अब गुजरात से भीलवाड़ा आया कोरोना, महिला सहित 4 संक्रमित, कोई बैच रहा था पोहे और कोई ईस्त्री करता था


भीलवाड़ा राजकुमार माली। भीलवाड़ा शहर में कोरोना संक्रमण लगभग काबू में हैं, लेकिन ग्रामीण इलाकों से संक्रमित तेजी के साथ सामने आ रहे हैं। हालांकि ऐसे लोग रहने वाले इन ग्रामीण इलाकों से हैं, लेकिन वे अन्य प्रदेशों में काम-धंधा कर रहे थे और वहीं से लौटकर आ रहे हैं। ऐसे ही एक महिला सहित चार और लोग आज संक्रमित पाये गये। जिले के रायपुर, रायला और करेड़ा क्षेत्र के ये लोग गुजरात में थे और चंद दिनों पहले ही लौटे थे। इनमें से कोई पोहे का ठेला तो कोई कपड़ों पर ईस्त्री तो कोई कमठाने पर मजदूरी कर रहा था।  चार नये संक्रमितों के आने के बाद यहां संक्रमितों की संख्या बढ़कर 43 तक पहुंच गई। वहीं बढ़ती संख्या को लेकर चिकित्सा महकमा भी सकते में है। 
चिकित्सा विभाग के सूत्रों के अनुसार, चार दिन पहले आमदला के दो लोग संक्रमित पाये गये थे। ये दोनों सूरत से आये थे। इसके बाद भीलवाड़ा में शांति थी, लेकिन शुक्रवार को चार दिन बाद फिर आज 4 नये संक्रमित सामने आने से चिकित्सा महकमा सकते में आ गया। इनमें एक महिला भी शामिल बताई जा रही है। अब तक जो नाम सामने आये हैं, उनके अनुसार, करेड़ा क्षेत्र के गोमा का बाडिय़ा का विनोद प्रजापत और सेणूंदा की मीना प्रजापत, रायला के छीपों का बाड़ा का जगदीश धोबी और कुम्हारों का मोहल्ला रायपुर निवासी गोपाल प्रजापत शामिल हैं। उधर, इन 4 नये संक्रमितों के साथ ही भीलवाड़ा में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 43 तक पहुंच गई।  उधर, गोपाल प्रजापत और विनोद प्रजापत दोनों कोरेंटाइन सेंटर में है, जबकि मीना और जगदीश होम आइसोलेट हैं। ये चारों गुजरात के अहमदाबाद में काम करते थे और पिछले दिनों ही लौटकर आये थे।


कांकरिया पार्क के बाहर विनोद लगाता था पोहे का ठेला
गोमा का बाडिय़ा निवासी संक्रमित विनोद प्रजापत, अहमदाबाद के सबसे बड़े पर्यटक स्थल कांकरिया पार्क के बाहर पोहे का ठेला लगा रहा था। उसके साथ खेमाणा रायपुर निवासी सेठ कैलाश भी था। दोनों दो मई को बाइक से वहां से रवाना हुये और 4 मई को अपने गांव लौटे। इसके बाद विनोद ने कोरोना जांच करवाई, जिसमें वह आज पॉजिटिव पाया गया।


 अहमदाबाद से 2 बाइक पर आये थे 8 लोग 
संक्रमित पाये गये लोगों में शामिल गोपाल प्रजापत ने हलचल को बताया कि वह अहमदाबाद में टाइल फिटिंग कार्य करता था। वहां से वह अपनी पत्नी 2 बच्चों व कैलाश प्रजापत सहित 8 लोगों के साथ दो बाइक से 2 मई को वहां से रवाना हुआ था और 3 मई को अपने गांव पहुंचा था।  


कमठाना पर करते थे मजदूरी 
मीना प्रजापत के भानजे किशन ने हलचल को बताया कि वह, उसकी मौसी मीना, इसकी बेटी डिंपल, खुशी अहमदाबाद के प्रेमनगर में रहकर कमठाना पर मजदूरी करते थे। 4 मई को कार से चारों लोग अहमदाबाद से अपने गांव पहुंचे थे। इनके अलावा साथ में काम करने वाला लादू प्रजापत, कमलेश, अनिल, यशोदा, सुमित्रा सहित 6 लोग दो अन्य बाइक से यहां आये थे। इन सभी को वहां से लौटने के बाद करेड़ा ले जाया गया। जहां से इन्हें भीलवाड़ा लाकर सैंपलिंग करवाई गई। इस जांच में मीना संक्रमित पाई गई।


धोबी का करते थे काम, परिवार सहित लौटे कार से 
जगदीश धोबी का कहना है कि वह अहमदाबाद के सहारन में रहकर धोबी का कार्य करता है। करीब डेढ़ माह से वहां काम-काज बंद है। ऐसे में 5 मई को वह, पत्नी, दो बेटियों व बेटे के साथ इको कार से भीलवाड़ा आया था और यहां जांच करवाई थी। 


कोरोना से गांवों में फैली दहशत
शहर के बाद अब ग्रामीण इलाकों में कोरोना की दस्तक ने आमजन में दहशत फैला दी है। शुक्रवार को करेड़ा, रायपुर और रायला इलाके के एक महिला सहित चार लोग कोरोना संक्रमित पाये गये। इसके बाद इन संक्रमितों के गांवों में ही नहीं, बल्कि आस-पास के इलाकों में भी दहशत फैल गई। वहीं पुलिस ने इन संक्रमितों के निवास स्थान वाले इलाकों को सील करवाने की कार्रवाई शुरू कर दी।  


 


टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना