आने-जाने वाले प्रवासियों की मदद के लिए कमेटी गठित, टीना डाबी को बनाया नोडल अधिकारी 

भीलवाड़ा हलचल। नोवल कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने के रोकने के लिए सरकार द्वारा लागू किये गये लॉकडाउन के बीच भीलवाड़ा के प्रवासी लोग और श्रमिक जो ऑन लाइन पंजीकृत है, उन्हें गंतव्य स्थान तक पहुंचाने, परिवहन और स्वीकृति जारी करने को लेकर एक कमेटी का जिला कलेक्टर राजेंद्र भट्ट ने गठन किया है। इसमें प्रशासन, पुलिस, चिकित्सा और परिवहन विभाग के अधिकारियों को शामिल किया गया है। 
आदेश में बताया गया है कि लॉक डाउन अवधि में भीलवाड़ा के प्रवासी लोग और श्रमिक अन्य जिलों और राज्यों में निवासरत है और यहां आने के इच्छुक है तथा यहां रह रहे अन्य जिलों व प्रदेशों में रहने वाले श्रमिक और प्रवासी व्यक्ति जो यहां से जाने के इच्छुक है, जिन्होंने ई-मित्र पोर्टल पर स्वयं या ई-मित्र के जरिये ऑन लाइन पंजीकृत करवाया है, उन्हें गंतव्य स्थान पर सुगमता से पहुंचाने के लिए परिवहन संबंधी  एवं स्वीकृति जारी करने को लेकर इस कमेटी का गठन किया गया है। 
कमेटी में नोडल अधिकारी एसडीएम टीना डाबी को बनाया गया है। डाबी, ऐसे लोगों को गंतव्य तक पहुंचाने के लिए निजी एवं सशुल्क उपलब्ध करवाये जाने वाले वाहनों के पास जारी करेंगी। साथ ही जिले में आने वाले प्रवासी और श्रमिकों को 14 दिन के लिए क्वारैंटीन करवायेंगी। इसके अलावा प्रवासी श्रमिकों और व्यक्तियों के आवागमन के लिए संबंधित अधिकारियों से संपर्क व समन्वय स्थापित कर समुचित व्यवस्था सुनिश्चित करेंगी। 
कमेटी में बतौर सदस्य डीएसपी राहुल जोशी को शामिल किया गया है। जोशी, श्रमिकों और प्रवासियों के आवागमन के दौरान चेकपोस्ट पर शांति एवं कानून व्यवस्था बनाये रखने के लिए संबंधित अधिकारी से संपर्क एवं समन्वय स्थापित कर समुचित पुलिस जाब्ता उपलब्ध करवायेंगे। इसी तरह सदस्य सचिव डीटीओ वीरेंद्र सिंह राठौड़ को बनाया गया है। वे, परिवहन के लिए सशुल्क बस व अन्य वाहन की व्यवस्था करेंगे। कमेटी सदस्य डॉ. सीपी गोस्वामी कोविड 19 नेगेटिव रिपोर्ट, स्वास्थ्य परीक्षण, स्क्रीनिंग की व्यवस्था करेंगे। इसके अलावा कैलाशचंद्र शर्मा व रोबिन्स धाकड़ को भी सदस्य मनोनीत कर जिम्मेदारी सौंपी गई है। 


 


टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना