गहलोत बोले- अफसरों को बदलने में एक मिनट लगेगा

 


जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कांग्रेस के एक्शन टेकन कैंप में कहा कि आज नेता पार्टी मेंबरशिप कराने को तैयार नहीं हैं। हमारे नेता लोग मेंबरशिप करवाने में रुचि नहीं ले रहे हैं। पब्लिक में ही वह माहौल नहीं है। कार्यकर्ता डिमोरलाइज है।

पहले नेता जिलों में जाकर काम करते थे, जिलों में जाकर मेंबरशिप करवाने बैठकें कराते थे। उन बैठकों में कार्यकर्ता बोलते हैं तो कमियां सामने आती हैं, उससे सुधार का मौका मिलता है, हमें कमियां क्या क्या हैं उस पर विचार करना होगा। सीएम ने अफसरशाही पर उठ रहे सवालों को लेकर कहा अफसर काम नहीं करेंगे तो बदलने में एक मिनट लगेगा।

राहुल गांधी की बात आंखें खोलने वाली है
गहलोत ने कहा- जनता से कनेक्शन खत्म हो गया, राहुल गांधी का यह शब्द आंखें खोलने वाला है। इंदिरा गांधी के वक्त भी हार हुई, लेकिन उस वक्त इंदिरा गांधी थी। ढाई साल बाद वापस इंदिरा गांधी राज में आ गई। कई उतार चढ़ाव आए। चिंतन करें तो आज और उस समय की हालत में बहुत अंतर है। आज हमें 100 गुना मेहनत करने की जरूरत है।

गहलोत ने कहा- चंद्रभानजी अभी कह रहे थे कि संगठन कमजोर है। वे राष्ट्रीय संदर्भ में कह रहे थे, सब जगह कांग्रेस की क्या हालत है, उससे आप वाकिफ है। जीत में हर कोई भागीदार बनना चाहता है, लेकिन हार का भागीदार कोई नहीं बनना चाहता।

अफसरों को लगता है कि सरकार बदलने वाली है तो मुंह फेर लेते हैं
गहलोत ने ब्यूरोक्रेसी हावी होने के मुद्दे पर खुलकर जवाब देते हुए कहा- वो तो परमानेंट लोग हैं, अफसर तभी साथ हैं, जब लगता है कि आप मजबूत हैं। ब्यूरोक्रेसी तो सवार देखती है, आप मजबूत हैं तो वो साथ हैं। जब अफसरों को लगता है कि सरकार जा रही है तो मुंह फेर लेते हैं। हमें जब लगेगा कि कोई अफसर निकम्मा है, करप्ट है तो एक मिनट लगेगा बदलने में।

विधायकों को सीबीआई-ईडी का नोटिस मिल गया
गहलोत ने कहा- सीबीआई, ईडी का दुरुपयोग हो रहा है। सोनिया गांधी को ईडी का नोटिस आ गया। आज वाजिब अली हमारे विधायक हैं, उन्हें ईडी का नोटिस आ गया। ओमप्रकाश हुड़ला को सीबीआई नोटिस आ गया, अभी टीवी पर चल रहा था। इतना आतंक मचा रखा है इन लोगों ने।

इधर, विधायकों की जासूसी शुरू चिंतन शिविर से इतर राज्यसभा चुनावों से पहले कांग्रेसी खेमे के नाराज विधायकों ने सियासी हलचल बढ़ा दी है। नाराज चल रहे विधायकों को मनाने के साथ डैमेज कंट्रोल का जिम्मा खुद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने संभाल लिया है।

विधायकों पर इंटेलिजेंस की निगरानी बढ़ा दी गई है। छह विधायकों पर इंटेलिजेंस और पुलिस की खास नजर है। इन विधायकों के मिलने-जुलने वालों तक पर निगाह रखी जा रही है। इससे राज्यसभा चुनावों से पहले एक बार फिर विधायकों की जासूसी का मुद्दा गर्मा सकता है।

सियासी क्राइसिस मैनेजमेंट का अनुभव रखने वाले पुलिस अफसर पर्दे के पीछे एक्ट‌िव
सचिन पायलट खेमे की जुलाई 2020 में हुई बगावत और इससे पहले जून 2020 में हुए राज्यसभा चुनावों में भी यही पैटर्न अपनाया गया था। बताया जाता है कि पॉलिटिकल क्राइसिस मैनेजमेंट का अनुभव रखने वाले पुलिस अफसर पर्दे के पीछे एक्टिव हो गए हैं। इंटीग्रेटेड रूप से निगरानी और क्राइसिस मैनेजमेंट शुरू कर दिया गया है। नाराज विधायकों को मनाने के लिए सीएम खुद सक्रिय हैं।

BJP समर्थक निर्दलीय कैंडिडेट सुभाष चंद्रा के कांग्रेसी खेमे के कुछ विधायकों से अच्छे रिश्ते हैं। सुभाष चंद्रा और BJP नेताओं ने कांग्रेसी खेमे के कुछ विधायकों से संपर्क किया है, जिसके बाद निगरानी तंत्र और मजबूत कर दिया गया है।

उधर कांग्रेस विधायकों की गुरुवार से उदयपुर में बाड़ेबंदी शुरू हो रही है। कुछ विधायक उदयपुर पहुंच गए हैं। कांग्रेस विधायक रफीक खान और सीएम के खास नेताओं ने कल ही उदयपुर पहुंचकर चिंतन शिविर वाले होटल ताज अरावली में बाड़ेबंदी की व्यवस्थाएं संभाल ली हैं। आज शाम तक जयपुर में चल रहे कांग्रेस के चिंतन शिविर पर एक्शन टेकन कैंप से विधायकों को सीधे उदयपुर ले जाया जाएगा।

बीटीपी के दो विधायक, तीन निर्दलीय ने कांग्रेसी खेमे की चिंता बढ़ाई
दो दिन पहले मुख्यमंत्री निवास पर मिलने के लिए नहीं पहुंचे तीन विधायकों के अलावा बीटीपी ​के दो विधायकों से संपर्क साधा गया है। बीटीपी के दोनों विधायकों ने अभी स्टैंड साफ नहीं किया है।

बीटीपी के विधायक आदिवासी को कांग्रेस से राज्यसभा उम्मीदवार नहीं बनाए जाने के मुद्दे के अलावा पहले के लंबित मुद्दों का समाधान नहीं होने से नाराज हैं। निर्दलीय बलजीत यादव, रमिला खड़िया भी अब तक नहीं माने हैं।

सुरेश टाक,बाबूलाल नागर बाड़ेबंदी से पहले उदयपुर पहुंचे
किशनगढ़ विधायक सुरेश टाक और सीएम के खास निर्दलीय बाबूलाल नागर बाड़ेबंदी से पहले ही उदयपुर पहुंच गए हैं। वहीं देर रात खुशवीर सिंंह जोजावर भी होटल पहुंच गए। सुरेश टाक और ओमप्रकाश हुड़ला सीएम से मिल चुके हैं, लेकिन इनके BJP के पुराने बैकग्राउंड को देखते हुए इन पर निगरानी रखी जा रही है। सुरेश टाक को इसीलिए पहले उदयपुर भेजा गया है।

नाराज विधायकों के पास सरकार पर प्रेशर बनाने का अंतिम मौका
राजनीतिक जानकारों के मुता​बिक सरकार से नाराज चल रहे कांग्रेस, निर्दलीय और बीटीपी विधायक अपने-अपने पैंडिंग कामों और मुद्दों की वजह से नाराज हैं। राज्यसभा चुनाव में इनके वोट चाहिए। इस सरकार के कार्यकाल में यह आखिरी राज्यसभा चुनाव है, इसलिए विधायक भी जानते हैं कि इसके बाद प्रेशर बनाने का इतना बेहतरीन मौका नहीं मिलेगा। नाराजगी जाहिर करने के पीछे यह भी एक बड़ा कारण है।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

देवा गुर्जर की गैंगवार में हत्या, विरोध में रोडवेज बस में लगाई आग !

देवा गुर्जर हत्या का मुख्य आरोपी दुर्गा गुर्जर गिरफ्तार 3 साथी भी पकड़े गए

कन्या हत्याकांड- भीलवाड़ा में साली की हत्या कर भागे जीजा ने एमपी में दी जान, मार कर मरुंगा का एफबी पर लगाया था स्टेटस

छोटे भाई की पत्नी के साथ होटल में रंगरलियां मना रहा था पुलिसकर्मी, सिपाही पत्नी ने पकड़ा और कर दी धुनाई

66वीं राज्य स्तरीय वॉलीबॉल प्रतियोगिता के सेमीफाइनल मैच कल , राजस्थान का गोल्डमैन व समाजसेवी कन्हैया लाल खटीक आएंगे

प्रोसेस हाउस की बस की टक्कर से ऑटो मोबाइल कंपनी के मैनेजर की मौत

बेटे का आरोप-ब्लैकमेलिंग से परेशान था मोहम्मद रईस, विषाक्त सेवन कर शिकायत देने गया था एसपी ऑफिस