भीलवाड़ा -दो भाइयों ने दी जान, एक पेड़ से झूला, दूसरे ने कुएं में लगाई छलांग, कांदा में शोक

 भीलवाड़ा हलचल। जिले के कांदा गांव में दो भाइयों ने मंगलवार को खुदकुशी कर ली। एक भाई खेत पर पेड़ से फंदा लगाकर झूल गया, जबकि दूसरे ने कुएं में कूद कर जान दी। इस घटना से गांव में शोक की लहर दौड़ गई। खुदकुशी के कारण अभी सामने नहीं आये हैं। 
सदर थाना पुलिस ने बताया कि कांदा गांव निवासी नंदा गुर्जर के चार बेटे जोधा (35), राधेश्याम (28) व दो इनसे छोटे शंकर व किशन चारों गांव  में एक ही मकान में साथ रहते हैं। ये चारों भाई सोमवार रात खाना खाने के बाद मकान में सो गये।
मंगलवार सुबह करीब साढ़े छह बजे इन भाइयों की नींद खुली तो उन्हें सबसे बड़ा भाई जोधा घर पर नजर नहीं आया। घर पर तलाश की, लेकिन नहीं मिला। इसके बाद जौधा को ढूंढने राधेश्याम, शंकर व किशन घर से निकले। तीनों भाई अलग-अलग दिशाओं में गये। 
राधेश्याम गुर्जर, जब अपने खेत पर गया तो उसे बड़ा भाई जोधा नीम के पेड़ से रस्से के सहारे झूलता मिला। यह देखकर राधेश्याम सहम उठा और वहां से चला गया। वह, नजदीक ही एक कुएं पर गया। जहां उसने रस्से से 70-80 किलो का पत्थर शरीर से बांध लिया और खुद भी कुएं में कूद गया। दोनों भाइयों की मौत हो गई। इन दोनों का पता दो अन्य भाइयों शंकर व किशन को तलाश के दौरान चला। इसके बाद पुलिस को सूचना दी। पुलिस मौके पर पहुंची और जोधा को फंदे से उतारा। वहीं कुएं का पानी तुड़वा कर राधेश्याम के शव को भी बाहर निकलवाया। दोनों शव जिला अस्पताल ले जाये गये, जहां पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिये गये। अभी यह पता नहीं चल पाया कि इन दोनों भाइयों ने किन कारणों के चलते खुदकुशी की। दोनों भाई शादीशुदा बताये गये हैं। दोनों के दो-दो बच्चे भी हैं। 


पेड़ से झूलने से पहले पीया कीटनाशक
पुलिस का कहना है कि पेड़ से लटके जौधा के पास व मौके पर किटनाशक की खाली शीशियां भी मिली। पुलिस का मानना है कि जौधा ने फंदे से लटकने से पहले कीटनाशक दवा का सेवन किया। ऐसे में माना जा रहा है कि जौधा किसी बात को लेकर ज्यादा परेशान था। इसी के चलते उसने यह कदम उठाया। 


कुएं के बाहर मिली चप्पल से चला पता
पहले बड़ा भाई व इसके बाद छोटा भाई लापता हो गया। दो अन्य भाई इनकी तलाश में जुट गये। जौधा, पेड़ से लटका मिला, जबकि राधेश्याम के चप्पल कुएं के बाहर पड़े मिले। इसके चलते राधेश्याम के कुएं में कूद कर जान देने का अंदेशा हुआ। पानी तुड़वाने पर राधेश्याम का शव कुएं में मिला। 


टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना