बंद करें बिल्लियों को चूमना, बिना लक्षण दिखे हो रहीं कोरोना संक्रमित

दिल्ली ।एक लैब एक्सपेरिमेंट से पता चला है कि बिल्लियाँ नए कोरोना वायरस को अन्य बिल्लियों में फैला सकती हैं। इस स्थिति में उनमें किसी प्रकार के लक्षण न दिखना भी संभव है। बुधवार को ये रिपोर्ट देने वाले वैज्ञानिकों  ने कहा है कि यह इस बात पर अधिक शोध की आवश्यकता है कि क्या वायरस लोगों से बिल्लियों में फैल सकता है।


स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने उस संभावना को कम ही बताया है। अमेरिकन वेटरनरी मेडिकल एसोसिएशन ने एक नए बयान में कहा कि सिर्फ इसलिए कि किसी जानवर को जानबूझकर एक लैब में संक्रमित किया जा सकता है "इसका मतलब यह नहीं है कि यह प्राकृतिक परिस्थितियों में आसानी से उसी वायरस से संक्रमित हो जाएगा।" वायरस विशेषज्ञ पीटर हॉफमैन ने कहा कि उस जोखिम के बारे में चिंतित किसी व्यक्ति को "सामान्य स्वच्छता" रखना चाहिए।


उन्होंने कहा कि अपने पालतू जानवरों को किस न करें। विस्कॉन्सिन स्कूल ऑफ वेटरनरी मेडिसिन विश्वविद्यालय में उन्होंने और उनके सहयोगियों ने लैब एक्सपेरिमेंट का नेतृत्व किया और न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन में बुधवार को परिणाम प्रकाशित किए। संघीय अनुदान ने काम के लिए भुगतान किया।शोधकर्ताओं ने एक मानवों से कोरोना वायरस लिया और तीन बिल्लियों को इससे संक्रमित किया। प्रत्येक बिल्ली को तब दूसरी बिल्ली के साथ रखा गया था जो संक्रमण से मुक्त थी। पांच दिनों के भीतर, नए जानवरों के तीनों में कोरोना वायरस पाया गया।छह बिल्लियों में से किसी में भी कभी कोई लक्षण नहीं दिखा था। हाफमैन ने कहा, "कोई छींक नहीं थी, कोई खांसी नहीं थी, उनके शरीर का तापमान कभी कम नहीं हुआ और न ही उनका वजन कम हुआ। अगर एक पालतू जानवरों के मालिक ने उन्हें देखा होता तो उन्हें कोई फर्क नहीं दिखता।" पिछले महीने, न्यूयॉर्क राज्य के विभिन्न हिस्सों में दो घरेलू बिल्लियां सांस की थोड़ी दिक्कत के बाद कोरोना वायरस पॉजिटिव पाई गईं। उन्होंने सोचा था कि ये संक्रमण उनमें अपने घरों या आस-पड़ोस के लोगों से फैला होगा। ब्रोंक्स चिड़ियाघर के कुछ बाघों और शेरों को भी कोरोना वायरस पॉजिटिव पाया गया है।


टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना