नशे की तलब लगी तो न्यायिक अभिरक्षा से भागने की बनाई योजना

 



 भीलवाड़ा प्रेमकुमार गढ़वाल। नशे की तलब लगने पर एक आरोपित ने दूसरे साथी के साथ मिलकर अस्थायी जेल से भागने की योजना बना डाली और मौका मिलते ही गुरुवार रात दोनों फरार हो गये। इनमें से एक आरोपित भटकता हुआ पुलिस के हत्थे चढ़ गया, जबकि दूसरे को किसी ने शरण नहीं दी तो उसने जहरीली दवा पी ली, जिसे हालत बिगडऩे पर जिला अस्पताल में भर्ती करवा दिया गया। 
कोतवाली थाने के पुलिस निरीक्षक नेमीचंद चौधरी ने हलचल को बताया कि  मंगरोप थाने के मारपीट के एक मामले में गिरफ्तार होने के बाद न्यायिक अभिरक्षा में भेजे गये अगरपुरा निवासी कैलाश पुत्र नारायण जाट व सुवाणा के गोपाल पुत्र मांगीलाल जाट को पंचवटी सामुदायिक भवन स्थित अस्थायी जेल (कोविड  सेंटर) में रखा गया था। ये दो आरोपित गुरुवार रात वहां बाथरूम की जाली तोड़कर भाग छूटे थे। इस घटना को लेकर कोतवाली पुलिस ने केस दर्ज किया था।  पुलिस अधीक्षक प्रीतिचंद्रा के निर्देशन में गठित टीम ने फरार कैलाश जाट को पांसल गांव से गिरफ्तार कर लिया गया। वहीं जहरीली दवा पी लेने के कारण गोपाल जाट को जिला अस्पताल में भर्ती किया गया है। 
चौधरी ने बताया कि आरोपित से पूछताछ व पुलिस जांच में सामने आया कि  गोपाल जाट अमलदार है। न्यायिक अभिरक्षा में अस्थायी जेल में रहने के दौरान गोपाल को नशे की तलब लगी। इसके चलते उसने अपने दूसरे साथी कैलाश जाट के साथ मिलकर न्यायिक अभिरक्षा से भागने की योजना बनाई। इसी योजना के तहत कैलाश व गोपाल ने  अस्थायी जेल के बाथरूम की जाली को थोड़ा-थोड़ा करके तोड़ दिया। इसके बाद रात में जैसे ही मौका मिला, दोनों वहां से भाग निकले। 
चौधरी ने बताया कि गोपाल जाट को छिपने के लिए जगह नहीं मिली। वह, जहां भी गया। उसे, उसके द्वारा जेल से भागने के कृत्य को गलत बताते हुये शरण नहीं दी। ऐसे में परेशान होकर उसने जहरीली दवा का सेवन कर लिया। इससे तबीयत बिगड़ गई। पुलिस कैलाश जाट से पूछताछ कर रही है।