घूस की रकम लेते ही एसीबी ने दबोचा

 



चूरू. आखिर लालच बुरी बला है। कितनी ही सावधानी से अवैध रूप से रकम लो,लेकिन अंत में पकड़े जाना तय है। इससे पहले नतीजा क्या होगा। इस पर नहीं सोचा जाता और नौकरी के साथ-साथ इज्जत चली जाती है। चूरू जिले के रतनगढ़ उपखंड स्थित राजलदेसर में नियुक्त जेईएन सहीराम व इसका छोटा भाई वनरक्षक मुकेश भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो के हत्थे चढ़ गया।

एसीबी की चूरू टीम ने अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक आनंदप्रकाश स्वामी के नेतृत्व में दोनों को घूस लेने के आरोप में धर-दबोचा। मेगा हाइवे पर व्यावसौयिक विद्युत कनेक्शन की एवज में सुरेन्द्र कटेवा से कनिष्ठ अभियंता ने 27 हजार की घूस मांगी थी। यह रकम छोटे भाई वनरक्षक मुकेश को देने के लिए कहा गया था। छोटे भाई ने जैसे ही रुपए हाथ में पकड़े। तभी एसीबी की टीम ने उसे पकड़ लिया। इसके बाद राजलदेसर जाकर कनिष्ठ अभियन्ता सहीराम को भी गिरफ्तार कर लिया।

कनेक्शन के लिए लगाए थे चक्कर

सुरेन्द्र कटेवा अपने खेत में वाणिज्यिक कनेक्शन लेने के लिए चक्कर लगा रहा था। कनिष्ठ अभियंता ने अपने छोटे भाई से बात करने को कहा। इसके बाद 27 हजार में सौदा तय हुआ। बुधवार को चूरू की व एक बीकानेर की टीमों ने कार्रवाई को अंजाम दिया। सीआई दिलीप खत्री ने टीम का नेतृत्व किया। टीम में एएसआई गिरधारीलाल, ओमप्रकाश, श्रवण, दिलीप, भंवरलाल, कृष्ण मोहन आदि शामिल रहे