4 टीचर को 7 साल की सजा, सहकर्मी शिक्षका से करते थे अश्लील बातें, तंग आकर दी थी जान


 अलवर जिले में एक शिक्षका की आत्महत्या के मामले में अदालत ने अपना फैसला सुनाया। अदालत ने मृतका की आत्महत्या के लिए उसके साथी चार शिक्षकों को उसकी सुसाइड का दोषी पाया। सभी को 7-7 साल की सजा सुनाई गई है। सजा पाने वालों में एक महिला शिक्षका भी शामिल है। अदालत ने यह फैसला महिला के सुसाइड नोट के आधार पर दिया है। आरोप था कि आरोपी महिला से अश्लील बातें करते थे। साथ ही उसे लगातार मानसिक रूप से प्रताड़ित कर रहे थे। 
जानकारी के अनुसार मामला शहर के बीरनवास गांव का है। 22 दिसंबर 2014 को बीरनवास गांव के श्यामलाल (69) ने मांढण थाने में एक केस दर्ज कराया था। अपनी रिपोर्ट में उन्होंने पुलिस के बताया कि उनका बेटा सेना में है। उनके बेटे की बहू चेतन शर्मा (31) एक निजी स्कूल में पढ़ाती थी। इस दौरान स्कूल के अन्य टीचर राजबाला यादव, सुनील बसवाल, यशपाल और ज्योति उसे मानसिक रूप से प्रताड़ित करते थे।उसके साथ अश्लील बातें किया करते थे, जिससे वह परेशान थी। उसने इस बातों के बारे में घर में जानकारी दी थी। आरोपियों ने उसे इतना परेशान किया कि उसने आत्महत्या कर ली। बता दें कि पुलिस मृतका के कमरे से एक सुसाइड नोट भी बरामद था। सात साल चली सुनवाई के बाद अदालत ने चारों शिक्षकों को महिला की मौत का दोषी पाया। जिसके बाद शुक्रवार को सभी को सात-सात साल की सजा सुनाई। 

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

मुंडन संस्कार से पहले आई मौत- बेकाबू बोलेरो की टक्कर से पिता-पुत्र की मौत, पत्नी घायल, भादू में शोक

जहाजपुर थाना प्रभारी के पिता ने 2 लाख रुपये लेकर कहा, आप निश्चित होकर ट्रैक्टर चलाओ, मेरा बेटा आपको परेशान नहीं करेगा, शिकायत पर पिता-पुत्र के खिलाफ एसीबी में केस दर्ज

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार