मंगरोप में तीस वर्षों में पहली बार नहीं होगा रावण दहन

मंगरोप (मुकेश खटीक) पिछले 30 वर्षों से चली आ रही रावण दहन की परम्परा को ग्रामीणों ने कोविड-19 महामारी के चलते पहली बार स्थगित कर दिया है।रावण दहन सेवा समिति के अध्यक्ष प्रेम सुख खटीक ने हलचल को बताया कि वैसे तो कस्बे में रावण दहन पिछले 30 वर्षों से होता आ रहा है लेकिन पिछले 7 वर्षों से रावण दहन का कार्यक्रम मेरी अध्यक्षता में पूर्ण हो रहा है।प्रति वर्ष दशहरे पर रावण का करीब 25 फीट,कुंभकर्ण व मेघनाथ के 10 फीट के पुतले बनवाते है और रावण दहन का आयोजन हमीरगढ़ रोड पर राम नगर दशहरा मैदान(फुटबॉल ग्राउंड)में किया जाता है।लेकिन इस बार कोविड-19 ने जिस तरह से देश और प्रदेश में मौत का तांडव किया है इसे देखते हुए रावण दहन का कार्यक्रम स्थगित करना पड़ा।कोविड-19 की वैक्सीन आने तक मास्क ही बचाव है।


टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना