सात साल की मासूम से बेरहमी, गर्म सरिए और सिगरेट से दागा, हाथ-पैर के नाखून तक निकाले

 

उदयपुर । राजसमंद जिले में सात साल की एक मासूम बालिका के साथ बेरहमी की हद पार करने की घटना सामने आई है। जिसमें उसके रिश्तेदार दंपती ने उसे गर्म सरिए और जलती सिगरेट से दागा ही नहीं, बल्कि उसके हाथ और पांव के नाखून तक निकाल लिए।

बर्बरता की हदें झेल रही इस मासूस का वीडियो वायरल होने पर घटना का खुलासा होने के बाद चाइल्ड लाइन संस्था के लोग उसके पास पहुंचे। मामले की गंभीरता के बावजूद पुलिस ने जब आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज नहीं की तो अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश की दखल के बाद मामला दर्ज करते हुए पुलिस ने आरोपी दंपती को गिरफ्तार कर लिया।

मामला राजसमंद जिले के भीम थाना क्षेत्र के थानोटा गांव का है। जहां सात साल की एक बालिका की परवरिश के उसके रिश्तेदार किशन सिंह और उनकी पत्नी रेखा कर रहे थे। पता चलाकि बच्ची की छोटी—छोटी गलतियों पर यह दंपती उसके साथ बेरहमी से मारपीट ही नहीं करता, बल्कि गर्म लोहे के सरियों तथा जलती सिगरेट से उसे दाग देता। यहां तक इस दंपती ने बालिका के हाथ और पैर के नाखून तक खींचकर निकाल दिए। इस तरह की अमानवीय पीड़ा बालिका कई महीनों से झेलती जा रही थी।

वायरल वीडियो से हुआ अमानवीयता का खुलासा

बताया गया कि शुक्रवार को इस बालिका को निर्वस्त्र कर उसके साथ मारपीट का वीडियो वायरल हुआ था। जिसमें उसके साथ बर्बरता के जख्म भी दिखाई दे रहे थे। यह वीडियो राजसमंद जिले में बच्चों के लिए काम करने वाली संस्था चाइल्ड लाइन तक पहुंची तो वह उसे खोजते हुए उसके गांव पहुंच गए। बच्ची से बात की तो पता चला कि वह पिछले कई महीनों से बर्बरता झेल रही है। जिसकी सूचना चाइल्ड लाइन ने पुलिस को दी लेकिन पुलिस ने इसे गंभीरता से नहीं लिया। जिसके बाद ग्रामीणों को साथ लेकर बालिका को थाने ले जाया गया लेकिन उसे वहां भी आठ घंटे तक बिठाए रखा लेकिन मामला दर्ज नहीं किया। बाद में विधिक सेवा प्राधिकरण राजसमंद और अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश नरेंद्र कुमार गहलोत की दखल के बाद पुलिस ने मामला दर्ज किया। बच्ची का मेडिकल शनिवार को करवाया जाएगा और बालिका को चाइल्ड लाइन के हवाले कर दिया गया है। पुलिस ने आरोपी दंपती को देर रात गिरफ्तार कर लिया। आरोपी दंपती से पूछताछ की जा रही है कि उन्होंने मासूम बालिका के साथ अत्याचार क्यों किया।

मां की मौत के बाद पिता ने कर ली दूसरी शादी, बेटी रिश्तेदार को सौंप दी

बताया गया कि मां की मौत के बाद पिता ने दूसरी शादी कर ली और बालिका को अपने साथ रखने की बजाय उससे अपने रिश्तेदार को सौंप दिया। पिता मजदूरी करने के लिए सूरत चला गया और तब से बालिका अपने रिश्तेदार किशनलाल के यहां ही रह रही थी। दंपती इस बालिका से घर में झाडू, पौंछा सहित सभी काम कराते थे और छोटी गलती पर उसे बेरहमी के साथ पीटते थे। पता चला कि कई बार उसे खाना तक नहीं देते। बाल कल्याण समिति की अध्यक्षा भावना पालीवाल का कहना है कि दंपती ने बेरहमी की हदें पार कर दी थी। आरोपी दंपती बालिका के प्राइवेट पार्ट में मिर्ची पाउडर तक डालकर उसे प्रताड़ित करता था और उसे उलटा लटकाकर पीटा करते थे। इधर, थानाधिकारी गजेंद्रसिंह का कहना है कि जिस तरह बच्ची को प्रताड़ित किया, वह बेहद ही डराने वाला है।