ओमिक्रॉन को लेकर अच्छी खबर, पिछले वैरिएंट्स से कम खतरनाक हो सकता है यह वायरस

 

जोहानिसबर्ग। देश और दुनिया में कोरोना के ओमिक्रॉन वैरिएंट के बढ़ते मामलों के बीच एक राहत देने वाली खबर सामने आई है। ओमिक्रॉन वैरिएंट सबसे पहले दक्षिण अफ्रीका में पाया गया था। अब दक्षिण अफ्रीका में ही हुए एक अध्ययन में इस बात का खुलासा हुआ है कि ओमिक्रॉन कोरोना वायरस के पहले वैरिएंट्स की तुलना में कम खतरनाक है। दरअसल ओमिक्रॉन स्वरूप के प्रभाव को लेकर दक्षिण अफ्रीका में व्यापक स्तर पर अध्ययन किया जा रहा है। 
पिछली बार की तरह नहीं बिगड़ेगी स्थिति!
विटवाटर्सरैंड विश्वविद्यालय में महामारी विज्ञान की प्रोफेसर, शेरिल कोहिन ने बुधवार को नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर कम्युनिकेबल डिजीज (एनआईसीडी) द्वारा आयोजित एक ऑनलाइन वार्ता में दक्षिण अफ्रीका में ओमिक्रॉन स्वरूप की गंभीरता का प्रारंभिक आकलन शीर्षक वाले एक अध्ययन के रिजल्ट साझा किए। कोहिन ने कहा, उप-सहारा अफ्रीकी क्षेत्र के अन्य देशों में स्थिति कमोबेश समान रह सकती है, जहां पिछले वैरिएंट्स का खतरनाक असर देखने को मिला था।
चौथी लहर, पिछली लहर से अधिक खतरनाक नहीं है
उन्होंने कहा कि उन देशों में स्थिति समान नहीं हो सकती है, जहां पिछले स्वरूपों का असर काफी कम रहा था और टीकाकरण की दर अधिक है। एनआईसीडी की जन स्वास्थ्य विशेषज्ञ वासीला जस्सत ने इस बात को स्पष्ट किया कि कैसे ओमिक्रॉन स्वरूप की वजह से आई वैश्विक महामारी की चौथी लहर, पिछली लहर से अधिक खतरनाक नहीं है। उन्होंने कहा, चौथी लहर में, पहले चार सप्ताह में संक्रमण के मामले काफी अधिक आए...पिछली लहर की तुलना में 3,66,000 से अधिक मामले सामने आए। जस्सत ने बताया कि चौथी लहर में केवल छह प्रतिशत मरीजों को अस्पताल में भर्ती कराया गया, जबकि पिछली लहरों में 16 प्रतिशत मरीजों को अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

Popular posts from this blog

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !

झटके पे झटका ... कांग्रेस का जिले में बनेगा बोर्ड ?