स्वराज संदेश संवाद पदयात्रा 23 सितम्बर को पहुँचेगी शाहपुरा

 


शाहपुरा, मूलचन्द पेसवानी ।  स्वराज संवाद की दिशा में "आचार्य विनोबा भावे जयंती" 11 सितंबर 2022 से स्वराज संदेश संवाद पदयात्रा, बांसवाड़ा से जयपुर तक आयोजित होने जा रही है, जो "महात्मा गाँधी जयंती" 02 अक्टूबर को "स्वराज संकल्प - आग्रह सम्मेलन "के रूप में पूर्ण होगी। वागधरा द्वारा आयोजित इस यात्रा का प्रमुख उद्देश्य है “आदिवासी व आदिवासी क्षेत्र की जीवनशैली में स्वराज की विचारधारा को स्वराज के संभावित मॉडल, विभिन्न सम्बधित मुद्दों के संभावित समाधान के साथ-साथ व्यक्तियों एवं संगठनों की सफलता की कहानियों को यात्रा के माध्यम से उजागर करना ताकि अन्य समुदाय के सदस्य सकारात्मकता के साथ प्रेरित हो सकें ।”
वागधरा सचिव जयेश जोशी ने बताया कि वर्तमान परिप्रेक्ष्य में विकास के सही उदाहरण, स्वराज तथा स्वराज द्वारा समाधान को समाज और समुदाय के बीच में प्रतिस्थापित करने के क्रम में स्वराज की गतिविधियों को चर्चा में लाकर समाज की सभी पीढ़ियों का परिवारों के साथ, समाज का सरकार के साथ, समाज के प्रत्येक स्तर पर आपसी संवाद, तथा प्रकृति का प्राणी मात्र के साथ संवाद को पुनः स्थापित करने की आवश्यकता है। हमारा आग्रह सरकार के साथ भी होगा की ऐसी नीतियों व ऐसी परिस्थितियों का निर्माण हो जिसमें स्वराज स्वतः फल-फूल सकें, सशक्त हो सकें और मजबूत हो सकें।

गाँधी दर्शन समिति के अविनाश शर्मा ने बताया कि राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी जी के स्वराज के सपने के विरुद्ध आज व्यापारोन्मुख नीतियों के कारण देश में संकटग्रस्त, वंचित एवं आदिवासी समुदाय अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ते हुए अपनी परम्पराओं को बचाने की जुगत में लगा हुआ है । स्वराज को सही मायने में जीते हुए आदिवासी व कृषक समुदाय ने सदियों से आज तक प्राकृतिक संसाधनों का प्रतिरक्षण किया है तथा जीवन मूल्यों को समाज के लिए जीवित रखा है। आजादी के 75 वर्ष के पश्चात् भी ये अति दुखद है कि प्रकृति के रक्षक, अन्नदाता तथा हमारी ग्रामीण संस्कृति के संवाहक आज भी बुनियादी खुशियों तथा स्वस्थ विकास से वंचित है।

सच्चे स्वराज की संकल्पना को साकार करने हेतु आयोजित यह स्वराज सन्देश संवाद पदयात्रा 23 सितम्बर को शाम को लगभग 6 बजे शाहपुरा पहुँचेगी। यात्रा शहर में सर्वप्रथम गाँधी स्मारक पहुँचेगी, जहाँ पर प्रार्थना सभा का आयोजन किया जायेगा, इसके बाद यात्रा अम्बेडकर स्मारक पर पुष्प अर्पित करने के बाद, अमर शहीद बारहठ त्रिमूर्ति स्मारक पर शहीदों को नमन करेगी। यात्रा शहर के मुख्य बाज़ार से गुजरेगी जिसका बालाजी की छतरी स्थित कांग्रेस कार्यालय पर कांग्रेसजन पुष्पवर्षा कर स्वागत करेंगे। यात्रा 23 सितम्बर को रात्रि विश्राम गाँधी फार्म फुलियागेट पर करेगी। सोमेश्वर व्यास ओर आलोक व्यास की ओर से यात्रा के रात्रि विश्राम की निशुल्क व्यवस्था की गयी है। 

इस दौरान यात्रा में वाग्धारा के सुदीप शर्मा, परमेश पाटीदार, पी. एल. पटेल, माजिद खान, गिरीश नागर सहित सैकड़ों पुरुष व महिलायें साथ रहेंगी। सभी ने शहरवासियों से अपनी भागीदारी निभाते हुए देश तथा समाज के प्रति अपने दायित्वों का निर्वहन कर, इस यात्रा व सम्मेलन को सफल बनाने की अपील की हैं।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

देवगढ़ से करेड़ा लांबिया स्टेशन व फुलिया कला केकड़ी मार्ग को स्टेट हाईवे में परिवर्तन करने की मांग