मोबाइल पर गलत लिंक, वीडियो देख भाई-बहन ने वैसा ही किया, रिपोर्ट पर परिवार में खलबली

 मोबाइल बच्चों के लिए कभी-कभी घातक बन जाती है। भोपाल में एक परिवार के साथ ही ऐसा ही हुआ है। कामकाज दंपति ऑफिस जाने के दौरान बच्चों से संपर्क के लिए घर एक स्मार्ट फोन छोड़ कर जाते थे। घर में 2 बच्चे थे। बेटी सातवीं में और बेटा नौवीं क्लास में पढ़ाई करता है। स्कूल से लौटने के बाद दोनों घर में अकेले ही रहते थे। घर में छोड़ गए फोन पर लगातार गलत वीडियो को लिंक आ रहे थे।
पढ़ाई के बाद दोनों भाई-बहन उसी फोन पर गेम खेलते थे। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार मोबाइल पर कुछ गलत वीडियो के लिंक आएं। 1-2 बार बच्चों ने लिंक को इग्नोर किया। फिर उस पर क्लिक कर उस वीडियो को देखना शुरू कर दिया। वीडियो देखने के बाद नाबालिग भाई-बहन ने अनजाने में वैसा ही करना शुरू कर दिया। इस दौरान दोनों ने कई बार ऐसा किया। 

बच्ची की बिगड़ी तबीयत
स्थानीय अखबार की रिपोर्ट के अनुसार कुछ दिन पहले बच्ची की अचानक तबीयत बिगड़ गई। उसके बाद परिजन उसे अस्पताल ले गए। जहां डॉक्टरों ने उसकी जांच की। जांच की जो रिपोर्ट आई, उससे परिजनों के होश उड़ गए। जांच के दौरान बच्ची प्रेग्नेंट निकली। शुरू में तो परिजनों को यकीन नहीं हुआ। पूछताछ के दौरान सारी बातें सामने आई।

ये है मामला
दरअसल, भोपाल के एक इलाके में रहने युवक की पत्नी की मौत बेटे के जन्म के डेढ़ वर्ष बाद हो गई थी। उसके बाद युवक ने दूसरी शादी कर ली। दूसरी पत्नी से युवक को 13 साल की बेटी है। वह सातवीं में और सौतेला भाई नौवीं में पढ़ाई करता है। 10 दिन पहले जब बेटी की तबीयत बिगड़ने पर जांच हुई तो वह 8 महीने की प्रेग्नेंट निकली।

जून 2019 में आया था लिंक
रिपोर्ट आने के बाद परिजनों ने जब बच्ची से पूछताछ की तो पता चला कि जून 2019 में मोबाइल पर गेम खेलने के दौरान गलत वीडियो का लिंक आया था। गेम खेलने के दौरान फोन पर बार-बार नोटिफिकेशन आ रहा था। एक दिन दोनों ने उस पर क्लिक कर दिया। वीडियो देखने के बाद दोनों ने वैसा ही किया। 

नाबालिग भाई पर केस
बच्ची को लेकर परिजन शासकीय अस्पताल गए थे। कम उम्र में प्रेग्नेंसी रिपोर्ट के बाद अस्पताल प्रबंधन ने पुलिस को सूचना दे दी। पुलिस ने परिजनों और मासूमों की काउंसलिंग की है। पुलिस ने पॉक्सो एक्ट के तहत नाबालिग भाई पर एफआईआर दर्ज किया है।


टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना