टिंबर ट्रेल रोपवे में 11 लोग फंसे:5 घंटे से बीच रास्ते अटकी है केबल कार; 7 का रेस्क्यू

 


हिमाचल प्रदेश में सोलन जिले के परवाणू स्थित टिंबर ट्रेल रोपवे (केबल कार) में सोमवार को 11 लोग फंस गए। इनमें से सात लोगों को रस्सी के सहारे सुरक्षित रेस्क्यू कर लिया गया है, जबकि चार अन्य अभी भी हवा में अटकी ट्रॉ़ली में फंसे हैं। सोलन जिला प्रशासन और टिंबर ट्रेल का टेक्निकल स्टाफ लोगों को निकाल रहा है। वहीं NDRF की टीम भी पहुंच गई है।

लोगों को जल्द सुरक्षित निकालने के निर्देश

प्रशासन फंसे हुए लोगों का मनोबल बढ़ा रहा है। रेस्क्यू करने के बाद निकाले गए लोगों के स्वास्थ्य जांच की जा रही है। वहीं, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने भी लोगों को जल्द सुरक्षित निकालने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री खुद मौके पर जा रहे हैं। वहीं रोप-वे के पास बड़ी संख्या में लोग जुटे हुए हैं। बताया जा रहा है कि जहां ट्रॉली फंसी हुई है वहां से जमीन 120 मीटर से ज्यादा दूर है है। ट्रॉली से निकाले गए लोग बेहद घबराए हुए हैं। सुबह 11 बजे के फंसे हुए हैं और उन्हें फंसे पांच घंटे हो गए हैं।

राज्य के प्रवेश द्वार परवाणू के पास टिंबर ट्रेल से करीब 800 मीटर दूर पहाड़ी पर होटल है। होटल के लिए लोग रोपवे के जरिए पहुंचते हैं। सोमवार दोपहर करीब 1 बजे ट्रॉली में तकनीकी खराबी आ गई। इसके बाद से ट्रॉली हवा में लटक गई है। राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के अनुसार सात लोगों को रस्सी के जरिए उतार कर रेस्क्यू किया गया है, इनमें पांच महिलाएं शामिल हैं। कुछ लोग रस्सी के जरिए उतरने में घबरा रहे हैं। इस वजह से इन्हें रेस्क्यू करना चुनौतीपूर्ण हो गया है।

जिला प्रशासन ने इन्हें सुरक्षित रेस्क्यू करने के लिए सेना से मदद मांगी है। वहीं तकनीकी खराबी के कारण हवा में अटकी ट्रॉली को दुरुस्त करने के लिए तकनीकी टीम भी पहुंच गई है।

दिल्ली के बताए जा रहे हैं लोग

ट्रॉली में फंसे लोग दिल्ली के बताए जा रहे है। इनमें कई बुजुर्ग भी हैं, जो रस्सी के जरिए उतरने में घबराहट महसूस कर रहे हैं। ट्रॉली में फंसे लोग खुद वीडियो बनाकर मदद की अपील कर रहे हैं। DC सोलन कृतिका कुल्हरी के मुताबिक NDRF की टीम को रेस्क्यू के लिए बुलाया गया है। टीम रेस्क्यू में जुट गई है।

  रेस्क्यू की कोई व्यवस्था नहीं

रोपवे की ट्रॉली में फंसे लोग वीडियो बनाकर कह रहे हैं कि वह एक घंटे से टिंबर ट्रेल ट्रॉली में फंसे हुए हैं। अब तक उन्हें रेस्क्यू करने की कोई व्यवस्था नहीं हुई है। ट्रॉली में फंसे लोगों में कई बुजुर्ग हैं। लोग कह रहे हैं कि हवा में लटके होने से उन्हें घबराहट हो रही है। एक पर्यटक कह रहा है कि वह बीपी शुगर के मरीज हैं। वह रस्सी से जंगल में उतरने की स्थिति में नहीं है। वहीं एक महिला घुटनों में दर्द होने और एक अन्य महिला हार्ट पेशेंट होने की वजह से रस्सी से उतरने को इनकार कर रही है।

 होटल से लौट रहे थे  

ट्रॉली में फंसे सभी लोग टिंबर ट्रेल रिजॉर्ट से लौट रहे थे। इस दौरान बीच तकनीकी खराबी के कारण बीच हवा में ट्रॉली अटक गई। ट्रॉली को हवा में लटके करीब चार घंटे हो गए हैं, लेकिन अभी तक रेस्क्यू नहीं हो पाया है। राज्य आपदा प्रबंधन के विशेष सचिव सुदेश कुमार मोक्टा ने बताया कि ट्रॉली में फंसे लोगों को रेस्क्यू करने के लिए एयरफोर्स और NDRF को बुलाया गया है। जल्द सभी को सुरक्षित निकाल लिया जाएगा।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

देवा गुर्जर की गैंगवार में हत्या, विरोध में रोडवेज बस में लगाई आग !

देवा गुर्जर हत्या का मुख्य आरोपी दुर्गा गुर्जर गिरफ्तार 3 साथी भी पकड़े गए

कन्या हत्याकांड- भीलवाड़ा में साली की हत्या कर भागे जीजा ने एमपी में दी जान, मार कर मरुंगा का एफबी पर लगाया था स्टेटस

छोटे भाई की पत्नी के साथ होटल में रंगरलियां मना रहा था पुलिसकर्मी, सिपाही पत्नी ने पकड़ा और कर दी धुनाई

66वीं राज्य स्तरीय वॉलीबॉल प्रतियोगिता के सेमीफाइनल मैच कल , राजस्थान का गोल्डमैन व समाजसेवी कन्हैया लाल खटीक आएंगे

प्रोसेस हाउस की बस की टक्कर से ऑटो मोबाइल कंपनी के मैनेजर की मौत

बेटे का आरोप-ब्लैकमेलिंग से परेशान था मोहम्मद रईस, विषाक्त सेवन कर शिकायत देने गया था एसपी ऑफिस