फैक्ट्री प्रबंधन पर प्रभाव कायम करने के इरादे से किया था संगम के अधिकारियों पर हमला, तीन गिरफ्तार, मुख्य आरोपित की तलाश

 भीलवाड़ा प्रेमकुमार गढ़वाल । भीलवाड़ा बाइपास स्थित संगम यूनिर्वर्सिटी के सामने संगम स्पीनर्स के दो अधिकारियों, सुरक्षा गार्ड व चालक पर लाठियों से हमला करने के मामले में पुर थाना पुलिस ने तीन आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया। मुख्य आरोपित व उसके कुछ और साथी अभी पुलिस गिरफ्त से बाहर है, जिनकी पुलिस सरगर्मी से तलाश कर रही है। पुलिस का कहना है कि फैक्ट्री प्रबंधन पर अपना प्रभाव जमाने के लिए यह हमला किया।  
पुर थाना प्रभारी मुकेश वर्मा ने हलचल को बताया कि पिछले दिनों संगम स्पीनर्स में कार्यरत और संगम यूनिर्वसिटी परिसर स्थित कॉलोनी में रहने वाले अधिकारी सुशीम काबरा, एक अन्य अधिकारी शास्त्रीनगर निवासी ललित नरवाना, गार्ड रमेश यादव व चालक श्यामलाल गुर्जर के साथ कंपनी की बोलेरो से अपने घर जा रहे थे। सबसे पहले काबरा को उनके घर छोडऩे के लिए बोलेरो संगम यूनिर्वसिटी के पास सर्विस रोड़ पर पहुंची, जहां एक ट्रैक्टर बीच रास्ते में खड़ा था। चालक ट्रैक्टर को आगे-पीछे ले रहा था, लेकिन हटाया नहीं। इसी दौरान दस से बारह नकाबपोश लोग वहां आ धमके और बोलेरो पर लाठियां भांजना शुरू कर दिया। इससे बोलेरो के कांच टूट गये। इसके बाद हमलावरों ने बोलेरो सवार लोगों पर लाठियों से हमला कर दिया। हमले में दोनों अधिकारियों सहित चारों लोग घायल हो गये। इनमें से एक घायल अधिकारी को निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया । 
पुलिस ने इस हमले को लेकर अज्ञात लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया था। तफ्तीश व सीसी टीवी फुटेज सहित तकनिकी सहायता के आधार पर पुलिस ने हमलावरों की पहचान करते हुये तीन आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया। पकड़े गये लोगों में बिंदौलिया, गंगरार निवासी दिलखुश पुत्र कंवरलाल शर्मा, लाला पुत्र शंकर गाडरी खैराबाद व बीलियाखेड़ा निवासी शंकर पुत्र नारू कालबेलिया शामिल है। 
थाना प्रभारी का कहना है कि अभी मुख्य आरोपित व उसके कुछ और साथी फरार हैं, जिनकी तलाश जारी है। पकड़े गये लोगों से पूछताछ में सामने आया कि ये लोग फैक्ट्री प्रबंधन पर अपना प्रभाव कायम करना चाहते थे। इसी के चलते यह हमला किया गया।