गुरु पूर्णिमा पर हरी शेवा आश्रम में हुआ गुरु पूजन

 

भीलवाड़ा(हलचल) हरीशेवा आश्रम सनातन मंदिर भीलवाड़ा में प्रति वर्ष की भांति इस वर्ष भी गुरु शिष्य परंपरा के महत्व का पर्व गुरु पूर्णिमा श्रद्धा उत्साह एवं उमंग के साथ मनाया गया। कोरोना महामारी के चलते श्रद्धालुओं ने नियमों के अनुपालना करते हुए अपने अपने निवास स्थान से ही गुरु पूजन किया। सोशल मीडिया एवं फेसबुक से सत्संग ,प्रवचन ,दर्शन एवं गुरु पूजन का लाइव प्रसारण किया गया।
प्रातः 7:15 बजे महामंडलेश्वर हंसराम उदासीन के सानिध्य में संत मयाराम ,संत राजाराम ने सद्गुरुओं की समाधि साहब का पूजन एवं चरण वंदना की ।आचार्य भगवान श्री श्रीचंद्र ,सतगुरु बाबा आत्माराम साहब, बाबा मनीराम साहब ,बाबा कृपा राम साहब, बाबा हरिराम साहब ,बाबा शेवा राम साहब, बाबा गंगाराम साहब, चरण पादुका, छडी साहब का पूजन अर्चन वैदिक मंत्रोचार के साथ किया गया। महामंडलेश्वर हंसराम उदासीन ने "गुरु मेरी पूजा गुरु गोविंदा' एवं  "बाबा हरीराम तुहिंजे दर ते झले भीठा आहियूं  झोली"  प्रस्तुत करते हुए कहा कि गुरु ईश्वर से भी महान है क्योंकि वह ईश्वर तक पहुंचने का रास्ता बताते हैं।  गुरु के चरणों में सदैव झुके हुए रहना चाहिए क्योंकि गुरु हमेशा अपने शिष्यों की रक्षा करते हैं। साथ ही उन्होंने बताया कि सेवा सिमरन करने से आध्यात्मिक बल की प्राप्ति होती है। सायंकाल 7:00 बजे सतगुरु बाबा शेवाराम साहब जी का मासिक प्राकट्य उत्सव भी मनाया गया। संत गोविंद राम ने भी अपने गुरु महामंडलेश्वर स्वामी हंसराम जी की चरण वंदना की। आश्रम में गुरु पूजन में सचिव हेमंत वच्छानी ट्रस्टी अंबालाल नानकानी हीरालाल गुरनानी पुरुषोत्तम परियानी ईश्वर आसमानी कन्हैया मोरियानी गोपाल नानकानी पल्लवी वच्छानी जयराम अभिचंदानी एवं सुरेश आहूजा उपस्थित थे । सभी ने तिलक चंदन श्रीफल मिश्री आदि अर्पित कर गुरु पूजन किया।



टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

देवगढ़ से करेड़ा लांबिया स्टेशन व फुलिया कला केकड़ी मार्ग को स्टेट हाईवे में परिवर्तन करने की मांग

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना