राजस्थान में कोरोना वैक्सीन लगाना अनिवार्य होगा: सीएम

 

बोले- नाइट कफ्र्यू और मास्क पर होगी सख्ती, थर्ड वेव से बचने के लिए कड़े कदम उठाएंगे
जयपुर।
 मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शुक्रवार को लाइव रीव्यू मीटिंग बुलाई। उन्होंने कहा कि पहले दो-तीन दिन जनता को चेतावनी दी जाए और उसके बाद मास्क और नाइट कफ्र्यू पर सख्ती बरती जाए।
कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के खतरे के बीच राजस्थान में अब कोरोना वैक्सीन लगवाना अनिवार्य होगा। कोरोना के बढ़ते केस के मद्देनजर बुलाई गई रीव्यू मीटिंग में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि प्रदेश में कोरोना की वैक्सीन लगवाना अनिवार्य किया जाए। इसके साथ ही अब राजस्थान में नाइट कफ्र्यू और मास्क को लेकर सख्ती बरती जाएगी।
गहलोत ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि वे मास्क नहीं पहनने, नाइट कफ्र्यू की पालना नहीं करने वालों पर सख्ती करना शुरू कर दे और तीन-चार दिन चेतावनी देने के बाद इस पर सख्ती करना शुरु कर दें।
गहलोत ने कहा कि लोग कोरोना की दूसरी लहर में जो तबाही मची उसका दर्द अभी नहीं भूले है। अब ऐसे हालात पैदा न हो इसलिए बचने के लिए हमें यह करना चाहिए। उन्होंने यूपी चुनाव टालने के इलाहाबाद हाईकोर्ट के सुझाव को लेकर कहा कि अगर ऐसे समय यह टिप्पणी आई है तो यह बहुत बड़ी बात है। हालांकि कई लोग इसके राजनैतिक मायने भी निकाल रहे हैं।
इससे पहले बैठक में स्वास्थ्य मंत्री परसादी लाल मीणा, हेल्थ सेक्रेट्री वैभव गालरिया ने कहा था कि अभी से पाबंदियां लगाना ठीक रहेगा। नए साल पर पाबंदिया रहेंगी तो संक्रमण के फैलने की गति को कुछ हद तक कंट्रोल किया जा सकता है।
वैक्सीन नहीं लगवाने वालों को सरकारी योजना का फायदा नहीं मिलेगा
गहलोत ने बैठक में कहा कि जिस तरह तमिलनाडु, पंजाब ने वैक्सीनेशन अनिवार्य कर दिया है, उसी तरह हमें भी वैक्सीन अनिवार्य करनी पड़ेगी। कोई भी व्यक्ति वैक्सीन लगवाने से इंकार नहीं कर सकता, ये उसका अधिकार नहीं है। हमें इसे अनिवार्य करना ही पड़ेगा। हमने जब मास्क लगाने का कानून पास किया तो वैक्सीन को भी अनिवार्य कर सकते हैं। लोगों को समय दे सकते हैं कि एक महीने में वैक्सीन लगवा ले नहीं तो पैनल्टी लगेगी। जो वैक्सीन नहीं लगाएगा, उसे सरकारी योजना का लाभ न दें।
बिना बोले बूस्टर डोज नहीं मिलेगी
बूस्टर डोज के मामले पर गहलोत ने केन्द्र सरकार पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि पहले भी हमने 18 से ज्यादा उम्र के लोगों के लिए वैक्सीन फ्री करने की मांग उठाई थी। वल्र्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन की चेतावनी के बाद भारत सरकार को बूस्टर डोज पर विचार करना चाहिए। इसके लिए भारत सरकार पर दबाव बनाना पड़ेगा। बिना बोले बात नहीं बनेगी।
यूरोप में लॉकडाउन लगना शुरू
एसएमएस मेडिकल कॉलेज के प्रिंसीपल डॉ. सुधीर भण्डारी ने कहा कि यूरोप के नीदरलैण्ड में 14 जनवरी तक लॉकडाउन लग गया है। यहां रेस्टोरेंट, बार, पार्क, जिम आदि बंद कर दिए है। इसके अलावा अन्य देशों जर्मनी, ब्राजील में भी सख्ती बढ़ गई है। ऐसे में हमे भी जरूरी हो सके तो पाबंदिया लगाकर अभी से वायरस को कंट्रोल करने के प्रयास करने चाहिए।
थर्ड वेव की कॉल बैल बज चुकी है
कोरोना मैनेजमेंट कमेटी के सदस्य और विशेषज्ञ डॉ. वीरेन्द्र सिंह ने कहा कि जिस तरह से कोरोना की दूसरी लहर आई थी, उस समय भी किसी ने अंदाजा नहीं लगाया था कि यह इस तरह से आएगी। इस बार भी संकेत ऐसे ही मिल रहे हैं, क्योंकि इस बार भी पहले यूरोप अमेरिका में केस तेजी से बढ़ रहे है। वहां अब केस धीरे-धीरे कंट्रोल होने लगेंगे और एशियाई देशों में केस बढऩे लगेंगे। हम मानकर चल रहे है कि थर्ड वेब की कॉल बैल बज चुकी है और हमे अभी से सावधान हो जाना चाहिए। वहीं मुख्य सचिव निरंजन आर्य ने कहा कि अब समय आ गया है कि हमें पूरी तरह तैयार हो जाना चाहिए। सभी अलर्ट मोड पर रहें।

Popular posts from this blog

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !

झटके पे झटका ... कांग्रेस का जिले में बनेगा बोर्ड ?