नाबालिक को घर से उठा ले गये, नामजद रिपोर्ट दी, लेकिन 15 दिन बाद भी पुलिस ने नहीं की कार्रवाई

 

 शाहपुरा-मूलचन्द पेसवानी. 

शाहपुरा तहसील इलाके से 22 मई की देर रात एक नाबालिग लड़की को घर से उठा ले जाने के मामले में नामजद रिपोर्ट देने के 15 दिन बाद भी पुलिस कोई कार्रवाई नहीं कर पाई। परिवार का आरोप है कि पुलिस के आला अधिकारियों के सामने पेश होकर गुहार लगाने के बाद भी सुनवाई नहीं हो पाई। ऐसे में अब यह परिवार जिला मुख्यालय पर अनशन पर बैठने को मजबूर है। उधर, नाबालिग लड़की का पतानहीं लगने से परिवारजनों का बुरा हाल है। शाहपुरा थाना प्रभारी घनश्याम सिंह का कहना है कि मामले की जांच एएसआई श्रवणलाल मीणा कर रहे हैं।  
नाबालिग के पिता ने बीएचएन को बताया कि उसकी बेटी को मध्य रात्रि में घर से  एक सफेद रंग की कार में ले जाया गया है। सुबह परिवार उठा तो बेटी के कमरे में सामान बिखरा पड़ा था। कमरे से सोने के जेवर, नकदी भी अपहरणकर्ता ले गये है। आरोपी सुरेश जाट ने नाबालिग को झूंठे प्रेम का नाटक रचकर  अपहरण कर लिया।   इस षडयंत्र में उसके साथ अन्य लोग भी है।  

नहीं हो रही है पुलिस में सुनवाई-
बालिका के पिता  व काका ने मंगलवार को पुलिस उपाधीक्षक कार्यालय में बताया कि 15 दिन से ज्यादा समय बीत गया है। रिपोर्ट देने के बाद भी शाहपुरा थाना पुलिस कोई कार्रवाई नहीं कर रही है। बार बार पुलिस के पास जाने पर कहा जाता है कि लोकेशन ट्रेश होने के बाद ही कोई कार्रवाई होगी। परिजनों का आरोप है कि कुछ आरोपी तो आज भी  खुलेआम घुम रहे है। पुलिस उनसे कोई पूछताछ नहीं कर रही है। 

आरोपी है प्रभावशाली
परिजनों का आरोप है कि आरोपियों के प्रभावशाली व सत्ता के नजदीक  होने के कारण पुलिस उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर रही है। पुलिस आरोपियों को समय देकर नाबालिग के बालिग होने का इंतजार कर समय दे रही है । जिससे परिवारजन अब परेशान होकर अनशन करने की तैयारी में है।

स्कूल रिकार्ड में है नाबालिग-
बालिका के पिता का कहना है कि  सैकेंडरी स्कूल के तमाम दस्तावेज  के अनुसार बालिका का जन्म 03 जून 2005 है। मार्कशीट सहित प्रवेश के दस्तावेजों में यही जन्म तिथि है। आरोपियों ने षडय़ंत्रपूर्वक उसके दस्तावेजों में जन्मतारीख को बदला कर फर्जी डाक्यूमेंट तैयार करा लिये जिसकी शिकायत पर तहसीलदार द्वारा भी अलग से मामला पंजीबद्व कराया गया है। 

शपथपत्र में कांटछांट कर बनाया जन्मप्रमाण पत्र,  एफआईआर दर्ज, कार्रवाई नहीं हुई
 
 नाबालिग के अपहरण मामले में नया खुलासा  हुआ है । बताया गया है कि तहसील शाहपुरा कार्यालय में प्रस्तुत शपथपत्र में कांटछांट व वाईटरनर लगा कर संशोधित कर उसके आधार पर जन्मप्रमाण पत्र व आधार कार्ड में संशोधन करा लिया गया है। अपहृत बालिका के परिजनों की शिकायत पर तहसीलार ने जांच की तो मामले का खुलासा हुआ। इस पर शाहपुरा तहसीलदार नारायणलाल जीनगर की ओर से पुलिस थाना शाहपुरा में 25 मई 2022 को  सुरेश जाट सहित दो के खिलाफ   मुकदमा दर्ज कराया गया है।
इस मुकदमें के दर्ज होने के बाद भी शाहपुरा  पुलिस अब तक  मामले में आरोपियों को तलाश नहीं कर पायी है। तहसीलदार नारायणलाल जीनगर के अनुसार नाबालिग ने स्वयं का जन्मप्रमाण पत्र बनाने के लिए 27 जनवरी 22 को उनके यहां शपथपत्र पेश किया। उसके साथ सुरेश भी था। उनके द्वारा आदेश पर हस्ताक्षर कर डिस्पेच शाखा में सील लगाने के लिए भेजा था। इस दौरान शपथपत्र में कोई कांटछांट नहीं थी तथा कहीं पर भी वाईटर नहीं लगा था परंतु उनके हस्ताक्षर होने के बाद उसमें कांटछांट करके व फोटो बदल कर धोखाधड़ी की। तहसीलदार ने बताया कि मामला संज्ञान में आने के बाद तुंरत ही रिपोर्ट तैयार करके पुलिस थाने में दर्ज करा दी है। अब अग्रिम कार्रवाई शाहपुरा थाना पुलिस को करनी है।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

देवा गुर्जर की गैंगवार में हत्या, विरोध में रोडवेज बस में लगाई आग !

देवा गुर्जर हत्या का मुख्य आरोपी दुर्गा गुर्जर गिरफ्तार 3 साथी भी पकड़े गए

कन्या हत्याकांड- भीलवाड़ा में साली की हत्या कर भागे जीजा ने एमपी में दी जान, मार कर मरुंगा का एफबी पर लगाया था स्टेटस

छोटे भाई की पत्नी के साथ होटल में रंगरलियां मना रहा था पुलिसकर्मी, सिपाही पत्नी ने पकड़ा और कर दी धुनाई

कार खड़े ट्रक से टकराई भीलवाड़ा के एक ही परिवार के तीन लोगों सहित 4 व्यक्तियों की मौत

VIDEO आसींद में युवक से मारपीट, तोड़फोड़, आगजनी का प्रयास, बाजार बंद, दो के खिलाफ रेप का मामला दर्ज

फार्म हाउस पर छापा, भीलवाड़ा -चित्तौड़गढ़ जिले के 31 जुआरी गिरफ्तार सात लाख से ज्यादा की नकदी बरामद