खान सुरक्षा अभियान के तहत हुए कई कार्यक्रम, मजदूरों को दी जानकारियां

 


बिजौलिया (मंजू पाराशर) खनिज विभाग बिजौलिया -भीलवाड़ा व विंध्यावली स्टोन के तत्वाधान में खान सुरक्षा अभियान के तहत कई कार्यक्रम आयोजित हुए।  सिलिकोसिस कैंप, खान सुरक्षा के तहत विभिन्न जानकारियां मजदूरों को दी गई । इस मौके पर  कार्यक्रम मे 500  पोधा रोपण का कार्यक्रम आयोजित हुआ। 

कार्यक्रम में भीलवाड़ा एस एम ई अरविंद कुमार नंदवाना ,  माइनिंग ईजनियर लक्ष्मी नारायण कुमावत ,  फोरमैन गंगाधर मीणा , पूर्व प्रधान कैलाश मीणा  के आतिथ्य में कार्यक्रम आयोजित हुए।

इस मौके पर सरकार द्वारा खान सुरक्षा अभियान के तहत क्वारी लाइसेंस व खनन  पट्टटो में व्यवस्थित ,  सुरक्षित एवं वैज्ञानिक विधि से खनन ,  पर्यावरण संरक्षण की दृष्टि से पर्यावरण मित्र खनन ,  वृक्षारोपण व रास्तों पर पानी छिड़काव ,   डस्ट कलक्टर तथा वैट   ड्रीलिंग का उपयोग  , खनन कार्य करते समय मास्क  , हेलमेट सेफ्टी जूतों का उपयोग  ,   ड्रीलिंग  करते समय सुरक्षा उपकरणों का उपयोग ,  खनिको के स्वास्थ्य की दृष्टि से सुरक्षित खनन  , खनन पटटो  पर खनिको के लिए पेयजल व्यवस्था  , शौचालय ,  चिकित्सक उपकरण की उपलब्धता, खनन कार्य के दौरान भारत सरकार व राजस्थान सरकार के नियमों तथा दिशा निर्देशों की पालना साथ ही कोविड-19 को ध्यान में रखते हुए सरकार द्वारा समय-समय पर जारी दिशा निर्देशों की पालना करना आदि विभिन्न बिंदुओं पर विस्तृत जानकारी विन्ध्याली स्टोन कांस्या मे खान श्रमिकों को  माइनिंग इंजीनियर कुमावत ने बताया गया ।

इस दौरान एस एम ई नंदवाना ने सहित टीम ने सेंड स्टोन की लीज  पर पहुंचकर खनन ठेकेदारों व श्रमिकों से रूबरू होकर सरकार द्वारा चलाए चलाए जा रहे अभियान के तहत जानकारियां दी गई।

स्लोगन चस्पा कर सुरक्षा कवच पहने खतरों से दूर रहें बैनर चस्पा किए गए।

कार्यक्रम मे खनिज व्यवसाई नटवर मीणा , मंयक गांग  , राजु मीणा  , एडवोकेट ओमप्रकाश शर्मा  , रूपेश सिंह  , शैलेन्द्र जैन  , अजय कुमार  , राजु , योगेश  , विनोद सहित कई गणमान्य लोग उपस्थित थे ।

Popular posts from this blog

भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव : भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 22 और निर्दलीय ने जीती 17 सीटें, बोर्ड के लिए जोड़ तोड़

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक