Tuesday, January 26, 2021

दो दिन पहले बेटी का पिता बने युवक ने फांसी लगाकर दी जान


 भीलवाड़ा हलचल। दो दिन पहले बेटी का पिता बने दौलतगढ़ के एक युवक ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। मृतक की पत्नी प्रसव के चलते पीहर में, जबकि मां रिश्तेदारी में आसींद गई हुई थी। युवक ताला लगे मकान की खिड़की तोड़कर अंदर घूसा और रस्से के सहारे पंखे से लटक गया। इस घटना से गांव में शोक छा गया।
दौलतगढ़ चौकी प्रभारी श्रवणकुमार विश्नौई ने हलचल को बताया कि दौलतगढ़ निवासी रजनीश (32) पुत्र स्व. शांतिलाल कंडारा की पत्नी प्रसव के चलते अपने पीहर कुंडिया गई हुई थी, जबकि उसकी मां दो दिन पहले रिश्तेदारी में आसींद चली गई। घर पर कोई नहीं था। ताला लगे मकान की खिड़की तोड़कर रजनीश बीती रात कमरे में घुसा और रस्से का फंदा गले में डालकर पंखे से लटक गया। 
मंगलवार सुबह पड़ौसियों ने खिड़की टूटी देखी तो वे, मौके पर पहुंचे और खिड़की से अंदर देखा तो अविनाश पंखे से लटका नजर आया। यह देखकर पड़ौसियों ने पुलिस व अविनाश की मां को सूचना दी। 
आसींद से मां भी घर पहुंच गई। इसके बाद पुलिस ने शव को फंदे से नीचे उतारकर पोस्टमार्टम के लिए राजकीय अस्पताल भिजवा दिया, जहां पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया। खुदकुशी के कारण अभी सामने नहीं आये हैं। उधर, घटना की सूचना पर आसींद थाना प्रभारी महेंद्रसिंह शेखावत भी मौके पर पहुंचे और घटना की जानकारी ली। 
दो दिन पहले ही पत्नी ने दिया था बेटी को जन्म
अविनाश की पत्नी प्रसव के लिए अपने पीहर कुंडिया चली गई थी।  जहां दो दिन पहले ही उसने बेटी को जन्म दिया था। पुलिस का कहना है कि उसके पहले से एक बेटा भी है। अविनाश के खुदकुशी करने के बाद उसके दो मासूम बच्चों के सिर से पिता का साया हमेशा के लिए उठ गया। 
पिता थे पीटीआई, देहांत के बाद मां को मिली चतुर्थश्रेणी कर्मचारी की नौकरी
पुलिस ने बताया कि अविनाश के पिता सरकारी स्कूल में पीटीआई थे। नौकरी के दौरान ही उनका निधन हो गया। इसके चलते अविनाश की मां को अनुकंपात्मक नौकरी मिल गई। वह अभी कांवलास स्कूल में चतुर्थश्रेणी कर्मचारी के पद पर कार्यरत है। 

कोरोना रोकथाम को लेकर सख्त कार्रवाई जारी

    चित्तौडगढ़ । जिले में कोरोना महामारी रोकथाम हेतु जारी गाइडलाइंस का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जा रही है। पुलिस विभाग से...