ट्रैक से उतर जातीं कई ट्रेनें: चोरों ने 500 मीटर तक पटरी से फिश प्लेट निकाली, ग्रामीणों ने बुलाए रेलवे अफसर

 


दौसा। दिल्ली-जयपुर रेलमार्ग पर चोरों ने ट्रैक से पटरी को जोड़ने वाले करीब 500 मीटर तक के लॉक (फिश प्लेट) ही निकाल लिए थे। कुछ ही देर में इसी ट्रैक से ट्रेन गुजरने वाली थी। समय रहते गांव वालों की इसकी भनक लग गई और उन्होंने रेलवे अफसरों को सूचना दे दी। मौके पर पहुंचे रेल अफसरों ने बांदीकुई व दौसा रेलवे स्टेशन पर ट्रेनों को रुकवाया। सही समय पर जानकारी मिलने से बड़ा हादसा टल गया। यह मामला दौसा के कोलवा थाना क्षेत्र का है।

गुरुवार रात पौने नौ बजे ट्रेन आने से पहले कालोता गांव के पास दिल्ली-जयपुर ट्रैक पर चोरों ने पटरी से लॉक निकाले। इस दौरान तेज आवाज हो रही थी। इससे गांव वालों के कान खड़े हुए। ग्रामीण मौके पर पहुंचे तो चोर लोहे के लॉक बोरियों में भर रहे थे। गांव वालों को देख चोर भाग खड़े हुए। फौरन पुलिस और रेल अफसरों को सूचना दी गई।

पौन घंटे बाधित रहा संचालन
लॉक निकलने के बाद अलग-अलग हुई रेल पटरियों को जोड़ने के लिए फिर से काम शुरू किया गया। करीब पौन घंटे तक ट्रेनों का संचालन बाधित रहा। इसके बाद ही ट्रेनों का संचालन शुरू किया जा सका। पहली ट्रेन डाउन स्पीड में मालगाड़ी निकाली गई। इसके बाद एक-एक कर अन्य ट्रेनों का संचालन शुरू किया जा सका। फिश प्लेट निकालने वाले बदमाश कौन थे, इसका अभी तक पता नहीं चला है। पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

सजग थे गांव वाले
मौके पर पहुंचे रेलवे अधिकारियों का कहना था कि भगवान का शुक्र रहा ग्रामीणों की सजगता से बड़ी घटना बच गई। अगर समय पर सूचना नहीं दी गई होती तो जयपुर-दिल्ली रेल मार्ग पर कोई बड़ी अनहोनी हो सकती थी। अब कोलवा पुलिस और आरपीएफ चोरों की तलाश में जुटी है। जयपुर से दिल्ली व आगरा की ओर दर्जनों सुपरफास्ट यात्री ट्रेनें इस रूट से गुजरती हैं। समय पर सूचना नहीं मिलती तो बड़ा हादसा हो सकता था।

Popular posts from this blog

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !

झटके पे झटका ... कांग्रेस का जिले में बनेगा बोर्ड ?