सन्त पोस्टर देख भडके हिन्दूवादी संगठन

 

अजमेर। सूफी संत ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती की दरगाह शरीफ के पास पन्नीग्राम चौक के मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र में असामाजिक तत्वों ने सडकों पर कई जगह संत नरसिंहानंद सरस्वती के फोटो लगे विवादित पोस्टर चस्पा कर दिए। यह मामला जानकारी में आने के बाद स्थानीय हिंदुवादी संगठनों ने जमकर विरोध किया। दरगाह थाना पुलिस ने भी तत्परता पूर्वक कार्यवाही करते हुए पोस्टरों को हटा दिया।

इस बीच विश्व हिंदू परिषद के विभाग मंत्री एडवोकेट शशिप्रकाश इंदौरा ने पुलिस से पोस्टर चिपकाने वाले तथा माहौल को खराब करने वाले लोगों पर कार्यवाही की मांग की है और कहा है कि पुलिस सीसीटीवी कैमरे के आधार पर ऐसा कृत्य करने वालों को सामने लाए और सजा दे।

उन्होंने कहा कि हिन्दू समाज अजमेर की पावन धरती पर अपने साधु संतों का अपमान बर्दाश्त नहीं करेगा। पूज्य संतों को सर कलम करने की धमकी देने वालों पर कानूनी शिकंजा कसना ही चाहिए। सौहार्द बिगाडने वालों की गिरफ्तारी होने तक हम चैन से नहीं बैठेंगे।

तुलसी सोनी ने कहा कि शांति प्रिय शहर में सभी मिलजुल कर रहते हैं लेकिन कुछ समाजकंटकों की इस हरकत को माफ नहीं किया जाना चाहिए। इस प्रकार के तत्वों के कारण माहौल बिगड सकता है। उन्होंने कहा कि ​योजनाबद्ध तरीके से शरारती तत्वों ने डिग्गी चौक, पन्नी ग्राम चौक समेत कई जगहों पर ये पोस्टर चस्पा किए हैं।

Popular posts from this blog

भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव : भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 22 और निर्दलीय ने जीती 17 सीटें, बोर्ड के लिए जोड़ तोड़

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !