परीक्षा रद्द करने पर देवनानी ने साधा निशाना: कहा - गहलोत सरकार और उसमें बैठी बड़ी मुर्गियों से मिलीभगत के चलते गिरोह के हौसलें बुलंद

 


अजमेर। पेपर लीक के चलते कनिष्क न्यायायिक सहायक, कनिष्क सहायक एवं क्लर्क भर्ती परीक्षा रद्द होने पर पूर्व शिक्षा मंत्री एवं वर्तमान अजमेर उत्तर विधायक वासुदेव देवनानी ने राज्य सरकार को आड़े हाथों लिया। देवनानी ने कहा कि प्रदेश में सालभर के दौरान पांच बड़ी प्रतियोगी परीक्षाएं आयोजित हुई। इसमें से एक कनिष्क न्यायायिक सहायक, कनिष्क सहायक एवं क्लर्क भर्ती परीक्षा को पेपर लीक होने के चलते हाईकोर्ट को रद्द करना पड़ा। हाईकोर्ट द्वारा यह बड़ी भर्ती परीक्षा रद्द करना कहीं न कहीं राज्य सरकार को नाकारापन का सर्टिफिकेट है। प्रदेश के लाखों विद्यार्थियों के भविष्य के साथ हो रहे खुलमखुल्ला खिलवाड़ को रोक सकने में नाकाम नाकारा सरकार को एक मिनट भी सत्ता में रहने का अधिकार नहीं है।

कांग्रेस ने किया कीर्तिमान स्थापित

विधायक देवनानी ने कहा कि कांग्रेस सरकार प्रश्न-पत्र लीक मामलों में नया कीर्तिमान स्थापित करती जा रही है। गत 1 वर्ष में प्रदेश में एसआई, रीट, जेईएन, पुस्तकालय अध्यक्ष ग्रेड-3 और कनिष्क न्यायायिक सहायक, कनिष्क सहायक एवं क्लर्क इत्यादि आधा दर्जन प्रतियोगी परीक्षाओं का आयोजन हुआ। हर एक परीक्षा का पेपर आउट होने के समाचार सामने है। प्रश्न-पत्र लीक होने के चलते उच्च न्यायालय को कनिष्क न्यायायिक सहायक, कनिष्क सहायक एवं क्लर्क भर्ती परीक्षा को रद्ध करना पडा। उन्होंने कहा कि जो कार्य राज्य सरकार को करना चाहिए था वह उच्च न्यायालय को करना पडा। साल भर में आयोजित परीक्षाओं में साफ तौर पर प्रश्न-पत्र लीक के प्रमाण मिल चुके है, फिर भी राज्य सरकार अब तक पेपरों को लीक घोषित करने से बच रही है।

बड़ी मुर्गियों से गिरोह के हौसले बुलंद

देवनानी ने कहा कि गहलोत सरकार और उसमें बैठी बडी ‘मुर्गियों’ की मिलीभगत के चलते पेपर लीक प्रकरण से जुडे गिरोह के हौंसले बुलंद है। लीक प्रकरण के अहम दोषी आज भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है। रीट परीक्षा प्रश्न पत्र लीक प्रकरण के अहम दोषी माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष जारौली आज भी फरार चल रहे हैं। दोषी लोगों का पकड से बाहर रहना कोई दुर्घटनावश नहीं बल्कि योजनाबद्ध तरीके से प्रदेश में इस काम को अंजाम दिया जा रहा है। गहलोत सरकार में बैठे बडे लोगों की सह पर ऐसे लोगों को भूमिगत रखने का काम बडी चतुराई से जारी है। इतना ही नहीं अहम दोषी के नाम तो आज भी बाहर नही है। राज्य सरकार इन सभी प्रकरणों की निष्पक्ष सीबीआई जांच कराए तो काला सच सबके सामने आना तय है। चेतावनी देते हुए देवनानी ने कहा की भले ही मुख्यमंत्री गहलोत सत्ता का दुरूपयोग करते हुए दोषी लोगों को बचा ले लेकिन समय आने पर सरकार के सभी काले कारनामों का हिसाब होगा। जनता सही समय पर कांग्रेस को सबक सीखाने का कार्य करेगी।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

देवा गुर्जर की गैंगवार में हत्या, विरोध में रोडवेज बस में लगाई आग !

देवा गुर्जर हत्या का मुख्य आरोपी दुर्गा गुर्जर गिरफ्तार 3 साथी भी पकड़े गए

शराब के नशे में महिला सहित 4 लोगों ने किया तमाशा वीडियो वायरल

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक

छोटे भाई की पत्नी के साथ होटल में रंगरलियां मना रहा था पुलिसकर्मी, सिपाही पत्नी ने पकड़ा और कर दी धुनाई

हत्या पर हंगामा, देवा गुर्जर के समर्थकों ने फूंकी बस, मॉर्चरी के बाहर बरसाए पत्थर

आदर्श तापड़िया मर्डर: परिजनों से समझाइश का दूसरा दौर शुरू