फर्जी वकील बनकर अजमेर सेंट्रल जेल में बंद विचाराधीन बंदी से मुलाकात करने का मामला,एफआईआर दर्ज

 


फर्जी वकील बनकर अजमेर सेंट्रल जेल में बंद विचाराधीन बंदी से मुलाकात करने का मामला सामने आया है। जिसके बाद जेल प्रशासन ने फर्जी व्यक्ति और सहयोग करने वाले वकील के खिलाफ सिविल लाइन थाने में मामला दर्ज कराया है। 


अजमेर के प्रहरी गणेश खौजी पुत्र धीसालाल खोजी (28) ने रिपोर्ट दी। जिसमें उसने बताया कि हाईकोर्ट जयपुर के वकील महेश गुर्जर की फर्जी आईडी से तीन जून को टोंक निवासी सुभाष पुत्र मदन लाल अजमेर सेंट्रल जेल आया। उसने जेल में विचाराधीन बंदी हरिनारायण पुत्र विजय सिंह मीणा ( 52) निवासी किशोरपुरा-बिन्दायका जिला जयपुर से मुलाकात की। इसी दरौन ड्यूटी पर तैनात संतरी मांगीलाल को फर्जी व्यक्ति का शक हुआ। उसने सुभाष से पूछताछ की तो वह नाम, पता, जन्म तिथि सही नहीं बता पायाइसके बाद वकील महेश गुर्जर से फोन पर पूछताछ की गई तो उन्होंने अपनी आईडी जितेन्द्र चौधरी के पास होना बताया और कहा कि वे जेल में नहीं आए। जिसके बाद फर्जी वकील सुभाष के खिलाफ फर्जी आईडी का उपयोग कर मुलाकात करने और जितेंद्र चौधरी पर उसका सहयोग करने का एफआईआर दर्ज करवाया गया। पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

देवा गुर्जर की गैंगवार में हत्या, विरोध में रोडवेज बस में लगाई आग !

देवा गुर्जर हत्या का मुख्य आरोपी दुर्गा गुर्जर गिरफ्तार 3 साथी भी पकड़े गए

शराब के नशे में महिला सहित 4 लोगों ने किया तमाशा वीडियो वायरल

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक

छोटे भाई की पत्नी के साथ होटल में रंगरलियां मना रहा था पुलिसकर्मी, सिपाही पत्नी ने पकड़ा और कर दी धुनाई

हत्या पर हंगामा, देवा गुर्जर के समर्थकों ने फूंकी बस, मॉर्चरी के बाहर बरसाए पत्थर

आदर्श तापड़िया मर्डर: परिजनों से समझाइश का दूसरा दौर शुरू