कानपुर मुठभेड़: सीसीटीवी कैमरों में कैद हो गया था पूरा मंजर? डीवीआर साथ लेकर भागा है हिस्ट्रीशीटर

 

कानपुर
कानपुर में 8 पुलिसकर्मियों की शहादत के जिम्मेदार हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे ने अपने किलेनुमा घर के चारों तरफ सीसीटीवी कैमरे लगवाए थे। कैमरों को मोबाइल ऐप से कनेक्ट कर वह हर एक गतिविधि पर नजर रखता था। गुरुवार देररात विकास दुबे ने अपने साथियों के साथ मिलकर 8 पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी। शहीद पुलिसकर्मियों के साथ किए अमानवीय व्यवहार की पूरी दास्तां सीसीटीवी कैमरों में भी कैद होने की उम्मीद है। लेकिन विकास दुबे इतना शातिर है कि वारदात को अंजाम देने के बाद सीसीटीवी कैमरों से जुड़ा डीवीआर लेकर फरार हो गया। यदि ये डीवीआर पुलिस के हाथ लग जाती तो घटना से जुड़े कई बड़े तथ्य सामने आ जाते।


हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के किलेनुमा घर को पुलिस ने खंडहर में तब्दील कर दिया है। लेकिन घर खंडहर होने से पहले विकास ने घर की सुरक्षा का पूरा ध्यान रखा था। दो बीघे जमीन पर बने अलीशान घर को चारों तरफ से सीसीटीवी कैमरों से लैस किया था। पूरे मकान के चारों तरफ लगभग 12 फिट ऊंची चारदीवारी थी। घर के मेनगेट पर दो सीसीटीवी कैमरे लगे थे, इसी तरह से घर के चारों तरफ भी कैमरे लगाए गए थे।


सीसीटीवी कैमरों में कैद है पूरा मंजर
गुरुवार देर विकास दुबे के घर पर बदमाशों और पुलिस के बीच हुई मुठभेड़ की पूरी कहानी सीसीटीवी कैमरों में कै है। एक बात यह भी सामने आई है कि मुठभेड़ के दौरान बदमाशों ने कैमरों पर गोली मार उसे तोड़ने का प्रयास किया लेकिन उनका निशाना नहीं लगा। बदमाशों ने पुलिसकर्मियों के साथ कैसा बर्ताव किया है, इसका पूर मंजर सीसीटीवी में कैद हो गया। 

पुलिस को नहीं मिला डीवीआर
हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे बहुत ही शातिर अपराधी है, यदि उसके अपराधिक इतिहास पर नजर डाली जाए तो उसने हर अपराध के बाद सबसे पहला काम सुबूत मिटाने का किया है। विकास डीवीआर अपने साथ लेकर फरार हुआ है। पुलिस विकास की तलाश के साथ ही उस डीवीआर को भी तलाश रही है, जिसमें उस रात की पूरी कहानी कैद है।



टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

शीतलाष्टमी की पूजा आज देर रात से, रंगोत्सव (festival of colors) कल लेकिन फैली है यह अफवाह ...!

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

21 जोड़े बने हमसफर, हेलीकॉप्टर से हुई पुष्पवर्षा

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

मुंडन संस्कार से पहले आई मौत- बेकाबू बोलेरो की टक्कर से पिता-पुत्र की मौत, पत्नी घायल, भादू में शोक

जहाजपुर थाना प्रभारी के पिता ने 2 लाख रुपये लेकर कहा, आप निश्चित होकर ट्रैक्टर चलाओ, मेरा बेटा आपको परेशान नहीं करेगा, शिकायत पर पिता-पुत्र के खिलाफ एसीबी में केस दर्ज