रेलवे स्टेशन पर क्रान्तिकारी बारहठ त्रिमूर्ति प्रदर्शनी का लोकार्पण

 


भीलवाड़ा । रेलवे स्टेशन पर क्रान्तिकारी बारहठ त्रिमूर्ति प्रदर्शनी का लोकार्पण कि‍या गया। इस अवसर पर समस्त अतिथियों का शहीद प्रताप सिंह बारहठ संस्थान के सदस्यों द्वारा- उपरणा, शॉल, पाग, स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मान किया गया।  कार्यक्रम का शुभारम्भ वन्देमातरम से हुआ। संस्थान सचिव कैलाश जाड़ावत ने संचालन करते हुए भारतीय रेल और अमृतमहोत्सव में लगाई शहीद प्रदर्शनी की जानकारी दी। पूर्व प्राचार्य  रविकांत सनाढ्य ने स्वागत उद्बोधन दिया।  रेलवे अधिकारी  दिनेश शर्मा ने DRM का सन्देश सुनाया।

इस अवसर पर अतिथिगण जगदीश  मानसिंगका, एलएनजे ग्रुप के ओएसडी रजनीश वर्मा, भाजपा जि‍लाध्‍यक्ष लादूलाल तेली, कपिल देवल, वीरचक्र विजेता शहीद देवपाल देवल के भतीजे स्टेशन अधीक्षक दिनेश शर्मा, गोर्धन काछवा (मु वा निरक्षक) गजेंद्र चौधरी, बद्री लाल सोमाणी प्रान्त प्रमुख व  भूतपूर्व सेना के अधिकारी गण मौजूद थे।
 
एलएनजे ग्रुप के ओएसडी रजनीश वर्मा ने रिजु झुनझुनवाला की ओर से प्रताप सिंह बारहठ संस्थान के आयोजनों में  सहयोग देने की बात रखी। भाजपा जिला अध्यक्ष लादू लाल  तेली ने बारहठ क्रान्ति वीरो का स्मरण किया और कहा कि आने वाले दिनों में भीलवाड़ा में भी एक शहीदो पर शौर्य दीर्घा बने  ऐसा प्रयास रहेगा।
 सभी अतिथियों ने शहीद बारहठ क्रांतिवीरों के पोस्टर चित्रप्रदर्शनी का लोकार्पण किया। पार्षद मधु शर्मा ने सभी का आभार व्यक्त किया और कहा कि  मेरे वार्ड में शहीदो के स्मारक है उन्हें ,सौन्दर्यकरण करवाने हेतु में प्रयासरत हूं।  समापन के बाद अल्पहार किया। भीलवाड़ा रेलवे स्टेशन पर बारहठ वीर शहीदो के चित्रप्रदर्शनी लगवाकर रेलमंडल अजमेर को रिपोर्ट प्रस्तुत कीगई।
समारोह में, जगदीश शर्मा, जगजितेंद्र सिंह, सूर्यप्रताप देथा, बाबूलाल सेन,नरायण दत्त शर्मा विशन सिंह नथवत विन्ध्या राम फतह सिंह लोढ़ा, sk लाहोनी, लोकेश आढा,  रतन सिंह चरण  उदयपुर से महेंद्र सिंह चारणत्व शाहपुरा से सुरेश घूसर, रामप्रसाद सेन ओर बारहठ की जन्मस्थली देवखेड़ा से बसन्त वैष्णव उपस्थित थे सभा मे भूतपूर्व सैनिक परिषद के  सदस्यगण को उपरणा व स्मृति चिन्ह से सम्मानित किया।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

डॉक्टरों ने ऑपरेशन के जरिये कटा हुआ हाथ जोड़ा