झांसा देकर एक साल तक किया महिला का यौनशोषण, अब शादी से मुकरा, पीडि़ता ने दर्ज कराया केस

 

 भीलवाड़ा हलचल। एक महिला को एक साल तक शादी का झांसा देकर यौनशोषण करने के बाद अब आरोपित शादी से मुकर गया। ऐसे में पीडि़ता ने पुलिस की शरण लेते हुये आरोपित के खिलाफ सदर थाने में केस दर्ज करवाया है। 
पीडि़ता की ओर से दर्ज करवाई एफआईआर के मुताबिक, आरोपित देबीलाल गाडरी की पीडि़ता के गांव में रिश्तेदारी है। जहां उसका आना-जाना है। गांव आने-जाने से उसकी देबीलाल से जान-पहचान हो गई। ऐसे में देबीलाल आये दिन उससे संपर्क करने लगा और शादी का झांसा देकर करीब एक साल पहले  पीडि़ता को अपने साथ निवास स्थान ले गया, जहां शादी का झांसा देकर उसके साथ निरंतर शारीरिक संबंध बनाता रहा। विरोध करने पर मारपीट करता। घर से जाने के दौरान वह पीडि़ता को कमरे में बंद कर ताला लगा देता। पीडि़ता को विश्वास में लेने के लिए  उसके आधार कार्ड में पति के रूप में अपना नाम दर्ज करवा दिया।
 इस नाम परिवर्तन को दिखाकर वह पीडि़ता को पत्नी बताता रहता। लेकिन शादी की बात दोहराने पर वह टालमटोल करता और जबरन खोटा काम करता।  देबीलाल का यह कृत्य एक साल से जारी है। उधर, परिजन भी पीडि़ता की लगातार तलाश कर रहे थे, जिन्हें पता चला कि देबीलाल ने उसे अपने घर में बंधक बना रखा है। इस पर परिवारजनों ने समाज के पंचों के सामने उक्त बात रखी, सामाजिक दबाव के चलते आरोपित ने शीघ्र ही विवाह करने का आश्वासन दिया। आरोपित की बात पर पीडि़ता के परिजनों ने  विश्पास कर लिया। लेकिन तीन-चार दिन पहले जब पीडि़ता के माता-पिता ने आरोपित व उसके पिता से संपर्क किया तो उन्होंने विवाह करने से मना कर दिया। पुलिस ने पीडि़ता की रिपोर्ट पर केस दर्ज कर लिया है। मामले की जांच की जा रही है। 



टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना