Wednesday, January 27, 2021

बेटी की सौतन की कार से टक्कर मारकर हत्या, पिता-पुत्र गिरफ्तार

 


अलवर/ बेटी की शादीशुदा जिंदगी में फिर से ‘खुशियां’ लौटाने के लिए पिता जुर्म का रास्ता अपनाने से भी नहीं चूका। बेटे और एक अन्य के साथ मिलकर बेटी की सौतन को कार से कुचलकर मार डाला। दरअसल, दामाद बेटी को छोड़ सौतन के साथ रहने लगा था। इससे बेटी दुखी रहती थी। पिता और भाई से उसका दुख देखा नहीं जाता था। इसलिए उन्होंने यह वारदात की। आरोपियों ने सोचा था कि पुलिस हादसा समझकर फाइल बंद कर देगी लेकिन मृतका के भाई की शिकायत की जांच से हादसा, हत्या में बदल गया।

पुलिस ने मनीषा के पिता ताहिर और भाई रोबिन को गिरफ्तार कर लिया है जबकि तीसरा साथी साजिद फरार है। शक होने पर मृतका के भाई ने पुलिस से फिर से जांच करने की मांग की थी तब यह खुलासा हो सका। पुलिस पहले इसे सिर्फ सड़क हादसा मानकर चल रही थी। अब पुलिस यह भी जांच रही है कि वारदात में मनीषा शामिल थी या नहीं।

यह चौंकाने वाला खुलासा करते हुए पुलिस ने बताया कि मामला 8 जनवरी का है। सामोला के पास कार की टक्कर से शकमिना नाम की महिला की मौत हो गई। पुलिस ने हादसा मानकर जांच को हल्के से लिया लेकिन शकमिना के भाई को यकीन नहीं हो रहा था। पहले पुलिस टालती रही लेकिन जब भाई शौकत ने शिकायत की कि मेरी बहन की मौत को हत्या के एंगल से जांचा जाए तो सच सामने आएगा। उसने संदेहियों की ओर इशारा भी किया कि शकमिना के पति की दूसरी पत्नी मनीषा के मायके वालों ने ही उसे मारा है।

पुलिस जांच में सामने आया चौंकाने वाला सच
यह सुनते ही पुलिस ने जांच का एंगल बदला। पता चला कि शकमिना, आबिद के साथ लिव-इन रिलेशनशिप में रहती थी। आबिद भी अधिकतर समय शकमिना के साथ ही रहता था। इस वजह से आबिद की पहली पत्नी मनीषा तनाव में रहती थी। मंडी में दलाली का काम करने वाले आबिद ने 2015 में मनीषा से शादी की थी लेकिन एक साल बाद ही शकमिना के साथ रहने लगा था।

बेटी को इस परेशानी से छुटकारा दिलाने के लिए मनीषा के पिता ताहिर, भाई रोबिन और रिश्तेदार साजिद ने कार से टक्कर मारकर शकमिना की हत्या की। पुलिस ने आरोपी पिता ताहिर और भाई रोबिन को गिरफ्तार कर लिया। कार भी जब्त कर ली है।
पुलिस ने बताया कि शकमिना मंगलम सिटी में रहती थी। 8 जनवरी को शाम 4 बजे वह रोजाना की तरह रोड पार करके दूध लेकर आती थी। हत्या के पहले तीनों आरोपियों ने बाइक से रेकी की। वारदात को कैसे अंजाम देना है, यह षड़यंत्र रचा। फिर हत्या वाले दिन से तय जगह पहुंच गए। इसमें दो लोग कार में थे, जबकि मनीषा का पिता मोटरसाइकिल से दूर खड़ा था।

जैसे ही शकमिना मंगलम रेजिडेंसी से दूध लेने के लिए रोड की तरफ आने लगी। बाइक लेकर खडे़ मनीषा के पिता ताहिर ने कार में बैठे बेटे रोबिन को इशारा कर दिया। जैसे ही शकमिना सड़क के बीच में पहुंची, उसे कार से टक्कर मार दी गई। इससे मौके पर ही उसकी मौत हो गई। वारदात को अंजाम देकर आरोपी कार सहित भाग गए थे।

उस वक्त सभी को यही लगा कि कोई दुर्घटना हो गई है। लेकिन, शकमिना के भाई ने इसे दुर्घटना नहीं, हत्या बताया। इसकी शिकायत मिलने पर पुलिस ने जांच कर खुलासा किया है। हत्या का तीसरा आरोपी साजिद फरार है।

बाजाद खुले, वाहनों की रेलमपेल रही और लोगो ने की खरीददारी

  भीलवाड़ा। जिले में लगभग पिछले दो माह से कर्फ्यु घोषित किया हुआ था राज्य सरकार के आदेशानुसार कर्फ्यु में ढ़ील देने के बाद बुधवार को सुबह 6 बज...