बॉर्डर से पीएम मोदी की चीन को खरीखोटी, कहा- विस्तारवादी युग का अंत हुआ


पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि जब देश की रक्षा आपके हाथों में है, आपके मजबूत इरादों में है, तो सिर्फ मुझे ही नहीं बल्कि पूरे देश को अटूट विश्वास है और देश निश्चिंत भी है. आपकी भुजाएं, उन चट्टानों जैसी मजबूत हैं, जो आपके इर्द-गिर्द हैं. आपकी इच्छा शक्ति आस पास के पर्वतों की तरह अटल हैं. पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि आपका ये हौसला, शौर्य और मां भारती के मान-सम्मान की रक्षा के लिए आपका समर्पण अतुलनीय है. जिन कठिन परिस्थितियों में जिस ऊंचाई पर आप मां भारती की ढाल बनकर उसकी रक्षा, उसकी सेवा करते हैं, उसका मुकाबला पूरे विश्व में कोई नहीं कर सकता.


उन्होंने कहा कि अभी जो आपने और आपके साथियों ने वीरता दिखाई है, उसने पूरी दुनिया में ये संदेश दिया है कि भारत की ताकत क्या है. मैं गलवान घाटी में शहीद हुए सैनिकों को आज फिर से श्रद्धांजलि देता हूं. उनके पराक्रम, उनके सिंहनाद से धरती अब भी, उनका जयकारा कर रही है. भारतीय सेना के जवानों की तारीफ करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि 14 कोर की जांबाजी के किस्से हर तरफ है. दुनिया ने आपका अदम्य साहस देखा है. आपकी शौर्य गाथाएं घर-घर में गूंज रही है. भारत के दुश्मनों ने आपकी फायर भी देखी है और आपकी फ्यूरी भी.


इससे पहले पीएम मोदी ने भारत और चीन सीमा की जमीनी हकीकत को समझा. सैन्य अधिकारियों से संवाद किया. वहां मौजूद जवानों ने 'भारत माता की जय' और 'वंदे मातरम' के नारे का उद्घोष किया. टीवी रिपोर्ट के मुताबिक, इसके बाद पीएम मोदी लेह स्थित शहीद स्मारक पहुंचे और शहीदों को श्रद्धांजलि दी. बताया जा रहा कि पीएम मोदी 15 जून की झड़प में घायल हुए जवानों से भी मुलाकात करेंगे.



कांग्रेस नेता ने कसा तंज


कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के लेह दौरे की तस्वीर शेयर करते हुए लिखा, जब इंदिरा गांधी ने लेह का दौरा किया था, तो पाकिस्तान दो टुकड़ों में बंट गया था. अब देखते हैं कि वह क्या करते हैं?



पहले इस दौरे पर सिर्फ सीडीएस बिपिन रावत को ही आना था, लेकिन पीएम मोदी ने खुद पहुंचकर सभी को चौंका दिया. यहां पर सीनियर अधिकारियों ने उन्हें हालात की जानकारी दी. एएनआई के मुताबिक, नीमू पोस्ट समुद्री तल से 11 हजार फीट की ऊंचाई पर मौजूद है, जिसे दुनिया की सबसे ऊंची और खतरनाक पोस्ट में से एक माना जाता है. पीएम मोदी ने सुरक्षाबलों, वायुसेना के अफसरों से सीधे संवाद भी किया. माना जा रहा है कि लद्दाख में तैनात सुरक्षाबलों का हौसलाफजाई के लिए पीएम मोदी का यह दौरा हुआ है.पीएम मोदी ने समझी जमीनी हकीकत



पीएम मोदी ने समझी जमीनी हकीकत


पूर्वी लद्दाख के गलवान घाटी में 15 जून का रात चीनी सैनिकों के साथ झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे. इसके बाद से पीएम मोदी लगातार चीन पर दबाव बनाए हुए हैं. इसी कड़ी में बीते सोमवार को केंद्र सरकार ने 59 चीनी ऐप्स को भारत में बैन कर दिया है. साथ ही कई चीनी कंपनियों को दिए गए ठेके ले लिए गए हैं. अब पीएम खुद लद्दाख पहुंचे हैं. यहां उन्होंने भारत और चीन सीमा की जमीनी हकीकत को समझा. चीन भारत के किन हिस्सों पर कब्जा जमाए है, वह भारत के किन हिस्सों पर अपनी दावेदारी बताता है, इन सारी बातों को पीएम मोदी ने लद्दाख पहुंचकर समझने की कोशिश की. सीडीएस विपिन रावत ने पीएम मोदी को विस्तार से बताया कि चीन कहां अपना दावा ठोक रहा है.



जानकारी मिली है कि गलवान घाटी में घायल हुए जवानों से पीएम अस्पताल में मुलाकात भी करेंगे. इसके बाद दोपहर में पीएम वापस दिल्ली लौट सकते हैं. पीएम मोदी का यह लेह दौरा बहुत अहम माना जा रहा है. 11,000 फीट की ऊंचाई पर पहुंचना चीन के लिए बहुत सख्त संदेश है. वहीं चीन में राष्ट्रपति शी जिनपिंग की आलोचना हो रही है. कहा जा रहा है कि जिनपिंग ने अपने सैनिकों की शहादत को छुपाया और उन्हें मरने के बाद भी पूरा सम्मान नहीं दिया.


 


रक्षामंत्री का दौरा टला था


बता दें कि 15 जून की गलवान घाटी की घटना के बाद सीमा पर भारत और चीन की बीच तनाव बना हुआ है. गलवान घाटी झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हुए थे. इस झड़प में चीन के भी काफी जवानों को नुकसान हुआ था, लेकिन चीन ने आंकड़ा जारी नहीं किया था. इसी घटना के बाद से तनाव लगातार बढ़ता गया, दोनों सेनाओं ने लगातार कई मौकों पर बात भी की है. और मौजूदा जगह से सेना को पीछे हटाने पर चर्चा की है. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह सीडीएस रावत के साथ लेह के दौरे पर आने वाले थे लेकिन रक्षा मंत्री का दौरा गुरुवार को स्थगित कर दिया गया.



टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना