महाराष्ट्र में युवक की संदिग्ध मौत, भीलवाड़ा कलेक्ट्रेट पर भील समाज का प्रदर्शन, कहा- घर के बाहर पड़ा है शव

 


भीलवाड़ा संपत माली
मजदूरी के लिए महाराष्ट्र गए भील जाति के युवक की तीन दिन पहले संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। युवक को मजदूरी के लिए ले जाने वाले लोगों ने बीमारी का बहाना कर उसके भाई व चाचा को बुलाकर न केवल डराया-धमकाया बल्कि मोबाइल भी छीन लिया। भाई का आरोप है कि मृतक के शरीर पर चोटों के गहरे निशान पाए गए हैं। ऐसे में उसकी मौत सामान्य न होकर उसकी हत्या की गई है। उधर, महाराष्ट्र से गांव गणेशपुरा लाया गया शव अब भी घर के बाहर पड़ा है। मृतक के परिजन और भील समाज के लोग बड़ी संख्या में गुरुवार को भीलवाड़ा पहुंचे और कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन कर पुलिस अधीक्षक को रिपोर्ट दी जिसमें हत्या का मामला दर्ज करने और मृतक के आश्रितों को आर्थिक सहायता दिलाने की मांग की गई। 
जिले के शंभुगढ़ थाना क्षेत्र के गणेशपुरा गांव में रहने वाले प्रभु पुत्र मांगू भील ने पुलिस अधीक्षक को दी शिकायत में बताया कि चंपालाल, लादूलाल व प्रभु परिवादी के छोटे भाई कमलेश पुत्र मांगू भील को कुआं खोदने के लिए महाराष्ट्र ले गए थे। परिवादी भी महाराष्ट्र में ही दूसरी साइट पर काम कर रहा था। 31 मई को परिवादी प्रभु को सूचना मिली कि भाई कमलेश बीमार है। जल्दी आ जाओ। इस पर वह अपने चाचा हरजी के साथ वहां गया। उसने जब कमलेश को देखा तो उसके शरीर पर कई चोटों के गहरे निशान थे और सिर में भी भारी चोट लगी थी जिससे कमलेश की मौत हो गई। प्रभु ने शिकायत में बताया कि उसे व उसके चाचा को डरा-धमकाकर गाड़ी में बैठाकर राजस्थान के लिए रवाना कर दिया। रास्ते में उसका फोन छीन लिया। चाचा के साथ मारपीट की। जान से मारने की धमकी दी। गांव के पास पहुंचने पर आरोपियों ने अन्य गाड़ी में बॉडी के साथ परिवादी और उसके चाचा को बैठा दिया और खुद वहीं उतर गए। प्रभु ने घटना की जानकारी परिवार वालों को दी और कहा कि प्रभु गुर्जर दोषी नहीं है तो उसे सारी घटना की जानकारी देनी चाहिए थी लेकिन उसने ऐसा नहीं किया। उधर, प्रभु परिवार और भील समाज ने शव लेने से इनकार किया है। परिवादी ने शंभुगढ़ थाने में सूचना दी जहां थानाप्रभारी ने कहा कि बॉडी ले जाओ, नहीं तो तुम्हारे खिलाफ कार्यवाही की जाएगी। इसके बाद परिजन और समाज के लोग मर्डर का खुलासा करने के साथ ही शव का परिवार के लोगों के सामने जिला अस्पताल में पीएम करने और रिपोर्ट परिवार को देने की मांग कर रहे हैं। साथ ही चेतावनी भी दी है कि जब तक मामले का खुलासा नहीं होगा, वे शव नहीं लेंगे।
परिवादी व समाज के लोगों ने एसपी से आरोपियों को गिरफ्तार कर आवश्यक कानूनी कार्रवाई करने, मृतक की पत्नी को संविदा पर नौकरी और उचित मुआवजा दिलाने की मांग की है।
पुलिस अधीक्षक को दिए गए पत्र में यह भी चेतावनी दी गई है कि जब तक मर्डर का खुलासा नहीं हो जाता और मांगें पूरी नहीं हो जाती तब तक भील समाज जिला मुख्यालय पर धरने पर बैठा रहेगा।
इससे पूर्व भील समाज के बड़ी संख्या में लोग कलेक्ट्रेट पहुंचे और नारेबाजी कर प्रदर्शन किया। उधर, शंभुगढ़ पुलिस का कहना है कि मृतक का शव अभी भी उसके घर के बाहर पड़ा है वहीं समाज के लोगों के साथ बातचीत भी चल रही है।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

देवा गुर्जर की गैंगवार में हत्या, विरोध में रोडवेज बस में लगाई आग !

देवा गुर्जर हत्या का मुख्य आरोपी दुर्गा गुर्जर गिरफ्तार 3 साथी भी पकड़े गए

शराब के नशे में महिला सहित 4 लोगों ने किया तमाशा वीडियो वायरल

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक

छोटे भाई की पत्नी के साथ होटल में रंगरलियां मना रहा था पुलिसकर्मी, सिपाही पत्नी ने पकड़ा और कर दी धुनाई

हत्या पर हंगामा, देवा गुर्जर के समर्थकों ने फूंकी बस, मॉर्चरी के बाहर बरसाए पत्थर

आदर्श तापड़िया मर्डर: परिजनों से समझाइश का दूसरा दौर शुरू