अर्ध चेटीचण्ड पर झूलेलाल मंदिर में हुआ ध्वजारोहण

 


भीलवाड़ा (पि‍ंकू खोतानी)। शहर में आज सिंधी समाज ने आराध्यदेव भगवान झूलेलाल का अर्ध वार्षिक अर्ध चेटीचण्ड पूर्ण आस्था और श्रद्धा से मनाया दो दिवसीय अर्ध चेटीचण्ड (असु चण्ड) के दूसरे दिन आज शाम की सब्जी मंडी स्थित झूलेलाल मंदिर में हरी शेवा धाम के संत राजाराम, निम्बार्क आश्रम के महंत मोहन शरण शास्त्री, महंत गोपालदास, पंडित नवीन शर्मा, कमल शर्मा, भाजपा जिलाध्यक्ष लादुलाल तेली, रमेश सभनानी, पार्षद ओम साईं राम, पूर्व सभापति लक्ष्मी नारायण डाड, मंजू पोखरना, मंघाराम भगत, किशोर सोनी, इंदु बंसल, चेलाराम लखवानी, विनोद झुरानी,  कैलाश कृपलानी, जितेंद्र दरियानी, नवीन सभनानी, अशोक टहिलानी, हेमनदास भोजवानी, कमल हेमनानी, हीरालाल गुरनानी, हरीश राजवानी, गुलशन विधानी, राजू दरियानी आदि ने ध्वज की विधिवत पूजार्चना कर ध्वजारोहण किया। इससे पूर्व अतिथियों ने भगवान झूलेलाल की प्रतिमा का दूध व पंचामृत से अभिषेक भी किया।

बहिराणा साहब की स्थापना कर पवित्र ज्योति प्रज्ज्वलित की गई। कार्यक्रम के अंत में महाआरती की गई। बाद में अजमेर की शहनाई की स्वर लहरियों पर पुष्प वर्षा के बीच छेज खेला गया। शेवाधारियों ने आयोलाल-झूलेलाल के नारों पर आकर्षक नृत्य भी किया।

कार्यक्रम में लक्ष्मण लालवानी, दशरथ मेहता, भगवान उत्तमचंदानी, बाबूलाल शर्मा, गोविन्द मनकानी, अम्बा लाल नानकानी, सुरेश भोजवानी, राजू छतवानी, हरीश राजवानी, रमेश पमनानी, हनुमान लखवानी, किशोर पारदासानी, घनश्याम मोतियानी, दीपक शर्मा, वासुदेव मोतियानी, मंगलदास, कमलेश मेठाणी, धर्मेंद्र नागवानी, बल्लू चंदानी, ओम बाबानी, अशोक धीरवानी सहित बड़ी संख्या में सिंधी समाजजन मौजूद थे।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

डॉक्टरों ने ऑपरेशन के जरिये कटा हुआ हाथ जोड़ा