वीकेंड कफ्र्यू कम लॉकडाउन: सुनसान सड़कें, सन्नाटा तोड़ती वाहनों की आवाजाही, कहीं सख्ती तो कहीं सुस्ती

 

भीलवाड़ा (संपत माली/विजय गढ़वाल)। कोरोना के तेजी से बढ़ रहे संक्रमण को रोकने के प्रयास की कड़ी में राजस्थान में शुक्रवार शाम 6 से सोमवार सुबह 5 बजे तक कफ्र्यू लगा है। भीलवाड़ा में आवश्यक सेवाओं को छोड़कर सब कुछ बंद है। सड़कें सुनसान पड़ी हैं। आते-जाते वाहनों का शोर इस सन्नाटे को चीर रहा है।
भीलवाड़ा में शुक्रवार शाम पांच बजे बाजार बंद हो गए और 6 बजे से कफ्र्यू लागू हो गया। शनिवार को पुलिस प्रशासन कफ्र्यू की पालना कराने को सख्त दिखा। हालांकि कई स्थानों पर सुस्ती भी नजर आई। कहीं-कहीं लोग सड़कों पर घूमते दिखाई दिए लेकिन उन्हें रोकने-टोकने के लिए पुलिस कहीं नहीं दिखी। लोग अस्पताल, बैंक व पेट्रोल पंप जाने के लिए निकले। दुकानें बंद रहीं। सरकार ने नई गाइडलाइन में रेस्टोरेंट्स से रात 8 बजे तक टेक अवे की अनुमति दी लेकिन शुक्रवार को पुलिस ने शाम 6 बजे ही रेस्टोरेंट बंद करवा दिए जिससे कई लोगों को खाने के लिए परेशान होते देखा गया।
दूध व अस्पताल के बहाने निकले लोग
कफ्र्यू के दौरान पुलिस ने रोका तो कई लोग दूध लेने या अस्पताल जाने का बहाना बनाने लगे। पुलिस ने उन्हें बेवजह घर से नहीं निकलने की हिदायत देते हुए जाने दिया।

पुलिस ने बनाए चालान
बेवजह घरों से निकले लोगों के पुलिस ने चालान भी बनाए। नाकाबंदी कर वाहन चालकों को रोका गया और पूछताछ की गई। वाजिब कारण बताने पर ही उन्हें आगे जाने दिया गया। पांसल चौराहा, रोडवेज बस स्टैंड के बाहर सहित शहर के अनेक स्थानों पर नाकाबंदी की गई है। आने-जाने वालों को रोका जा रहा है। पूछताछ के बाद ही उन्हें आगे जाने दिया जा रहा है। बसों व ट्रेन से आए यात्रियों को टिकट दिखाने पर जाने दिया गया। बाहर से आए यात्रियों को टेंपो व अन्य साधनों के लिए परेशान होते देखा गया।

Popular posts from this blog

भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव : भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 22 और निर्दलीय ने जीती 17 सीटें, बोर्ड के लिए जोड़ तोड़

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !