इन्दिरा रसोई योजना का शुभारम्भ 20 को

 

चित्तौड़गढ़। जिला कलक्टर के.के. शर्मा ने बुधवार को जिला ग्रामीण विकास अभिकरण सभागार में मुख्यमंत्री के संकल्प से प्रारम्भ होने वाली कोई गरीब भूखा न सोए इन्दिरा रसोई योजना का शुभारम्भ 20 अगस्त (गुरूवार) को होगा इस संबंध में पत्रकारों से  वार्ता की।


जिला कलक्टर के.के. शर्मा ने बताया कि इन्दिरा रसोई योजना जिले में एक नगरपरिषद एवं 5 नगर पालिकाओं में चिन्ह्ति जगहों पर संचालित होगी।  चित्तौड़गढ़ नगर परिषद क्षेत्र में तीन एवं कपासन, बड़ीसादड़ी, निम्बाहेड़ा, बेगूं एवं रावतभाटा नगर पालिकाओं क्षेत्र में एक-एक रसोई संचालित होगी। उन्होंने बताया कि ‘‘कोई गरीब भूखा न सोए‘‘ वाली इन्दिरा रसोई योजना के तहत गरीब व्यक्ति को एक जगह सम्मानपूर्वक बैठाकर 8 रुपये में थाली में अच्छी गुणवत्ता वाला भोजन उपलब्ध कराया जाएगा।


उन्होंने बताया कि रसोई योजना में भोजन का मेन्यू दाल, सब्जी, रोटी व अचार होगा। दोपहर के भोजन का समय प्रातः 8.30 बजे से दोपहर एक बजे तक तथा रात्रि भोजन का समय सायं 5 बजे से रात्रि 8 बजे तक रहेगा। 


इन्दिरा रसोई योजना में कोई भी व्यक्ति जन्मदिन, वर्षगाठ या पुण्यतिथि पर अपनी तरफ से निर्धारित राशि जमा कराकर भोजन करवा सकता है। इन्दिरा रसोई योजना के तहत निरीक्षण एवं भोजन के गुणवत्ता की जांच जिला स्तरीय समिति द्वारा की जाएगी। उन्हांने बताया कि लाभार्थी से 8 रुपये एवं राज्य सरकार द्वारा प्रति थाली 12 रुपये अनुदान दिया जाएगा। 


नगर परिषद के सभापति संदीप शर्मा ने कहा कि राजस्थान के मुख्यमंत्री माननीय मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के संकल्प को ‘‘कोई भी गरीब भूखा न सोए‘‘ इन्दिरा रसोई योजना के द्वारा आगे बढ़ाया है। इसमें सस्ता व गुणवत्ता वाला भोजन मिलेगा। उन्होंने बताया कि नगर परिषद में रसाई का संचालन रोड़वेज बसस्टेण्ड, सांवलियाजी चिकित्सालय परिसर एवं चन्देरिया में सामुदायकि भवन में होगा, जहां आमजन एवं गरीब व्यक्ति आसानी से पहुंच सकता है। 


अतिरिक्त जिला कलक्टर (प्रशासन) मुकेश कुमार कलाल ने भी इन्दिरा रसोई योजना के बारे में मीडिया कर्मियों को जानकारी दी। पत्रकार वार्ता के दौरान मीडिया कर्मियों ने इन्दिरा रसोई योजना के संबंध में अपने-अपने सुझाव दिए। 


इस दौरान कोषाधिकारी भागीरथ सिंह लखावत, नगर परिषद आयुक्त दुर्गा कुमारी, सहित मीडियाकर्मी मोजूद थे।



टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

देवगढ़ से करेड़ा लांबिया स्टेशन व फुलिया कला केकड़ी मार्ग को स्टेट हाईवे में परिवर्तन करने की मांग