ओमिक्रॉन वेरिएंट बन रहा है परेशानी की वजह, कैसे करें खुद को सुरक्षित

 


नई दिल्ली। कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्रॉन ने लोगों को फिर से चिंता में डाल दिया है। नवंबर के महीने में सबसे पहले दक्षिण अफ्रीका में इसके केस मिले। जिसके बाद यह तेज़ी से दुनियां के कई देशों तक पहुंच गया। भारत में भी यह वायरस अपने पैर पसार रहा है। ओमीक्रॉन के दिनों-दिन बढ़ते मामलों से देश में भय का माहौल है। लोगों को डर है कि कोरोना की पहली और दूसरी लहर के बाद ओमीक्रॉन कहीं तीसरी लहर की वजह न बन जाए।

क्या है ओमिक्रॉन

ओमिक्रॉन वायरस Covid-19 का ही एक नया रूप है। WHO ने इसको वायरस ऑफ कंसर्न (VOC) की कैटेगरी में शामिल किया है। कुछ एक्सपर्ट्स के अनुसार यह डेल्टा वायरस से अधिक खतरनाक साबित हो सकता है। इसके प्रसार की क्षमता कोरोना के अन्य वेरियंट से 7 गुना ज्यादा है। जिससे यह तीव्र गति से लोगों को अपनी चपेट में ले सकता है। बताया गया है कि ओमिक्रॉन से संक्रमण सार्स-कोवी-2 की अपेक्षा बहुत कम है। जिससे इस वेरिएंट से होने वाले रोग की गंभीरता कम होने के संकेत मिलते है। लेकिन इसका यह मतलब बिलकुल नहीं है कि सावधानी न बरतें।

ओमिक्रॉन के लक्षण

इस वायरस के लक्षण बहुत हद तक कोरोना से मिलते जुलते हैं। जिसमें सिरदर्द, बदन-दर्द, गले में खराश, सांस लेने में तकलीफ, बुखार, गंध की क्षमता का कमज़ोर हो जाना, खाने में स्वाद न आना, थकावट और कमजोरी जैसे लक्षण शामिल हैं। इस बीमारी से बचाव के लिए इस तरह का कोई भी लक्षण दिखने पर इसको गंभीरता से लें और तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। RT PCR टेस्ट कराकर इस वेरिएंट की जांच कराई जा सकती है।

ओमिक्रॉन से बचाव

कुछ लोग समझ रहे हैं कि वैक्सीन की दोनों डोज लेने से वे ओमिक्रॉन से पूरी तरह सुरक्षित है। अगर आप भी कुछ ऐसा ही सोच रहे हैं तो हम आपको बता दें कि वैक्सीन आपके भीतर इस रोग से लड़ने के लिए प्रतिरोधक क्षमता का विकास करती है। इस भूल में न रहें कि वैक्सीन लगवाकर आप इस वायरस के शिकार नहीं होंगे। इसलिए ओमिक्रॉन से बचाव के लिए पूरी तरह सतर्क रहें और इन बातों का ख्याल रखें।

1. सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करें।

2. भीड़ भाड़ वाले इलाकों में जाने से बचें।

3. मास्क जरूर पहनें।

4 समय-समय पर हाथ धोते रहें या सैनिटाइज करें।

5. बाहर से लाए गए किसी भी सामान को धोकर या सैनिटाइज करके ही इस्तेमाल करें।

6. कोई भी लक्षण दिखने पर आईसोलेट हो जाएं और तुरंत मेडिकल जांच कराएं।

ओमिक्रॉन के आने से लोगों के दिलों में कोरोना महामारी की कड़वी यादें फिर से ताजा हो चली हैं। हालांकि आज हम इस वायरस से लड़ने के लिए काफी हद तक तैयार हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि आपका हेल्थ इंश्योरेंस भी ओमिक्रॉन से बचाव में एक शील्ड की तरह है। इससे पहले ओमिक्रॉन से होने वाली मेडिकल इमरजेंसी का खर्चा आपकी परेशानी की वजह बने आप तुरंत अपने हेल्थ इंश्योरेंस को अपडेट करें। क्योंकि अस्पताल में इलाज और दवाइयों का खर्च बहुत ज्यादा है। अब ज्यादातर इंश्योरेंस कंपनियां कोरोना कवर की सुविधा दे रही हैं। अगर आपने अभी तक इस तरह का हेल्थ इंश्योरेंस नहीं कराया है तो आज ही कोरोना और ओमिक्रॉन को कवर करने वाला हेल्थ इंश्योरेंस कराएं। यदि आपके पास पहले से ही कोई हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी है तो इसको अपडेट कराना न भूलें।

Popular posts from this blog

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !

झटके पे झटका ... कांग्रेस का जिले में बनेगा बोर्ड ?