। भीलवाड़ा में कोरोना का शनिवार को महाब्लास्ट हुआ है। कोरोना ने पुराने सभी रेकार्ड तोडते हुये अपना रौद्र रुप दिखाया है। शनिव...