मरीजों को महंगी ब्रांडेड दवा नहीं बेच सकेंगे डॉक्टर


 

डॉक्टर अपने मरीजों को महंगी ब्रांडेड दवा नहीं बेच सकेंगे। राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग (एनएमसी) ने डॉक्टरों के लिए बनाई गई पेशेवर आचार संहिता में यह प्रावधान किया है। हालांकि, डॉक्टरों को अपने मरीज के लिए दवा बेचने की मनाही नहीं है।एनएमसी की हाल में जारी आचार संहिता के मसौदे में कहा गया है कि डॉक्टर दवा की खुली दुकान नहीं चला सकते हैं और न ही मेडिकल उपकरण बेच सकते हैं। सिर्फ उनको दवाएं बेच सकते हैं, जिनका इलाज वह खुद कर रहे हैं, लेकिन उन्हें सुनिश्चित करना होगा कि मरीजों का शोषण नहीं हो।

छोटे शहरों में चलन ज्यादा

आजादी से पूर्व बने तमाम कानूनों में डॉक्टरों को मरीजों को दवा देने की अनुमति है। तब दवा की दुकानें कम होती थीं। विश्व स्वास्थ्य संगठन भी इसकी अनुमति देता है। यह प्रावधान इसलिए किया गया क्योंकि डॉक्टर घर जाकर भी मरीज का इलाज करते हैं। बाद में मेडिकल स्टोर बढ़ने से बड़े शहरों में खुद के दवा बेचने का प्रचलन कम हो चुका है। छोटे शहरों में अब भी डॉक्टर मरीजों को देखते हैं और दवा भी बेचते हैं।

डॉक्टरों द्वारा दवा बेचना सही नहीं

एक वर्ग डॉक्टरों द्वारा दवा बेचने को सही नहीं मानता। क्योंकि डॉक्टर महंगी ब्रांडेड दवाएं ही रखते हैं और मरीजों को उसे लेने पर विवश होना पड़ता है। जबकि, मेडिकल स्टोर पर जेनेरिक दवाएं खरीदने का भी विकल्प होता है।

कोई भी डॉक्टर दूसरे डॉक्टरों द्वारा लिखी दवा बेच नहीं सकता

दूसरे, यदि किसी बीमारी की पांच दवाएं हैं और डॉक्टर के पास कम असरदार दवा है तो वह अपनी बिक्री बढ़ाने के लिए उसी दवा को लिखता है। हालांकि, इसके पक्ष में तर्क देने वाले कहते हैं कि उपचार कर रहा डॉक्टर यदि मरीज को दवा भी बेचता है तो मरीज का समय बचेगा। एनएमसी ने मसौदे में कहा है कि कोई भी डॉक्टर दूसरे डॉक्टरों द्वारा लिखी दवा बेच नहीं सकता है। वह जेनेरिक दवाएं ही लिखेगा और बेचेगा।

चिकित्सा आयोग ने आचार संहिता में ये प्रावधान किए

  •  पर्चे पर पंजीकरण संख्या लिखना अनिवार्य होगा
  •  उपचार शुल्क पहले बताना होगा
  • धर्म के आधार पर उपचार से इनकार नहीं कर सकेंगे
  •  नसबंदी मामले में पति/पत्नी की अनुमति लेनी होगी
  • मेडिकल छात्रों को बताना होगा कि वे डॉक्टर नहीं छात्र हैं

चिकित्सा विशेषज्ञ डॉ. सीएम गुलाटी कहते हैं कि इस प्रावधान का कोई मतलब नहीं क्योंकि सभी दवाएं जेनेरिक नहीं होती हैं। इसलिए जो दवाएं उपलब्ध होंगी वही डॉक्टर बेचेंगे। डॉक्टरों को अपने मरीजों को दवा बेचने की अनुमति पहले से है तथा इसमें कोई हर्ज नहीं है।

वहीं, वर्धमान महावीर कॉलेज के प्रोफेसर जुगल किशोर का कहना है कि डॉक्टरों को केमिस्ट की तरह दुकान नहीं चलाना चाहिए। लेकिन यदि वे अपने मरीजों को किफायती दवा लिखते हैं और खुद उपलब्ध भी कराते हैं तो इससे मरीजों का फायदा होगा।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

देवा गुर्जर की गैंगवार में हत्या, विरोध में रोडवेज बस में लगाई आग !

देवा गुर्जर हत्या का मुख्य आरोपी दुर्गा गुर्जर गिरफ्तार 3 साथी भी पकड़े गए

शराब के नशे में महिला सहित 4 लोगों ने किया तमाशा वीडियो वायरल

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक

छोटे भाई की पत्नी के साथ होटल में रंगरलियां मना रहा था पुलिसकर्मी, सिपाही पत्नी ने पकड़ा और कर दी धुनाई

हत्या पर हंगामा, देवा गुर्जर के समर्थकों ने फूंकी बस, मॉर्चरी के बाहर बरसाए पत्थर

आदर्श तापड़िया मर्डर: परिजनों से समझाइश का दूसरा दौर शुरू