ससुराल से लौटकर डीजे संचालक ने किया सुसाइड

 


  भीलवाड़ा बीएचएन। ससुराल से लौटने के बाद डीजे संचालक ने अपने मकान के बंद कमरे में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। मृतक परिवार में इकलौता और एक बेटी का पिता था। घटना जिले के शंभुगढ़ में हुई। पुलिस का कहना है कि खुदकुशी के कारण अभी सामने नहीं आये हैं। 
शंभुगढ़ थाने के दीवान उमराव अली ने बीएचएन को बताया कि शंभुगढ़ निवासी सुनील 30 पुत्र शांतिलाल शर्मा डीजे संचालक था। वह परिवार का इकलौता बेटा था। उसके माता-पिता भी नहीं है। सुनील, शादीशुदा और एक बेटी का पिता था। दस-पन्द्रह दिन से सुनील, पत्नी व बेटी के साथ ससुराल जालिया सैकंड में ही था। 
बुधवार को सुनील, ससुराल से अपने घर शंभुगढ़ लौट आया। उसने अपने मकान के एक कमरे में जाने के बाद दरवाजा अंदर से बंद कर लिया। इसके बाद सुनील ने गले में रस्सी का फंदा डाला और टीटेबल पर प्लास्टिक की कुर्सी रखकर उपर चढ़ गया और कड़े से रस्सी बांध दी। इसके बाद लात मार कर टी-टेबल से कुर्सी को नीचे गिरा दिया। फांसी लगने से सुनील की मौत हो गई। उधर, बुधवार दोपहर में आस-पास के लोगों को सुनील के घर आने व इसके बाद दिखाई नहीं देने का आभास हुआ। पड़ौसी घर पहुंचे तो उसका कमरा बंद मिला। शंका के आधार पर अंदर देखा तो सुनील फंदे से झूलता मिला। ऐसे में पुलिस को सूचना दी गई। पुलिस मौके पर पहुंची और दरवाजा खोलकर सुनील के शव को वीडियोग्राफी कराते हुये नीचे उतारा। इस बीच अंटाली से उसका जीजा, अन्य रिश्तेदार व गांव के लोग भी आ गये। पुलिस ने आसींद सीएचसी में पोस्टमार्टम कराने के बाद शव परिजनों को सौंप दिया। 
इससे पहले पुलिस ने मृतक के कपड़ों व कमरे की तलाशी ली, लेकिन वहां कोई सुसाइड नोट नहीं मिला। ऐसे में पुलिस अब अपनेस्तर पर खुदकुशी के कारणों की जांच कर रही है। 

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना